चित्तौडग़ढ़. अधिवक्ता हमेशा समाज को प्रेरित करने व जागरूक करने का कार्य करते आए है। वर्तमान में जब राजनीति में अपराध व भ्रष्टाचार का बोलबाला हो रहा है उस समय भी स्वच्छ राजनीति को बढ़ावा देने के लिए अधिवक्ताओं को आगे आना होगा एवं राजनीतिक स्वच्छता के लिए चलाए जा रहे पत्रिका के महाभियान चेंजमकर्स में सहभागिता निभानी होगी। येे विचार गुरूवार दोपहर चेंजमकर्स महाभियान के तहत राजस्थान पत्रिका एवं जिला अभिभाषक संस्थान के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित वकीलों की सभा में उभरकर आए।वरिष्ठ अधिवक्ता कन्हैयालाल श्रीमाली ने कहा कि राजस्थान पत्रिका ने समाज में बदलाव के लिए जो अभियान चलाया, उसके सकारात्मक परिणाम आए हैं। राजनीति में युवा वर्ग खासकर शिक्षित, ईमानदार और अच्छे लोगों का जुडऩा जरूरी है। ऐसा नहीं होने पर ही भ्रष्टाचारी और आपराधिक छवि के लोगों को राजनीति में मौका मिल जाता है। जनता ही असली चेंजमेकर है जो बुरे लोगों को परास्त कर सकती है। अभिभाषक संघ के अध्यक्ष प्रदीप काबरा ने कहा कि राजनीति का स्वच्छ होना आवश्यक है। पिछले कुछ समय से समाज में बदलाव आया है। राजनीति में बदलाव में अधिवक्ताओं की भी प्रभावी भूमिका है। राजनीति में स्वच्छता और शुचिता के लिए सज्जनों का आगे आना जरूरी है अन्यथा दुर्जनों का मौका मिल जाता है। रमेश दशोरा ने कहा कि राजनीति को स्वच्छ बनाने के लिए इस तरह के अभियान चलाना जरूरी है। जनता के वोट को खरीदने के लिए होने वाले भ्रष्टाचार पर लगाम लगनी चाहिए। वरिष्ठ अधिवक्ता किशनलाल अहीर ने कहा कि सभी राजनीतिक पार्टियों में स्वच्छता जरूरी है। चेंज के लिए पूरी राजनीति में बड़े बदलाव की जरूरत है। अधिवक्ता उमाशंकर दाधीच ने कहा कि राजनीति में जन सेवा करने वालों को प्राथमिकता देनी चाहिए। आरीफ अली ने कहा कि पत्रिका का यह अभियान तारीफ के काबिल है। हमें लकीर के फकीर बन कर नहीं रहना चाहिए। बदलाव के लिए हम ही प्रयास करना होगा। विधायक और सांसदों की शैक्षिक योग्यता कम से कम स्नातक होनी चाहिए। महेन्द्र सिंह मेड़तिया ने कहा कि राजनीति में आने के लिए शैक्षिक योग्यता अनिवार्य होनी चाहिए। इसके संजय सुहालका ने कहा कि राजनीति में बदलाव का चेंजमेकर देश का आम मतदाता है। राजनीति में किसे लाना, किसे नहीं लाना यह आम मतदाता को तय करना है। महिला अधिवक्ता प्रेमलता गोस्वामी ने कहा कि वर्षों से राजनीति में एक सा ढर्रा देखा गया है। इसके लिए बदलाव जरूरी है। उमाशंकर दाधीच ने कहा कि राजनीति में पारदर्शिता होना जरूरी है। जनप्रतिनिधियों को जिस प्ररिपेक्ष्य के लिए चुना गया उसे नहीं भूलना चाहिए। राजू बंजारा ने कहा कि दागी की बजाय स्वच्छ को अवसर देने पर ही हालात बदलेंगे। कृष्णगोपाल गदिया ने कहा कि चेंजमेकर अभियान अच्छे लोगों को राजनीति में आगे आने के लिए प्रेरित करनेे वाला है। कमलेश शर्मा ने कहा कि संविधान बनाने में हर वर्ग की अहम भूमिका रही एवं अब सभी को स्वच्छ राजनीतिक वातावरण बनाने के लिए सक्रिय होना होगा। राजस्थान पत्रिका चित्तौडग़ढ़ कार्यालय के ब्यूरो प्रभारी निलेश कांठेड़ ने अधिवक्ताओं को चेंजमेकर अभियान के उद्देश्यों के बारे में बताया। आभार जिला अभिभराषक संस्थान के सचिव शैलेन्द्रसिंह राव ने जताया।
राजनीति से पहले बदलना होगा समाज को
अभिभाषक संस्थान परिसर में आयोजित सभा में वरिष्ठ अधिवक्ता एवं पूर्व विधायक कैलाश झंवर ने कहा कि राजनीतिक दल अपराधिक और भ्रष्ट लोगों को टिकिट देंगे और ये जीत जाएंगे तो इनका बोलबाला होगा। राजनीति में स्वच्छता से पहले समाज में स्वच्छता को बढ़ावा देना होगा। जब समाज जातिवाद, अपराध, भ्रष्टाचार से प्रभावित नहीं होगा तो राजनीति बदल जाएगी।समाज को जागरूक करने की जरूरत है। अधिवक्ता नरेन्द्र पोखरना ने कहा कि राजनीति में जातिवाद, धनबल, भूजबल का खात्मा जरूरी है। अपने क्षेत्र में सामाजिक प्रतिष्ठा वाला राजनेता होना चाहिए। जिस पर भ्रष्टाचार का कोई आरोप नहीं होना चाहिए। राजनीति में बदलाव के लिए युवा और स्वच्छ छवि वालों को आगे आना चाहिए।
इन्होंने भी निभाई भागीदारी
कार्यक्रम में अधिवक्ता प्रतापसिंह पंवार,श्यामलाल दायमा, मालम सिंह, रमेशचन्द्र गर्ग, राजेन्द्र सिंह, रेखा कुमावत, एसपी सिंह राठौड़, प्रकाश शर्मा, रवि बाथरा सहित कई अधिवक्ताओं ने भी भागीदारी की। अधिवक्ताओं ने चेंजमेकर बनने के लिए भी उत्सुकता दिखाई एवं कुछ अधिवक्ताओं ने इसके लिए एप्प डाउनलोड कर पंजीयन भी किया।



 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned