कोरोना काल में भा गया पनीर, रोजना चार क्विंटल से ज्यादा खपत

कोरोना काल में जिले के लोगों में सेहत को लेकर जागरूकता आई है। अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रोटीन की पूर्ति को लेकर पनीर लोगों की पसंद बन गया है।

By: jitender saran

Updated: 27 Jun 2021, 11:30 AM IST

चित्तौडग़ढ़
कोरोना काल में सेहतमंद रहने के लिए अब हर घर में पनीर का उपयोग हो रहा है। अकेली चित्तौडग़ढ़ डेयरी ही प्रतिदिन 2.30 क्विंटल पनीर की आपूर्ति कर रही है। इसके अलावा जिले में कई दुकानों पर भी पनीर बनाकर बेचा जा रहा है। कुछ अन्य कंपनियों ने भी पनीर के पैकेट बाजार में उतार दिए हैं। जिले में प्रतिदिन करीब चार क्ंिवटल पनीर की खपत हो रही है। यह खपत कोरोना काल में बढी है। लॉक डाउन में जब सब्जियां नहीं मिल पा रही थी, उस समय भी लोगों ने पनीर का उपयोग सब्जी बनाने में किया। चित्तौड़ डेयरी अध्यक्ष बद्रीलाल जगपुरा ने बताया कि डेयरी में प्रतिदिन ताजा पनीर तैयार करके बूथों के मार्फत लोगों को उपलब्ध कराया जा रहा है। जिले में पनीर की मांग लगातार बढती जा रही है। इसके अलावा ऐसे शाकाहारी लोग, जो जिम में व्यायाम करते हैं, वे भी प्रोटीन की पूर्ति के लिए पनीर का भरपूर उपयोग कर रहे हैं।

निम्बाहेड़ा में खुलेंगे बीस नए बूथ
डेयरी अध्यक्ष जगपुरा ने बताया कि डेयरी उत्पाद की बढती मांग को देखते हुए निम्बाहेड़ा में बीस नए डेयरी बूथ जल्द ही खोले जाएंगे। जहां डेयरी के उत्पाद उपलब्ध कराए जाएंगे।

52 हजार लीटर दूध का संकलन
चित्तौडग़ड़ डेयरी में वर्तमान में प्रतिदिन करीब ५२ हजार लीटर दूध का संकलन किया जा रहा है। इसकी मात्रा बढाने की दिशा में निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं। वहीं डेयरी उत्पाद बढाने की दिशा में भी विचार किया जा रहा है।

डेयरी के बाहर खुलेगा पार्लर
डेयरी अध्यक्ष ने बताया कि चित्तौडग़ढ़ में डेयरी के बाहर जल्द ही पार्लर खोला जाएगा, जहां डेयरी के ताजा उत्पाद उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके अलावा नगर परिषद की ओर से रेलवे फाटक के पास शुरू की जा रही चौपाटी में भी डेयरी का पार्लर खोलने के लिए नगर परिषद से बातचीत की जाएगी। नए उत्पाद की कड़ी में अब जल्द ही फ्लेवर्ड दूध की बिक्री भी शुरू की जाएगी।

डेयरी चखा रही गुंजो का स्वाद
चित्तौडग़ढ़ के निवासियों में मावे से तैयार होने वाले गुंजों का भी खासा क्रेज रहा है। इसी को ध्यान में रखते हुए अब डेयरी ने गुंजों का उत्पादन भी शुरू कर दिया है। शुरुआती तौर पर अभी प्रतिदिन दस किलो गुंजे तैयार किए जा रहे हैं। मांग के आधार पर इनका उत्पादन बढाने पर विचार किया जाएगा।

jitender saran Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned