साठ घंटे बाद फिर टूटेगा चित्तौड़ शहर का सन्नाटा

कोरोना संक्रमण के निरन्तर बढ़ते खतरे को रोकने की कवायद के तहत चित्तौडग़ढ़ शहर में पहली बार किया गया दो दिवसीय लॉकडाउन का सन्नाटा सोमवार सुबह 8 बजे बाजार फिर खुलने के साथ टूटेगा। लॉकडाउन शनिवार व रविवार का था लेकिन शुक्रवार रात 8 बजे बाजार बंद होते ही सन्नाटा पसर गया था। ये सन्नाटा रविवार को भी शहर की सड़कों पर छाया रहा। लॉकडाउन के दूसरे दिन भी पुलिस ने सख्ती दिखाई तो शहर के प्रमुख मार्ग सूने रहे।

By: Nilesh Kumar Kathed

Updated: 23 Aug 2020, 11:21 PM IST

चित्तौडग़ढ़.कोरोना संक्रमण के निरन्तर बढ़ते खतरे को रोकने की कवायद के तहत चित्तौडग़ढ़ शहर में पहली बार किया गया दो दिवसीय लॉकडाउन का सन्नाटा सोमवार सुबह 8 बजे बाजार फिर खुलने के साथ टूटेगा। लॉकडाउन शनिवार व रविवार का था लेकिन शुक्रवार रात 8 बजे बाजार बंद होते ही सन्नाटा पसर गया था। ये सन्नाटा रविवार को भी शहर की सड़कों पर छाया रहा। लॉकडाउन के दूसरे दिन भी पुलिस ने सख्ती दिखाई तो शहर के प्रमुख मार्ग सूने रहे। कभी तेज कभी रिमझिम बारिश भी लॉकडाउन को सफल बनाने में सहायक बनी। बारिश के चलते भी सड़कों पर लोग कम निकले। लॉकडाउन में रोडवेज बसे चलाने की छूट थी लेकिन शहर में ऑटोरिक्शा बंद होने से लोगों के लिए रोडवेज बस स्टेण्ड तक पहुंचना कठिन रहा। ऐसे में बसों में सवारियां भी कम ही रही।
जिला मजिस्ट्रेट केके शर्मा ने एक आदेश जारी कर दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत निहित शक्तियों का प्रयोग करते हुए चित्तौडग़ढ़ शहर की नगरीय सीमाओं में अनुमत गतिविधियों के अतिरिक्त अन्य समस्त गतिविधियों के लिए प्रत्येक शुक्रवार रात 8 बजे से सोमवार की सुुबह 8 बजे तक जीरो मोबिलिटी रखने के निर्देश दिए हुए है। जीरो मोबिलिटी के दौरान समस्त पेट्रोल पम्प,एलपीजी, पानी सप्लाई, बैंक एटीएम, राजकीय/ निजी चिकित्सालय,पशु चिकित्सालय,नर्सिंग होम,समस्त चिकित्सा संबंधी प्रतिष्ठान, मेडिकल स्टोर, दूध डेयरी,स्थानीय दूध विक्रेता, कृषि उपज मण्डी, निरन्तर उत्पादन के प्रकृति की फैक्ट्रियां,रोडवेज बसों का संचालन की छूट रही। औद्योगिक इकाईयों द्वारा जारी परिचय पत्र रखने के आधार पर कार्मिकों को स्वयं के आवास से इकाई तक सुबह 8 से 10 बजे की अवधि में तथा इकाई से स्वयं आवास तक शाम 6 से रात 8 बजे की अवधि में पहुंचने/आवागमन की अनुमति रही।
दवा लेने के लिए आने-जाने की रही छूट
जीरो मोबिलिटी क्षेत्र में चिकित्सा के लिए आने वाले रोगियों के लिए परिवहन,एम्बूलेंस,ऑन ड्यूटी सरकारी वाहन,अग्निशमन, कानून व्यवस्था तथा आपातकालीन सेवाए, चिकित्सक द्वारा बताई गई गम्भीर बिमारी/चिकित्सक द्वारा बनाई गई पर्ची के साथ की स्थिति में उपयोग में लाए गए वाहन आवागमन के लिए अनुमत रहे। बीमार व्यक्ति चिकित्सक द्वारा बनाई गई पर्ची के साथ चिकित्सालय में कोरोना प्रोटोकॉल की पालना करते हुए दवाई लेने आ-जा सकते थे।
नहीं मिली मिठाई, खुली रही शराब की दुकानें
लॉकडाउन में सरकारी तंत्र की व्यवस्थागत खामियां भी सामने आई। ये खामियां आमजन में चर्चा का मुद्दा बनने के साथ सोशल मीडिया पर भी वायरल होती रही। सबसे बड़ी खामी गणेश चतुर्थी जैसे त्यौहार के मौके पर मिठाई की दुकान बंद रहने और शराब की दुकानें खुली होने के रूप में सामने आई। लॉकडाउन में शराब की दुकाने आबकारी विभाग की नीति के अनुसार यथावत संचालित होने की अनुमति थी लेकिन घर में पूजा के दौरान प्रसाद चढ़ाने के लिए मिठाई नहीं मिल रही थी। गणपति पूजा के लिए माला व पूजा सामग्री बेचने वालों को भी बाजार में आने की अनुमति नहीं दी गई।

Nilesh Kumar Kathed
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned