scriptThe family of farmers gathered on the fields, sowing of Kharif crossed | खेतों पर जुटा किसानों का कुनबा, खरीफ की बुवाई अस्सी फीसदी पार | Patrika News

खेतों पर जुटा किसानों का कुनबा, खरीफ की बुवाई अस्सी फीसदी पार

चित्तौडग़ढ़ जिले में अबकी बार के मानसून की बरसात होते ही किसानों का कुनबा बुवाई को लेकर खेतों पर जुट गया है। दिन में अब गांवों की चौपालें सूनी होने लगी है। कृषि विभाग की ओर से तय लक्ष्य के मुकाबले जिले में अब तक खरीफ फसलों की बुवाई ८१.५३ फीसदी हो चुकी है।

चित्तौड़गढ़

Published: July 12, 2022 09:07:06 pm

चित्तौडग़ढ़
चित्तौडग़ढ़ जिले में अबकी बार के मानसून की बरसात होते ही किसानों का कुनबा बुवाई को लेकर खेतों पर जुट गया है। दिन में अब गांवों की चौपालें सूनी होने लगी है। कृषि विभाग की ओर से तय लक्ष्य के मुकाबले जिले में अब तक खरीफ फसलों की बुवाई ८१.५३ फीसदी हो चुकी है।
कृषि विभाग ने इस वर्ष खरीफ फसलों की ३.२४ लाख हैक्टेयर क्षेत्र में बुवाई का लक्ष्य तय किया था। इसके मुकाबले सोमवार तक जिले में २ लाख ६४ हजार १५९ हैक्टेयर में खरीफ फसलों की बुवाई हो चुकी है, जो लक्ष्य के मुकाबले ८१.५३ प्रतिशत है।
खेतों पर जुटा किसानों का कुनबा, खरीफ की बुवाई अस्सी फीसदी पार
खेतों पर जुटा किसानों का कुनबा, खरीफ की बुवाई अस्सी फीसदी पार
मक्का पसंद, सोयाबीन ने किया लक्ष्य पार
खरीफ की बुवाई को लेकर हालाकि इस बार भी किसानों की पहली पसंद मक्का की बुवाई बनी हुई है। कृषि विभाग ने इस बार जिले मेें १.४१ लाख हैक्टेयर क्षेत्र में मक्का की बुवाई का लक्ष्य तय किया था। इसके मुकाबले जिले में अब तक १ लाख १५ हजार ९९२ हैक्टेयर क्षेत्र में किसान मक्का की बुवाई कर चुके हैं, जो लक्ष्य के मुकाबले ८२.२६ प्रतिशत है। मक्का की बुवाई का रकबा भले ही ज्यादा है पर सोयाबीन भी किसानों के बीच अपना वजूद बनाए हुए हैं। विभाग ने इस बार ८८ हजार हैक्टेयर क्षेत्र में सोयाबीन की बुवाई का लक्ष्य तय किया है। इसके मुकाबले जिले में अब तक ९० हजार ४३२ हैक्टेयर क्षेत्र में सोयाबीन की बुवाई की जा चुकी है। यह लक्ष्य के मुकाबले १०२.७६ फीसदी है।
तिल को नहीं तवज्जो, मूंगफली पर है जोर
तिलहनी फसलों में इस बार भी किसानों ने तिल की बुवाई को इतना महत्व नहीं दिया है। इसकी अपेक्षा किसान मूंगफली की बुवाई को लेकर उत्साहित है। जिले में विभाग ने इस बार एक हजार हैक्टेयर क्षेत्र में तिल की बुवाई का लक्ष्य तय किया था। इसके मुकाबले सोमवार तक सिर्फ २६३ हैक्टेयर क्षेत्र यानी २६.३० प्रतिशत बुवाई ही हुई है। जबकि मूंगफली का लक्ष्य २७ हजार हैक्टेयर क्षेत्र है और इसके मुकाबले अब तक २५ हजार ३७९ हैक्टेयर यानी ९४ प्रतिशत बुवाई हो चुकी है।
वाणिज्कि फसल में कपास आगे, गन्ना दूसरे नंबर पर
खरीफ की वाणिज्यिक फसलों में सर्वाधिक बुवाई कपास की हुई है। कृषि विभाग ने इस बार दस हजार हैक्टेयर क्षेत्र में कपास की बुवाई का लक्ष्य तय किया है। इसके मुकाबले अब तक ४ हजार ३४१ हैक्टेयर क्षेत्र में कपास की बुवाई हो चुकी है, जो लक्ष्य के मुकाबले ४३.४१ प्रतिशत है। इसी तरह गन्ने की बुवाई का लक्ष्य एक हजार हैक्टेयर क्षेत्र तय किया गया था। जिले में लक्ष्य के मुकाबले अब तक ९९१ हैक्टेयर क्षेत्र में गन्ने की बुवाई हो चुकी है। यह लक्ष्य के मुकाबले ९९.१० प्रतिशत है।
यूरिया की पर्याप्त उपलब्धता का दावा
कृषि विभाग के सहायक निदेशक डॉ. शंकरलाल जाट ने बताया कि जिले में करीब ३५ हजार मैट्रिक टन यूरिया की मांग है। अब तक किसानों को करीब छह हजार मैट्रिक टन यूरिया उपलब्ध करवाई जा चुकी है और विभाग के पास २१ हजार ९८५ मैट्रिक टन यूरिया अभी भी उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि यूरिया की एक और खेप चित्तौडग़ढ़ पहुंचने वाली है। यूरिया को लेकर किसानों को कोई परेशानी नहीं आएगी। साथ ही डॉ. जाट ने किसानों से यह भी अपील की है कि वे तय मापदण्ड के अनुसार ही यूरिया का उपयोग करें। आवश्यकता से अधिक यूरिया के उपयोग से फसल पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। जिले में पिछले साल १०२८.५० मिमी. बारिश हुई थी। जिले में बारिश का औसत ७५० मिमी. है।
खेतों में जुटे किसानों के परिवार
जिले में बारिश का दौर शुरू होने के बाद खरीफ फसलों की बुवाई को लेकर किसानों के परिवार अब खेतों पर कृषि कार्य में जुट गए हैं। ऐसे में दिन में गांवों की चौपालें भी सूनी नजर आने लगी है। इसके अलावा खाद-बीज की दुकानों पर भी किसानों की आवाजाही बढने लगी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

NSA अजीत डोभाल की सुरक्षा में चूक को लेकर केंद्र का बड़ा एक्शन, हटाए गए 3 कमांडो'रूसी तेल खरीदकर हमारा खून खरीद रहा है भारत', यूक्रेन के विदेश मंत्री Dmytro KulebaNagpur Crime: डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस के घर के बाहर मजदूर ने किया सुसाइड, मचा हड़कंपरोहिंग्या शरणार्थियों को फ्लैट देने की खबर है झूठी, गृह मंत्रालय ने कहा- केंद्र ने ऐसा कोई आदेश नहीं दियालालू यादव ने बताया 2024 का प्लान, बोले- तानाशाह सरकार को हटाना हमारा मकसद, सुशील मोदी को बताया झूठाPunjab Bomb Scare: अमृतसर में SI की गाड़ी में बम लगाने वाले दो आरोपी दिल्ली से गिरफ्तार, कनाडा भागने की फिराक में थेगुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, वरिष्ठ नेता नरेश रावल और राजू परमार ने थामी भाजपा की कमानशाबाश भावना: यूरोप की सबसे बड़ी चोटी भी नहीं डिगा पाई मध्यप्रदेश की बेटी का हौसला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.