तीन युवकों ने नदी में लगाई छलांग और बचा लाए मां-बेटी को

तीन युवकों ने नदी में लगाई छलांग और बचा लाए मां-बेटी को
तीन युवकों ने नदी में लगाई छलांग और बचा लाए मां-बेटी को

Vijay | Updated: 13 Sep 2019, 10:32:11 PM (IST) Chittorgarh, Chittorgarh, Rajasthan, India

चित्तौडग़ढ़/ पहुंना. क्षेत्र के ऊंचा बनास नदी पर बने एनिकट पर मोटरसाइकिल पर बनास नदी पार करते समय मां व बेटी पानी में बह गई। दोनों को डूबता देख कुछ युवक नदी में कूदे और दोनों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया।

मां व बेटी बनास नदी में बही, लोगों ने बचाया
गड्ढे में फंसा मोटरसाइकिल का पहिया, महिला का फिसला पैर
चित्तौडग़ढ़/ पहुंना. क्षेत्र के ऊंचा बनास नदी पर बने एनिकट पर मोटरसाइकिल पर बनास नदी पार करते समय मां व बेटी पानी में बह गई। दोनों को डूबता देख कुछ युवक नदी में कूदे और दोनों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया।
ग्रामीणों ने बताया कि पहुंना निवासी अनिल कुमार छीपा उसकी पत्नी हेमा व पुत्री छवि मोटरसाइकिल पर जा रहे थे। ऊंचा बनास नदी के एनिकट पर पानी बह रहा था। अनिल ने बहते पानी में से मोटरसाइकिल निकालने का प्रयास किया। कुछ ही दूरी पर गया कि मोटरसाइकिल का पहिया पुलिया पर हो रहे गड्ढे में फंस गया। इससे मोटरसाइकिल रुक गई। अनिल की पत्नी हेमा नीचे उतरी तो उसका पैर फिसल गया। हेमा की गोद में उसकी पुत्री छवि भी थी। दोनों नदी के पानी में बहने लगी। वहीं बनास नदी पर नहा रहे ऊंचा निवासी रतन सिंह, राजू तेली व सिंहाना निवासी रोशन लाल जाट ने दोनों को पानी में डूबते देखा, इस पर तीनों युवक वहां पहुंचे और हेमा व बालिका छबी को बचा कर सुरक्षित बाहर ले आए। हेमा के पैर व हाथ में चोट आई।
चार दिन बाद घटनास्थल से डेढ किलोमीटर दूर मिला शव
पारसोली. थानान्तर्गत सोमवार रात घोड़ी घाटा नदी पुलिया को पार करने के दौरान बाइक समेत तीन युवक बह गए थे। इनमे से एक तो बाहर निकल गया था। दूसरे युवक को रेस्क्यू टीम ने मंगलवार को निकाल लिया था। ग्रामीणों की सूचना पर पारसोली पुलिस व एसडीआरएफ टीम मौके पर पहुंची। प्रशासन के निर्देश पर चित्तौडग़ढ़ जिला मुख्यालय से एसडीआरएफ टीम ने शुक्रवार को काफी मशक्कत के बाद युवक के शव को खोज निकाला। शव घटनास्थल से डेढ किलोमीटर दूर सारण पुलिया पर मिला। पुलिस ने बताया कि लुहारिया गांव में आयोजित कार्यक्रम में मुश्ताक पुत्र भंवर खां, सद्दाम पुत्र मुस्तक खां, राजु पुत्र मोहन ढोल बजाकर अपने गांव साड़ास लौट रहे थे। इसी बीच पुलिया पर बेड़च नदी का पानी वेग के साथ बह रहा था। अंधेरा होने से तीनों युवक मोटरसाइकिल से पुलिया पार कर रहे थे। इस दौरान मोटरसाइकिल अनियंत्रित हो गई और तीनों पानी के तेज बहाव में बह गए। मंगलवार सुबह से रात तक गोताखोरों उनकी तलाश की लेनिक अंधेरा होने से तलाश रोक दी गई। बुधवार को भी सद्दाम का कोई सुराग नहीं लग पाया। राजू ढोली का शव को मंगलवार शाम को निकाल लिया गया था। सद्दाम का शव शुक्रवार को ढूंढ लिया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned