बरसात ने किया तरबतर, नदी नाले उफान पर

चित्तौडग़ढ़. चित्तौडग़ढ़ जिले में शुक्रवार को बदरा पूरी तरह से मेहरबान रहे। बीते दो दिनों से होरी मिझिृ बरसात के बाद शुक्रवार को शहर एवं जिले में कई जगह मेघ जमकर बरसे। सुबह से ही सूरज के दर्शन नहीं हुए और चित्तौडग़ढ़ दुर्ग भी दिनभर बादलों की ओट में छुपा रहा। ओराई बांध का जलस्तर २७ फीट पहुंच गया है। चित्तौडग़ढ़ में शाम पांच बजे तक करीब सवा इंच यानि ३५ एमएम बरसात दर्ज की गई जबकि निम्बाहेड़ा में करीब दो इंच ७१ एमएम बरसात हुई।

By: Avinash Chaturvedi

Published: 10 Sep 2021, 10:45 PM IST

चित्तौडग़ढ़. चित्तौडग़ढ़ जिले में शुक्रवार को बदरा पूरी तरह से मेहरबान रहे। बीते दो दिनों से होरी मिझिृ बरसात के बाद शुक्रवार को शहर एवं जिले में कई जगह मेघ जमकर बरसे। सुबह से ही सूरज के दर्शन नहीं हुए और चित्तौडग़ढ़ दुर्ग भी दिनभर बादलों की ओट में छुपा रहा। ओराई बांध का जलस्तर २७ फीट पहुंच गया है। चित्तौडग़ढ़ में शाम पांच बजे तक करीब सवा इंच यानि ३५ एमएम बरसात दर्ज की गई जबकि निम्बाहेड़ा में करीब दो इंच ७१ एमएम बरसात हुई। भूपालसागर में २६, कपासन ३६, मातृकुण्डिया में २३ एमएम बरसात दर्ज की गई है। निम्बाहेड़ा के गांवों में नालों के उफान पर होने एवं एनिकटों के छलकने से इनसे जुड़े गांवों का सम्पर्क भी टूट गया व आवाजाही बाधित हुई। दशहरा मैदान के पास नीमच मार्ग पर निम्बा नदी की पुलिया उफान पर होने से आवाजाही बंद हो गई। कल्याणपुरा से कनेरा मार्ग एवं नीमच मार्ग पर आवाजाही रूक गई। उदयपुर मार्ग पर गांगली नदी के उफान पर होने से निम्बाहेड़ा से उदयपुर मार्ग पर भी आवागमन अवरूद्ध हो गया। गांगली नदी की पुलिया पार करने के दौरान एक बाइक भी बह गई। युवक ने बाइक को बचाने का प्रयास किया, किंतु सफलता नही मिलने पर उसने बाइक छोड दी। तेज बारिश के चलते सड़कें भी दरिया बनी नजर आई। गम्भीरी बांध के जेईएन राधेश्याम जाट ने बताया कि गम्भीरी बंाध में 31 हजार 111 क्यूसेक पानी की आवक हो रही है। उन्होंने बताया कि सवा 6 बजे तक बांध में साढ़े 15 फीट गेज दर्ज किया गया। बाड़ी मानसरोवर बांध क्षेत्र में अपेक्षाकृत कम बारिश के चलते नाम मात्र की आवक बांध में हुई। शुक्रवार सांय 5 बजे तक निम्बाहेड़ा मेें 71 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गई।
डूंगला. क्षेत्र में दिनभर रिमझिम बारिश की झड़ी लगी रही। प्रात: से ही फुहारें चलती रही एवं कुछ देर बाद मध्यम बारिश हुई। बारिश के बाद प्रमुख जलाशयों में पानी की आवक हुई है। वागन बांध में प्रात: तक 1.60 मीटर पानी की आवक हुई है जो कि बांध की कुल भराव क्षमता का एक तिहाई भी नहीं है।
गंगरार. क्षेत्र में दिन भर बारिश हुई। कभी झमाझम तो कभी रिमझिम बारिश होती रही। दो दिन से निरंतर हो रही वर्षा से जलाशयों में पानी की आवक हो रही है। खरीफ की फसलों को लाभ पहुंच रहा है।
भदेसर. क्षेत्र में शुक्रवार प्रात: 11 बजे से शुरू हुई बरसात दिन भर झमाझम जारी रहा। बरसात के कारण गांगली नदी में उफान आने के कारण मार्ग 3 घंटे बंद रहा। देवल खेड़ी गांव के पास पुलिया के ऊपर 2 से 3 फीट पानी भरने के कारण निंबाहेड़ा से मंगलवाड़ मार्ग 3 घंटे के लिए बंद रहा।
कपासन. नगर सहित आसपास के क्षेत्र में दिन भर बरसात का क्रम बना रहा। दोपहर 2 बजे बाद मूसलाधार वर्षा हुई जबकि प्रात: 10 बजे से मध्यम वर्षा होती रही। शाम 4 बजे से शाम तक हल्की बूंदाबांदी हुई।
सुखवाड़ा. भदेसर क्षेत्र में गांवों में तेज बारिश के बाद घोसुंडा बांध में शाम 6 बजे तक 40 सेंटीमीटर पानी की आवक हुई। झमाझम बारिश में गांगली व बेड़च नदी में पानी की आवक बढऩे से घोसुंडा बांध में शाम 6 बजे तक 40 सेंटीमीटर पानी पहुंचा। पानी का स्तर धीरे धीरे बढ़ रहा है।
चिकारड़ा. पिछले 3 दिनों से लगातार हो रही बरसात में क्षेत्र में स्थित जलाशय लगभग लबालब हो गए।

Avinash Chaturvedi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned