शहीद सैनिकों को दी श्रद्धाजंलि, चीन के खिलाफ गुस्से का इजहार

लद्दाख क्षेत्र की गलावन घाटी में चीनी सैनिकों के साथ संघर्ष में भारतीय सेना के २० जवानों की शहादत ने लोगों को गुस्से से भर दिया है। शहीदों को श्रद्धांजलि देने के साथ लोग चीन से शहादत का बदला लेने की मांग भी कर रहे है। चित्तौडग़ढ़ में भी बुधवार को सोशल मीडिया पर दिनभर सैनिकों की शहादत से जुड़े संदेश दिनभर वायरल होते रहे। इन संदेशों के माध्यम से लोग मन की भावनाएं जाहिर करते रहे। संदेशों में शहादत पर नमन तो था ही चीन से बदला लेने की मांग भी प्रमुखता से थी।

By: Nilesh Kumar Kathed

Published: 17 Jun 2020, 11:33 PM IST

चित्तौडग़ढ़. लद्दाख क्षेत्र की गलावन घाटी में चीनी सैनिकों के साथ संघर्ष में भारतीय सेना के २० जवानों की शहादत ने लोगों को गुस्से से भर दिया है। शहीदों को श्रद्धांजलि देने के साथ लोग चीन से शहादत का बदला लेने की मांग भी कर रहे है। चित्तौडग़ढ़ में भी बुधवार को सोशल मीडिया पर दिनभर सैनिकों की शहादत से जुड़े संदेश दिनभर वायरल होते रहे। इन संदेशों के माध्यम से लोग मन की भावनाएं जाहिर करते रहे। संदेशों में शहादत पर नमन तो था ही चीन से बदला लेने की मांग भी प्रमुखता से थी। लोगों से चीनी उत्पादों का बहिष्कार करने का आह्वान भी संदेशों में जमकर किया गया था। कुछ लोगों ने जरा याद उन्हें भी कर लो जो लौट कर फिर न आए जैसे संदेशों के माध्यम से देशभक्ति से ओतप्रोत विचार भी शेयर किए एवं लोगों से आग्रह किया कि सैनिकों की शहादत व्यर्थ न जाए इसकी जिम्मेदारी प्रत्येक भारतवासी की है।
विभिन्न संगठनों ने दी शहीदों को श्रद्धाजंलि
चीनी सैनिकों के साथ संघर्ष में भारतीय सेना के बीस जवानों की शहादत पर बुधवार को विभिन्न संगठनों ने शहीदों को श्रद्धाजंलि अर्पित की। लोगों ने चीन को सबक सीखाने की मांग भी की। चित्तौडी आठम महोत्सव समिति द्वारा लद्दाख में शहीद हुए सैनिको को शहर के प्रतापनगर चौराहा स्थित शहीद स्मारक पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धाजंली अर्पित की गई। चीन के राष्ट्रपति का पुतला जलाया व भारत माता के नारे लगाते हुए चीनी सामान का बहिष्कार का सकंल्प लिया। समिति के अध्यक्ष मुकेश नाहटा ने बताया कि देश इस शहादत को कभी नहीं भुल पायेगा। सभी संवेदना शहीदों के परिवार के साथ है। पद्मावती सेवा संस्थान के संरक्षक धर्मपाल गोयल ने कहा कि हम देश के नागरिक सीमा पर जाकर तो नहीं लड सकते पर चीनी सामान का बहिष्कार कर सकते है। गोयल ने चीनी सामान न खरीदने का संकल्प दिलाया। आयोजन में नारायण लाल कुमावत, योगेन्द्र सिंह, रवि बैरागी, विपुल सिंह, संजय सेन, पवन मेनारिया, देवेन्द्र सिंह, आदि कई कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Nilesh Kumar Kathed
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned