निम्बोदड़ा का परिणाम मात्र 7.69 प्रतिशत

चित्तौडग़ढ़. राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से दो दिन पूर्व घोषित दसवीं के परिणाम में इस बार मात्र 47 सरकारी विद्यालय ही ऐसे है जिन्होंने अपना शत प्रतिशत परिणाम दिया है। वहीं जिले के कुछ सरकारी विद्याालय ऐसे भी है जिनका परिणाम दस प्रतिशत से भी कम रहा है।

By: Avinash Chaturvedi

Published: 31 Jul 2020, 07:06 PM IST


चित्तौडग़ढ़. राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से दो दिन पूर्व घोषित दसवीं के परिणाम में इस बार मात्र 47 सरकारी विद्यालय ही ऐसे है जिन्होंने अपना शत प्रतिशत परिणाम दिया है। वहीं जिले के कुछ सरकारी विद्याालय ऐसे भी है जिनका परिणाम दस प्रतिशत से भी कम रहा है। दसवीं बोर्ड में जिले का संकलित परिणाम 76.14 प्रतिशत एवं प्रदेश में जिले नेेे 28 वां स्थान हासिल किया है। वहीं गत साल की तुलना में परिणाम में 0.81 का इजाफा हुआ। लेकिन कई सरकारी विद्यालयों का प्रदर्शन काफी खराब रहने से जिले का दसवीं का परिणाम पर असर आया है। वहीं स्वयंपाठी छात्रों को परिणाम भी मात्र दो प्रतिशत ही रहा है। वहीं जिले के २८ निजी विद्याालय ही शत प्रतिशत परिणाम दे पाए है। वहीं जिले के दो निजी विद्याालयों ने तो शून्य परिणाम दिया है।
यू समझे आंकड़े
जिले के 388 सरकारी स्कूलों के 12772 विद्यार्थी प्रविष्ट हुए। इसमें से 9560 पास हुए तथा परिणाम 74.85 प्रतिशत रहा। इसी प्रकार जिले के 158 निजी स्कूलों के 4224 प्रविष्ट हुए और 3388 पास हुए तथा परिणाम 80.27 प्रतिशत रहा। व्यवसायिक शिक्षा में जिले के 17 सरकारी स्कूलों के 644 प्रविष्ट एवं 518 पास हुए तथा परिणाम 80.43 प्रतिशत रहा।
11 का रिणाम 30 प्रतिशत से कम
जिले में 11 विद्यालय ऐसे जो 30 प्रतिशत भी परिणाम नहीं दे पाए। जल्द ही इन स्कूलों को नोटिस देकर जवाब मांगा जाएगा। जिनका परिणाम 30 प्रतिशत से न्यून रहा और उनके यहां पर स्टाफ की पॉजीशन अच्छी या ठीक थीं ऐसे में कार्मिकों को नोटिस जारी कर कार्रवाई करेगा।
यहां रहा दस प्रतिशत से कम
जिले की राजकी उच्च माध्यमिक विद्यालय निम्बोदड़ा को परीक्षा परिणाम मात्र 7.69 प्रतिशत रहा है। इस विद्याालय में कुल 13 विद्यार्थियों ने परीक्षा दी थीं इसमें से एक प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण हुआ। वहीं सरस्वती स्कूल कुंभानगर एवं गांघी समाज माध्यमिक विद्यालय मंगलवाड़ का परिणाम शून्य रहा है।
सरकारी के 1682, निजी के 479 बच्चे हुए फैल
दसवीं बोर्ड में सरकारी स्कूलों के 12772 विधार्थी प्रविष्ठ हुए। इसमें से प्रथम श्रेणी से 2325, द्वितीय श्रेणी से 5383, तृतीय श्रेणी से 1852 पास हुए जबकि 1682 विद्यार्थी फैल हो गए। इसी प्रकार निजी स्कूलों के प्रविष्ट 4221 में से 3388 पास हुए। प्रथम श्रेणी से 1628, द्वितीय श्रेणी से 1416 व तृतीय श्रेणी से 344 पास हुए, जबकि 479 विधार्थी फैल हो गए। इसी प्रकार व्यवसायिक शिक्षा के सरकारी स्कूलों के प्रविष्ट 644 मेें से 518 बच्चे पास हुए। प्रथम श्रेणी से 245 द्वितीय श्रेणी से 253 एवं तृतीय श्रेणी से 20 विद्यार्थी पास एवं 43 विद्यार्थी फैल हुए।

Avinash Chaturvedi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned