पुलिस हिरासत में खाया जहर, थाना प्रभारी व एएसआई लाइन हाजिर

धोखाधड़ी के एक मामले में हिरासत में लिए गए आरोपी ने शनिवार को आधी रात बाद पुलिस हिरासत में विषाक्त सेवन कर लिया। तबीयत बिगडऩे पर उसे यहां सांवलियाजी राजकीय सामान्य चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। इस मामले में चंदेरिया थाना प्रभारी अनिल जोशी व सहायक उप निरीक्षक विमल कुमार को लाइन हाजिर कर दिया है। रविवार देर शाम महानिरीक्षक उदयपुर रेंज कार्यालय से अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक जांच के लिए चित्तौडग़ढ़ पहुंचे।

By: jitender saran

Published: 08 Dec 2019, 10:49 PM IST

चित्तौडग़ढ़
जानकारी के अनुसार वल्लभ नगर के पुरिया खेड़ी गांव के ईश्वरसिंह (४०) पुत्र खुमानसिंह के खिलाफ यहां चंदेरिया थाने में सीमेंट खुर्दबुर्द कर धोखाधड़ी करने का एक मामला दर्ज हुआ था। इस मामले में चंदेरिया थाना पुलिस की एक टीम ६ दिसंबर की रात करीब ११ बजे ईश्वरसिंह को उसके गांव से एक कार में बिठाकर चित्तौडग़ढ़ के लिए रवाना हुई। रास्ते में कपासन मार्ग स्थित एक ढाबे पर पुलिसकर्मियों ने खाना खाया। इस दौरान लघुशंका जाने की बात कहकर ईश्वरसिंह ने अपनी जेब में रखा विषाक्त सेवन कर लिया। इसके बाद पुलिसकर्मी उसे चंदेरिया थाने ले गए, जहां देर रात उसे उल्टी की शिकायत हुई। पुलिसकर्मियों को ईश्वरसिंह ने बताया कि उसने विषाक्त सेवन कर लिया है। यह बात सुनकर थाने के स्टाफ के हाथ-पांव फूल गए। उसे रात करीब तीन बजे यहां सांवलियाजी राजकीय सामान्य चिकित्सालय के आईसीयू में भर्ती कराया गया। जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। उसकी किडनियों ने काम करना बंद कर दिया है।
इधर सूचना मिलने के बाद पुलिस महानिरीक्षक उदयपुर रेंज विनिता ठाकुर ने इस मामले में चंदेरिया थाना प्रभारी अनिल जोशी व सहायक उप निरीक्षक विमल कुमार को लाइन हाजिर कर दिया है। मामले की जांच आईजी कार्यालय में कार्यरत अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दशरथसिंह को मामले की जांच सौंपी गई है। सिंह रविवार शाम जांच के लिए सांवलिया जी अस्पताल पहुंचे। इस बीच कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए सांवलियाजी अस्पताल में सदर थाना, चंदेरिया थानो, शंभूपुरा, विजयपुर और बस्सी थाना प्रभारियों सहित पुलिस जाप्ता तैनात किया गया है।
इधर ईश्वरसिंह की पत्नी सूरज कंवर ने बताया कि उसके पति को ६ दिसंबर को रात्रि ग्यारह बजे चार व्यक्ति जबरन कार में ले गए। इसके बाद ८ दिसंबर को रात्रि तीन बजे उसके जेठ जनकसिंह के पास फोन आया कि ईश्वरसिंह अस्पताल में भर्ती है। ज्ञापन में आरोप लगाया कि पुलिस ने ईश्वरसिंह को प्रताडि़त किया।
बयान में बोला, कर्ज से था परेशान इसलिए खाया जहर
अस्पताल में भर्ती ईश्वरसिंह की हालत गंभीर होने से पुलिस ने उसके मजिस्ट्रेट बयान करवाने के लिए प्रार्थना पत्र पेश किया। इसके बाद एमजेएम अमित दवे अस्पताल पहुंचे और अपनी मौजूदगी में ईश्वरसिंह के बयान लिए। बताया जा रहा है कि ईश्वरसिंह ने अपने बयान में कहा है कि उस पर कर्जा हो गया है। इससे परेशान होकर उसने विषाक्त सेवन किया है। जबकि परिजनों का कहना है कि उस पर कोई कर्जा नहीं था।
धोखाधड़ी का मामला दर्ज है
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सरिता सिंह ने बताया कि ईश्वर सिंह के खिलाफ ट्रोला व सीमेंट खुर्द-बुर्द कर धोखाधड़ी करने का मामला चंदेरिया थाने में दर्ज हुआ था। इसी सिलसिले में पुलिस उससे पूछताछ कर रही थी। पुलिस ईश्वर सिंह को लेकर कई जगह गई। उसने ट्रोले का आधा हिस्सा एक जगह और आधा हिस्सा उदयपुर में कहीं रखवा दिया था। इसके बाद सीमेंट का उसने क्या किया, इस बारे में पुलिस पूछताछ कर रही थी, लेकिन वह पुलिस को गुमराह कर रहा था। इस सारी प्रक्रिया में पुलिस के अलावा उसके परिजन भी साथ थे, जिनकी मौजूदगी में पुलिस ने पूछताछ की थी। इसके बाद पुलिस उसे लेकर चंदेरिया थाने के लिए रवाना हुई थी। रास्ते में एक ढाबे पर खाना खाने के दौरान लघुशंका के बहाने उसने विषाक्त सेवन कर लिया, जिसकी बाद में तबीयत बिगड़ गई।
ये पहुंचे अस्पताल
पुलिस हिरासत में विषाक्त सेवन के बाद ईश्वरसिंह को अस्पताल में भर्ती करवाने के बाद उपखण्ड अधिकारी तेजस्वी राणा, पुलिस उप अधीक्षक चित्तौडग़ढ़ कमल प्रसाद मीणा, सदर थाना प्रभारी विक्रमसिंह, बस्सी थाना प्रभारी विनोद मेनारिया, शंभूपुरा थाना प्रभारी प्रवीणसिंह राजपुरोहित, विजयपुर थाना प्रभारी ओंकारसिंह सहित कई पुलिस अधिकारी अस्पताल पहुंचे।

jitender saran Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned