scriptNeither doctor nor staff, then how to improve health | ना चिकित्सक ना ही स्टाफ, फिर कैसे सुधरे स्वास्थ्य | Patrika News

ना चिकित्सक ना ही स्टाफ, फिर कैसे सुधरे स्वास्थ्य

चित्तौडग़ढ़. सरकार लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए एक ओर शिविर लगा रही है, वहीं दूसरी ओर जिले के कई उप स्वास्थ्य केन्द्रों में लोगों की समय पर जांच ही नहीं हो पा रही है। इतना ही नहीं चिकित्सक भी पर्याप्त नहीं होने से लोगों को समय पर उपचार भी नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में यहां आने वाले रोगियों को जांच के लिए या तो बाहर जाना पड़ रहा है या फिर निजी चिकित्सालयों पर अधिक दाम देकर जांचे कराने पर मजबूर हो रहा है। ऐसे में इन चिकित्सालयों में लगे जांच उपकरण यहां पर धूल चाट रहे है।

चित्तौड़गढ़

Published: November 15, 2021 05:49:44 pm

चित्तौडग़ढ़. सरकार लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए एक ओर शिविर लगा रही है, वहीं दूसरी ओर जिले के कई उप स्वास्थ्य केन्द्रों में लोगों की समय पर जांच ही नहीं हो पा रही है। इतना ही नहीं चिकित्सक भी पर्याप्त नहीं होने से लोगों को समय पर उपचार भी नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में यहां आने वाले रोगियों को जांच के लिए या तो बाहर जाना पड़ रहा है या फिर निजी चिकित्सालयों पर अधिक दाम देकर जांचे कराने पर मजबूर हो रहा है। ऐसे में इन चिकित्सालयों में लगे जांच उपकरण यहां पर धूल चाट रहे है।
जिले के कपासन विधानसभा क्षेत्र की बात करें तो क्षेत्र के भूपालसागर एवं आकोला में एक्सरे मशीनें तो लगी है लेकिन फिछले कई साल से इस मशीन के संचालन के लिए यहां पर रेडियोग्राफर ही नहीं है। ऐसे में लोगों को इन मशीनों के यहां लगे होने का कोई लाभ ही नहीं मिल रहा है। आकोला,जाशमा, ताना स्वास्थ्य केंद्रो पर तो चिकित्सक ही नहीं है ऐसे में ग्रामीणों को चिकित्सा सुविधाएं भी समय पर नहीं मिल पा रही है।
ना चिकित्सक ना ही स्टाफ, फिर कैसे सुधरे स्वास्थ्य
ना चिकित्सक ना ही स्टाफ, फिर कैसे सुधरे स्वास्थ्य
सबसे बड़ी पंचायत एक चिकित्सक के भरोसे
आकोला सीएचसी पर एक्सरे मशीन तो उपलब्ध है, लेकिन रेडियोग्राफर उपलब्ध नहीं। ऐसा नहीं है कि यहां रेडियोग्राफर का पद स्वीकृत नहीं है। अस्थाई तौर पर एकएनजीओं के माध्यम से यहां पर जांच की व्यवस्था की गई है। आकोला उपखण्ड की सबसे बड़ी पंचायत हे लेकिन यहां पर केवल एक चिकित्सक के भरोसे काम चल रहा है। यहां पर छह चिकित्सक के पद स्वीकृत है लेकिन यहां पर पांच पद खाली है। वहीं ताना स्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्सक को डेप्युटेशन पर भूपालसागर लगा रखा है। ऐसे में यहां पर बीसीएमओ को सेवाएं देनी पड़ रही है। वहीं जाशमा में दो चिकित्सक के पद रिक्त है लेकिन वहां पर एक भी कार्यरत नहीं है। ऐसे में यहां के लोगों को उपचार के लिए इधर-उधर भटकना पड़ रहा है।
एएनएम की भी कमी
भूपालसागर उपखण्ड क्षेत्र में एएनएम की भी कमी है। यहां पर कई केन्द्रों का भार पडौस में कार्यरत एएनएम के भरोसे है। ऐसे में उनके पास काम का बोझ बढ़ गया है।
महंगे दामों पर हो रही है जांचे
जिले में चिकित्सा व्यवस्था काफी लचर हो रही है। यहां पर अल्ट्रासाउण्ड की व्यवस्थ्या भी जिला मुख्यालय के बाद एक दो जगह ही है। ऐसे में लोगों को उदयपुर, चित्तौडग़ढ़ तक जाना पड़ता है। ऐसे में जहां पर जांच में अधिक राशि खर्च होती है वहीं आने-जाने में भी काफर राशि खर्च हो जाती है।
डेढ़ दशक के बाद मिला रेडियोग्राफर
भूपालसागर. उपखण्ड का केंद्र सीएचसी पर रेडियोग्राफर का स्वीकृत पद पिछले करीब 15 वर्षो से खाली पड़ा था, जिसे हाल ही में भरा गया है।

कई बार लिखा पत्र
ऐसा नहीं कि यहां पर रेडियोग्राफर की नियुक्ति के लिए प्रयास नहीं हुए हो। डॉ. जगदीश बावरी ने बताया कि इस सम्बन्ध में वे कई बार पत्र व्यवहार कर चुके है लेकिन कोई भी सार्थक परिणाम सामने नहीं आया है।
इनका कहना है..
भूपाल सागर में दो दिन पहले ही रेडियोग्राफर लगाया है आकोला में पद खाली है। आकोला में पांच, जाशम में दो चिकित्सक के पद रिक्त है। वहीं ब्लॉक में एएनएम के पद भी रिक्त होने से परेशानी हो रही है।
डॉ. रोहित कुमावत, बीसीएमओ भूपालसागर चित्तौडग़ढ़

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीUP Assembly Elections 2022 : हेमा, जया, स्मृति और राजबब्बर रिझाएंगें मतदाताओं को, स्टार प्रचारकों की लिस्ट में हैं शामिलस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाUttar Pradesh Assembly Elections 2022: सपा का महा गठबंधन अखिलेश के लिए बड़ी चुनौतीबजट से पहले 1 फरवरी को बुलाई गई विधायक दल की बैठक, यह है अहम कारण
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.