दुर्ग के प्राचीन कुण्ड और बावडिय़ों के फिरेंगे दिन

चित्तौड़ दुर्ग पर अपना इतिहास बयां कर रहे प्राचीन कुण्ड और बावडिय़ों के अब जल्द ही दिन फिरने वाले हैं। इन जल स्त्रोतों की साफ-सफाई को लेकर जिला कलक्टर व नगर परिषद सभापति ने दुर्ग पहुंचकर जायजा लिया।

By: jitender saran

Published: 11 Jun 2021, 10:04 AM IST

चित्तौडग़ढ़
जिला कलक्टर ताराचंद मीणा व नगर परिषद सभापति संदीप शर्मा ने चितौड़ दुर्ग की प्राचीन बावडिय़ो एवं कुण्ड का अवलोकन कर जल स्त्रोतों मे जल संवर्धन एवं संरक्षण को लेकर की चर्चा की। इस दौरान जिला कलक्टर ने नगर विकास न्यास, नगर परिषद एवं पुरातत्व विभाग के अधिकारियों के साथ दुर्ग स्थित प्राचीन बावडिय़ो एवं कुण्ड का अवलोकन करते हुए इनकी सफाई के निर्देश दिए। पुरातत्व विभाग के अधिकारियों ने बताया कि दुर्ग पर अधिकाशं कुण्ड आ बावडिय़ों की सफाई व आवश्यक रख-रखाव को लेकर निविदाएं जारी की जा चुकी है। जो प्रक्रियाधीन है। इस दौरान जिला प्रशासन एवं नगर परिषद द्वारा दुर्ग पर स्थित भीमघोड़ी, कूकड़ेश्वर कुण्ड की सफाई तथा उसमें समाहित होने वाले जल के संर्वधन एवं संरक्षण का कार्य अपने हाथ में लिया। जिला कलक्टर ने अवलोकन के दौरान दुर्ग के पार्षद अशोक वैष्णव, अनिल सोनी सहित दुर्ग वासियों से चर्चा कर दुर्ग पर पर्यटन को बढावा देने के लिए किए जाने वाले प्रयासों पर विस्तृत चर्चा की। उन्होंने पुरातत्व विभाग को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। जिला एवं सत्र न्यायाधीश व जिला कलक्टर ताराचंद मीणा एक बार फिर दुर्ग स्थित प्राचीन बावडिय़ों एवं कुण्ड का अवलोकन करेंगे। इस अवसर पर यूआईटी सचिव सीडी चारण, नगर परिषद आयुक्त रिंकल गुप्ता, अधिशासी अभियन्ता महेन्द्र प्रकाश व्यास, नगर नियोजक मनमोहन जैन आदि उपस्थित थे।

jitender saran Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned