चित्तौडग़ढ. महाराणा प्रताप राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में मंगलवार को सांस्कृतिक प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इसमें एकल नृत्यों के माध्यम से युवा छात्र-छात्राओं ने प्रतिभा प्रदर्शन किया। दिल की पतंग देखों उड़ी-उड़ी जाए एवं तु कि जाने प्यार मेरा आदि गीतों पर नृत्यों की प्रस्तुति दी तो विद्यार्थी झूम उठे। समूह नृृत्य प्रतियोगिता के लिए कोई प्रविष्ट प्राप्त नहीं हुई। छात्रसंघ अध्यक्ष पहलवान सालवी ने बताया कि डॉ. बीएल आचार्य की अध्यक्षता एवं प्रो. आरएस पंवार के मुख्य आतिथ्यि में मां सरस्वती की वंदना व दीप प्रज्ज्वलन के साथ कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ। अध्यक्षीय उद्बोधन में प्राचार्य ने छात्र-छात्राओं के जोश एवं उत्साह की सहराहना करते हुए कार्यक्रम की गरिमा बनाए रखने पर जोर दिया। एकल नृत्य प्रतियोगितता में महाविद्यालय के 22 छात्र-छात्राओं ने रोचक प्रस्तुतियां दी।
दो दिवसीय प्रतियोगिताओं में एकल गान में प्रथम रोनक वैष्णव एवं सिद्वार्थ मेहता, द्वितीय निषा पंवार एवं तृतीय लक्षिता घारू व शिवम् सोनी रहें। इसी प्रकार एकल नृत्य में कृतिका जोशी प्रथम, सलोनी जोशी द्वितीय एवं नेहा सिसोदिया तृतीय रही। निर्णय डॉ. अखिलेश चाष्टा, डॉ. हेमलता महावर एवं डॉ. सुषमा लोठ ने किया । कार्यक्रम का संचालन डॉ. आषुतोष व्यास ने किया। कार्यक्रम में डॉ. डीपी गोयल, डॉ. सुमन डाड, डॉ. पूनम शैरी डॉ. गौतम कुकडा, डॉ. भरत वैष्णव, डॉ. दीपक पंचोली, संजु बालोत, नाथू लाल गुर्जर, उपाध्यक्ष षिवानी बोहरा, महासचिव ललिता रेगर, संयुक्त सचिव किशन लाल जाट ने सहयोग किया डॉ. विनय शर्मा ने आभार व्यक्त किया ।

 

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned