ये अपनी ही नहीं हमारी भी खतरे में डाल रहे जान

कोरोना वायरस से जंग जीतने के लिए जहां चिकित्साकर्मी, पुलिस से लेकर प्रशासन तक दिन-रात एक किए हुए है और लोगों को हर हाल में घरों में रहने के लिए समझा रहे है वहीं कुछ लोग अब भी खतरे की अनदेखी करते प्रतीत हो रहे है। चित्तौडग़ढ़ सहित पूरे देश में लॉकडाउन लागू हो गया जिसमें लोगों को आवश्यक कार्य नहीं होने पर घर में ही रहने की हिदाायत है। इसके बावजूद जिले व शहर में बिना ठोस कारण कई युवा सहित हर उम्र-वर्ग के लोग सड़कों पर घूमते नजर आए।

चित्तौडग़ढ़. कोरोना वायरस से जंग जीतने के लिए जहां चिकित्साकर्मी, पुलिस से लेकर प्रशासन तक दिन-रात एक किए हुए है और लोगों को हर हाल में घरों में रहने के लिए समझा रहे है वहीं कुछ लोग अब भी खतरे की अनदेखी करते प्रतीत हो रहे है। चित्तौडग़ढ़ सहित पूरे देश में लॉकडाउन लागू हो गया जिसमें लोगों को आवश्यक कार्य नहीं होने पर घर में ही रहने की हिदाायत है। इसके बावजूद जिले व शहर में बिना ठोस कारण कई युवा सहित हर उम्र-वर्ग के लोग सड़कों पर घूमते नजर आए। इसमें लापरवाही व चिंताा की बात ये थी कि ऐसे कई लोगों ने चेहरे पर मॉस्क भी नहीं लगा रखे थे। यानि स्वयं तो वायरस संक्रमित हो सकते थे वहीं ऐसा होकर उनके सम्पर्क में आए परिजनों, मित्रों, मोहल्ला व शहरवासी किसी को भी संक्रमित करने का खतरा उठा रहे थे। कई लोग तो परिजनों या मित्रों के संग वाहन पर बिना मॉस्क लगाए निकल सेहत सुरक्षा के प्रति बिल्कुल बेपरवाह दिखे। ऐसे लापरवाह होकर खुद के साथ दूसरों की जिंदगी खतरे में डालने वालों के प्रति सख्ती के संकेत भी प्रशासन ने दिए है। बाजार में लॉकडाउन में छूट पाने वाली जरूरी सामग्री की दुकाने खुलने पर वहां भीड़ के नाम पर कई बिना काम वाले लोग भी जमा हो रहे थे।

पुलिस व अधिकारियों ने भी समझाया
बिना मॉस्क लगाए और बिना कारण ही सड़कों पर घूम रहे लोगों को पुलिस व अधिकारियों ने समझाया। कलक्ट्रेट चौराहा पर तो आरटीओ जेपी बैरवा सहित पुलिस व परिवहन विभाग के अधिकारियों ने वाहन चालकों को रोक समझाया और घरों में ही रहने की हिदायत दी। उन्होंने कहा कि आप बाहर निकल कर संक्रमित होने का खतरा उठा रहे हो एवं दूसरों की जिंदगी भी खतरे में डाल रहे हो। कुछ वाहनचालकों के लापरवाही दिखाने पर उनके साथ सख्ती से भी पेश आया गया।
आपसी नजदीकी से फैल सकता संक्रमण
कोरोना वायरस संक्रमण का सबसे बड़ा खतरा मेन टू मेन या व्यक्ति से व्यक्ति के सम्पर्क में है। इसीलिए प्रधानमंत्री ने हाथ मिलाने की बजाय नमस्कार करने की अपील की है। बिना मॉस्क लगाए दो व्यक्तियों के नजदीक आने पर उनमें से किसी एक के होने की स्थिति में दूसरों को संक्र्रमित होने की आशंका बढ़ जाती है।

दूसरे राज्य से आए तो जरूरी 14 दिन होम आइसोलेशन
आपके गांव में अन्य प्रदेशों से आने वाले लोगो को बताए कि उनको उनके घर पर स्वयं को 14 दिन के लिये होम आइसोलेशन करना है। न तो कोई उनके घर जायें और न ही बाहर से आये व्यक्ति को घर से बाहर निकलने दें। ऐसे व्यक्तियों के बारे में चिकित्सा विभाग को भी सूचित करे। सीएमएचओ डॉ. इन्द्रजीतसिंह के अनुसार महिला स्वास्थ कार्यकर्ता द्वारा बाहर से सभी लोगों की सूची बना कर सर्विलेंस पर 14 दिन तक रखी जाएगी। यदि इस दौरान कोई लक्षण खाँसी, बुख़ार आदि होते हैं तो तुरंत उनको जिला अस्पताल रेफर किया जाएगा जहां उनका कोरोना वायरस के लिए सैम्पल उदयपुर भेजा जा सकेगा । बाहर से आये लोगों में कोई लक्षण न होने पर14 दिन घर पर रहे घबराएं नहीं।ये सुरक्षित रहेंगे तभी हमारा चित्तौडग़ढ़ सुरक्षित रहेगा।

Nilesh Kumar Kathed Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned