चिकित्सकों ने घर पर किया मरीजों को देखना बंद, अब ऐसे दे रहे कोरोना को मात

कोरोना वायरस ( Coronavirus ) संक्रमण से बचाव के लिए कई चिकित्सकों ने घर में रोगी देखना बंद कर दिया है। कुछ चिकित्सक अस्पताल से घर जा रहे है तो भी परिजनों से दूरी बनाकर रख रहे हैं ताकि संक्रमण का खतरा टाला जा सके...

चित्तौड़गढ़। कोरोना वायरस ( coronavirus ) संक्रमण से बचाव के लिए कई चिकित्सकों ने घर में रोगी देखना बंद कर दिया है। कुछ चिकित्सक अस्पताल से घर जा रहे है तो भी परिजनों से दूरी बनाकर रख रहे हैं ताकि संक्रमण का खतरा टाला जा सके। इसीलिए रोगियों को भी जरूरत होने पर अस्पताल ही आने के लिए कहा जा रहा है।


गर्भवती महिलाओं, बच्चों व बुर्जुगों पर खतरा
कोरोना वायरस संक्रमण के चलते गर्भवती महिलाओं, बच्चों व बुर्जुगों पर खतरा बढ़ गया है। चिकित्सकों की राय में भी इन्हें इस समय अतिरिक्त सावधानी बरतने की जरूरत है। चिकित्सक इस वर्ग के लोगों को घरों से बिल्कुल बाहर नहीं आने की सलाह दे रहे हैं।


कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वालों में अधिक फैलने का खतरा
कोरोना वायरस का संक्रमण कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वालों में अधिक फैलने का खतरा होने से सोशल मीडिया व अन्य माध्यमों से ये संदेश भी दिया जा रहा है कि लोग किस तरह अपने शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा सकते है। योग के साथ नीम,गिलोय आदि से बने काढ़े आदि के नियमित सेवन की सलाह भी इसके लिए दी जा रही है।


फिर दिखने लगे पारपम्परिक खेल
लॉकडाउन की स्थिति ने लोगों को घरों के भीतर कैद कर दिया तो अब समय बिताने के लिए उन्हें पारपम्परिक सांप-सीढी, लूडो, गोले बनाने आदि खेलों की खूब याद आ रही है। बच्चों के साथ बड़े भी ऐसे खेलों में सहभागी बन रहे हैं। ऑनलाइन गेम्स से अधिक लोग इन्हें प्राथामिकता दे रहे हैं।

coronavirus
dinesh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned