scriptThe helpless get peace by donating food and clothes | पितृ श्राद्ध पक्ष असहायों को अन्न और वस्त्रदान से मिलती है पितरों शांति | Patrika News

पितृ श्राद्ध पक्ष असहायों को अन्न और वस्त्रदान से मिलती है पितरों शांति

चित्तौडग़ढ़. हिंदू पंचांग के अनुसार भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि के दिन पितृ पक्ष (श्राद्ध) की शुरुआत होती है। इस वर्ष पूर्णिमा तिथि यानि 10 सितंबर 2022 शुक्रवार से यह पक्ष शुरू हो रहा है। जो 25 सितंबर 2022 को समाप्त होगा। इस पक्ष में असहायों को अन्न और वस्त्रदान करने चाहिए।

चित्तौड़गढ़

Published: September 09, 2022 06:03:17 pm

चित्तौडग़ढ़. हिंदू पंचांग के अनुसार भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि के दिन पितृ पक्ष (श्राद्ध) की शुरुआत होती है। इस वर्ष पूर्णिमा तिथि यानि 10 सितंबर 2022 शुक्रवार से यह पक्ष शुरू हो रहा है। जो 25 सितंबर 2022 को समाप्त होगा। इस पक्ष में असहायों को अन्न और वस्त्रदान करने चाहिए।
वेद विद्यापीठ समन्वयक डॉ. संजय गील के अनुसार जो लोग अब इस संसार में नहीं है उन्हें पितरो की श्रेणी में मानते हुए शांति के लिए श्राद्ध कर्म अवश्य किया जाना चाहिए। इससे वे अपने वंश को आशीर्वाद देते हैं।
यह है मान्यता
हिंदू धर्म में किसी की मृत्यु के बाद उस व्यक्ति का श्राद्ध किया जाना जरूरी होता है, मान्यता है यदि विधि.विधान से पितरों का तर्पण न किया जाए तो उनको मुक्ति प्राप्त नहीं होती एवं श्राद्ध करने से उनकी आत्मा को शांति मिलती है। मान्यता है कि इन 15 दिवसों तक पितर धरती पर रहते है।
यह रखें सावधानी
सनातन धर्म में तामसिक भोजन को पितृपक्ष में वर्जित माना गया है अत: एक व्यक्ति को चाहिए कि वह पितृपक्ष की अवधि के दौरान मांसाहार लहसुन, प्याज, मसूर और चने की दाल, मांस मदिरा का सेवन नहीं करें। यदि संभव हो तो नाखून काटने बाल एवं दाढ़ी बनवाने से भी बचना चाहिए।
पितृ श्राद्ध पक्ष
पितृ श्राद्ध पक्ष
ऐसे करें पितरों को प्रसन्न
पितर को प्रसन्न करने व उनका आशीर्वाद पाने के लिए पितृ पक्ष उनका तर्पण अवश्य करना चाहिए। इस दौरान दान करने से भी पुण्य मिलता है। साथ ही कुछ नियमों का भी पालन करना अनिवार्य होता है।
पितृ पक्ष में हम अपने पितरों को नियमित रूप से जल अर्पित करें यह जल दक्षिण दिशा की ओर मुंह करके किया जाना चाहिए। जल में काला तिल और हाथ में कुशा को रखकर इसे अपनाएं तो निश्चित ही पूर्वज प्रसन्न होते हैं, जिस दिवस पर पूर्वज का देहांत हुआ हो उसी दिन अन्न और वस्त्र का दान अगर योग्य ब्राह्मण अथवा निर्धन को किया जाना चाहिए।
पितृ पक्ष के मुहूर्त
पितृ पक्ष श्राद्ध भी पर्व के समान ही है अत: इनका निष्पादन भी कुतुप और रोहिना मुहूर्त में किया जाना चाहिये। कुतुप मुहूर्त दोपहर 12.11 से प्रारंभ होकर 1 बजे तक होता है वही रोहिना मुहूर्त अपराह्न 1 से 01.49 बजे तक रहेगा।
श्राद्ध 2022 की प्रमुख तिथियां
प्रतिपदा श्राद्ध 10 सितंबर 2022
द्वितीया श्राद्ध 11 सितंबर 2022
तृतीया श्राद्ध 12 सितंबर 2022
चतुर्थी का श्राद्ध 13 सितंबर 2022
पंचमी श्राद्ध. 14 सितंबर 2022.
षष्ठी श्राद्ध. 15 सितंबर 2022
सप्तमी का श्राद्ध. 16 सितंबर 2022
अष्टमी श्राद्ध 18 सितंबर 2022
नवमी श्राद्ध. 19 सितंबर 2022.
दशमी श्राद्ध. 20 सितंबर 2022
एकादशी श्राद्ध. 21 सितंबर 2022
द्वादशी श्राद्ध. 22 सितंबर 2022
त्रयोदशी का श्राद्ध. 23 सितंबर 2022
चतुर्दशी का श्राद्ध. 24 सितंबर 2022
अमावस्या सर्वपितृ श्राद्ध. 25 सितंबर 2022

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

कांग्रेस अध्यक्ष की रेस से बाहर हुए गहलोत, CM पद पर लटकी तलवार, अध्यक्ष पद के लिए इन नामों पर चर्चा तेजPunjab MMS Leak: आरोपी MBA की छात्रा गिरफ्तार हुए जवान को भी कर रही थी डेटRajasthan politics crisis विधायक अमीन खां का वीडियो वायरल, जो पैसों के लिए बिक जाते हैं, उनके नेतृत्व में राजस्थान में सरकार नहीं चलेगीMaharashtra News: उद्धव ठाकरे को लगा बड़ा झटका, बालासाहेब ठाकरे के सबसे करीबी चंपा सिंह थापा हुए शिंदे गुट में शामिलMaharashtra: 'नालायक मंत्रियों को उन्हीं की भाषा में जवाब देगा मराठा समाज', तानाजी सावंत के बयान पर किशोरी पेडणेकर का पलटवारअब राजस्थान के मुख्यमंत्री पद को लेकर सामने आया शांति धारीवाल का चौंकाने वाला बयानमाकन की विधायकों ने की फजीहत, जयपुर में किंगमेकर बने गहलोत, दिल्ली दरबार नाराजचीन को जबर्दस्त झटका: लॉन्च के 3 सप्ताह के भीतर भारत में ही शुरू हुई iPhone 14 की मैन्यूफैक्चरिंग, यहीं से होगा निर्यात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.