scriptThe king changed but changed the picture of Maheshpuram | राज तो बदले पर बदली तो महेशपुरम की तस्वीर | Patrika News

राज तो बदले पर बदली तो महेशपुरम की तस्वीर

सर्व सुविधायुक्त विकसित आवासीय योजना के सब्ज बाग दिखाकर नगर पालिका ने भले ही सत्रह साल पहले महेशपुरम आवासीय योजना में लोगों को भूखण्ड बेच दिए हो, लेकिन इस आवासीय योजना की अब भी तस्वीर नहीं बदल पाई है। जिन लोगों के लॉटरी में भूखण्ड खुले, वे अब खुद को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। जबकि आवंटन और नीलामी से पालिका (अब नगर परिषद) को करीब तीस करोड़ रूपए प्राप्त हो चुके हैं।

चित्तौड़गढ़

Updated: May 22, 2022 10:56:15 pm

चित्तौडग़ढ़.
सर्व सुविधायुक्त विकसित आवासीय योजना के सब्ज बाग दिखाकर नगर पालिका ने भले ही सत्रह साल पहले महेशपुरम आवासीय योजना में लोगों को भूखण्ड बेच दिए हो, लेकिन इस आवासीय योजना की अब भी तस्वीर नहीं बदल पाई है। जिन लोगों के लॉटरी में भूखण्ड खुले, वे अब खुद को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। जबकि आवंटन और नीलामी से पालिका (अब नगर परिषद) को करीब तीस करोड़ रूपए प्राप्त हो चुके हैं।
तत्कालीन नगर पालिका चित्तौडग़ढ़ ने सेंती में नया चित्तौड़ बसाने का वादा करके महेशपुरम आवासीय योजना लांच की थी। इस योजना में कुल ९०९ भूखण्ड थे। इसके लिए लोगों से १६ जनवरी से २८ फरवरी २००६ तक आवेदन मांगे थे। इसके बाद लॉटरी के जरिए विभिन्न आकार के ४९३ भूखण्डों का आवंटन किया गया, इससे नगर पालिका को ४ करोड़ २६ लाख ९१ हजार १४० रूपए की आय हुई थी। शेष ४१६ भूखण्ड नीलामी व व्यावसायिक मार्केट के लिए आरक्षित रखे गए। सत्रह साल में इन भूखण्डों की भी नीलामी कर दी गई, जिससे नगर परिषद को करीब २६ करोड़ रूपए की आय हुई।
१२६ बीघा क्षेत्र में है योजना
महेशपुरम आवासीय योजना का क्षेत्रफल करीब २६.१३ हैक्टेयर यानी १२६ बीघा है। उस समय आवेदकों को दी गई पुस्तिका में नगर पालिका ने इस आवासीय योजना में डामरीकृत सड़कें, गंदे पानी की निकासी के लिए नालियां, रोशनी की व्यवस्था के साथ ही अलग से ग्रिड स्टेशन, प्राथमिक व उच्च शिक्षा के लिए भूमि आरक्षित, विकसित उद्यान, पेयजल के लिए अलग से तीन ओवर हेड टैंक व पाइप लाइनों का नेटवर्क बिछाने, चिकित्सालय के लिए भूमि आरक्षित रखने, मुख्य सड़क अस्सी फीट चौड़ी रखने, तीन बड़े चौराहे विकसित करने तथा विद्युतापूर्ति की व्यवस्था करने का वादा किया था। इस आवासीय योजना के लिए तत्कालीन जिला कलक्टर डॉ. आर.एस. गठाला ने नगर पालिका को आबादी भूमि आवंटित की थी।
नहीं दिया विकास पर ध्यान
वर्ष २००६ में यह महती आवासीय योजना लांच की गई थी। तब शहर के लोगों को उम्मीद बंधी थी कि ये शहर के विकास में मील का पत्थर बनेगी। इस अवधि में पालिका में भाजपा और कांग्रेस दोनों के बोर्ड रहे, लेकिन दोनों ही दलों के पालिका और नगर परिषद अध्यक्षों ने महेशपुरम आवासीय योजना की उपेक्षा की। महेशपुरम में जो सड़कें बनवाई गई, वे घटिया सामग्री का इस्तेमाल होने से कुछ समय बाद ही उखड़ गई थी। जो विद्युत पोल लगाए गए, उनके तार भी अब कई जगह से गायब हो चुके हैं।
राज तो बदले पर बदली तो महेशपुरम की तस्वीर
राज तो बदले पर बदली तो महेशपुरम की तस्वीर
स्थायी विद्युत कनेक्शन को तरसे लोग
इस योजना से नगर परिषद को करीब तीस करोड़ रूपए की आय हो चुकी है, लेकिन पिछले किसी भी बोर्ड ने यह राशि इस आवासीय योजना को विकसित करने पर खर्च नहीं की। नगर परिषद ने अजमेर डिस्कॉम की ओर से महेशपुरम में विद्युतीकरण के लिए जारी किए गए करीब नब्बे लाख रूपए की डिमाण्ड राशि भी जमा नहीं करवाई। इससे यहां मकान बनाकर रहने वालों को स्थायी विद्युत कनेक्शन भी नहीं मिल पा रहे हैं।
किसी ओर को मिल गया फायदा
नगर परिषद की ओर से धाकड़ मोहल्ले से महेशपुरम तक सड़क का निर्माण करवाया गया, जिस पर करीब नब्बे लाख रूपए खर्च किए गए, लेकिन यह सड़क बनने का फायदा निजी जमीन वालों को मिला, जिन्होंने सड़क बनने के बाद प्लाट काटकर बेच दिए। महेशपुरम आवासीय योजना में करीब पांच-सात लोगों ने मकान भी बनवा लिए है, लेकिन उन्हें मूलभूत सुविधाएं नहीं मिल रही है।
वर्तमान बोर्ड करेगा महेशपुरम पर करोड़ों रूपए खर्च
हमने महेशपुरम के चारों तरफ सड़कों की कनेक्टिविटी की है। पेयजल के लिए पानी की टंकी का निर्माण कराया जा रहा है। यह आवासीय योजना हमारे पांच वर्ष के कार्यकाल की प्राथमिकता में शामिल है। यहां पर राजस्थान धरोहर संरक्षण एवं प्रोन्नति प्राधिकरण बोर्ड के अध्यक्ष सुरेन्द्रसिंह जाड़ावत के सान्निध्य में नगर परिषद साढे आठ करोड़ रूपए की लागत से सर्व सुविधायुक्त सामुदायिक भवन बनवाने जा रही है। सड़कों पर छह करोड़ रूपए खर्च किए जाएंगे और बिजली कनेक्शन के लिए विद्युत निगम ने ९४ लाख २८ हजार ३०७ रूपए का डिमाण्ड पत्र जारी किया है। जल्द ही यह राशि जमा करवा दी जाएगी। यह काम प्रोसेस में चल रहा है। महेशपुरम में पार्कों का विकास और पौधारोपण भी किया जाएगा। यह नगर परिषद की बेहतरीन आवासीय योजनाओं में से एक होगा। इसके लिए अब ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ेगा। पहले क्या हुआ, इस पर कोई टिप्पणी नहीं करूंगा।
संदीप शर्मा,
सभापति, नगर परिषद चित्तौडग़ढ़

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहार सीएम की शपथ लेने के साथ अपने ही रिकॉर्ड तोड़ने से चूके Nitish Kumar, 24 अगस्त को साबित करेंगे बहुमतपीएम मोदी का कांग्रेस पर बड़ा हमला, कितना भी 'काला जादू' फैला लें कुछ होने वाला नहींMumbai: सिंगर सुनिधि चौहान के खिलाफ शिवसेना ने पुलिस में दर्ज कराई शिकायत, पाकिस्तान स्पॉन्सर कार्यक्रम का लगाया आरोपदेश के 49वें CJI होंगे यूयू ललित, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने नियुक्ति पर लगाई मुहरकश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या का बदला हुआ पूरा, सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिरायासुनील बंसल बने बंगाल बीजेपी के नए चीफ, कैलाश विजयवर्गीय की हुई छुट्टीसुप्रीम कोर्ट से नूपुर शर्मा को बड़ी राहत, सभी FIR को दिल्ली ट्रांसफर करने के निर्देशBihar Mahagathbandhan Govt: नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली बिहार के CM पद की शपथ, तेजस्वी यादव बने डिप्टी सीएम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.