पुलिस जाब्ते के साथ चार दिन बाद खुला यह बाजार

पुलिस जाब्ते के साथ चार दिन बाद खुला यह बाजार

kalulal lohar | Updated: 23 Jul 2019, 10:45:08 PM (IST) Chittorgarh, Chittorgarh, Rajasthan, India

जिले के गंगरार कस्बे में दो पक्षों के बीच उपजे विवाद को लेकर मंगलवार को चौथे दिन माहौल शांत होने के साथ ही बाजार भी खुल गए है। हालांकि दिनभर बाजार में पुलिस की गश्त जारी रही।

चित्तौडग़ढ़. जिले के गंगरार कस्बे में दो पक्षों के बीच उपजे विवाद को लेकर मंगलवार को चौथे दिन माहौल शांत होने के साथ ही बाजार भी खुल गए है। हालांकि दिनभर बाजार में पुलिस की गश्त जारी रही।
दो समुदायों में शनिवार को धार्मिक झंडे लगाए जाने को लेकर विवाद हो गया था उसके बाद कस्बे में मामला गर्मा गया और एक समुदायिक के लोगों ने गंगरार का बाजार स्वेच्छिक बन्द रखा गया जो चौथे दिन दोनों पक्षों के लोगों के साथ समझाइश के बाद मामला शंात हुआ और बाजार खुलने के साथ ही चहल-पहल दिखी।इस मामले में पुलिस द्वारा दोनों पक्षों के कई जनों को गिरफ्तार किया गया। बाजार खुलने के बाद भी गंगरार में दिनभर पुलिस गश्त व जाब्ता तैनात रहा।

पूर्व मंत्री कृपलानी की अध्यक्षता में हुई बैठक में बनी सहमति
शनिवार की घटना के बाद गंगरार मे ंबनी तनाव की स्थिति समाप्त कर दोनों पक्षों में शांति व शोहाद्र्ध की भावना कायम किए जाने के लिए पूर्व मंत्री श्रीचन्द कृपलानी तथा पूर्व विधायक सुरेश धाकड़ गंगरार पहुंचे तथा स्थानीय पंचायत समिति के सभागार में जनप्रतिनिधि, अधिकारी , व्यापार मंडल एवं कस्बे के मौतबीरानें की बैठक ली । बैठक में भाजपा जिला महामंत्री देवीसिंह राणावत, प्रधान देवीलाल जाट व प्रशासन और पुलिस विभाग की ओर से एडीएम , अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक , उपखंड अधिकारी धर्मराज गुर्जर, ,तहसीलदार ओमपालसिंह ,वृताधिकारी अशोक कुमार आदि ने भाग लिया। वार्ता में गिरप्तार लोगों को रिहा करने ,एक धार्मिक विशेष के झंडो को उतारे जाने , बंद बाजार खोले जाने आदि बिन्दुओं पर सहमति बनी ।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned