किसनेे कहा कि तीन माह के बिजली बिल माफ करें सरकार

भाजपा के चित्तौडग़ढ़ विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने विधायक चन्द्रभान सिंह आक्या के नेतृत्व मे अतिरिक्त जिला कलक्टर मुकेश कलाल को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौपा। ज्ञापन मे विधायक आक्या ने कहा कि राजस्थान सहित देश कोरोना महामारी के प्रकोप का सामना कर रहा है। इस आपदा के कारण हर परिवार का बजट गड़बड़ा गया है। ज्ञापन देने वालों में भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष रतन गाडरी, पूर्व नगर विकास न्यास अध्यक्ष सुरेश झंवर, भाजपा जिला महामंत्री कमलेश पुरोहित, पूर्व प्रधान प्रवीण सिंह राठौड़ आदि शामिल थे।

By: Nilesh Kumar Kathed

Published: 07 Jul 2020, 11:11 PM IST

चित्तौडग़ढ़. भाजपा के चित्तौडग़ढ़ विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने विधायक चन्द्रभान सिंह आक्या के नेतृत्व मे अतिरिक्त जिला कलक्टर मुकेश कलाल को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौपा। ज्ञापन मे विधायक आक्या ने कहा कि राजस्थान सहित देश कोरोना महामारी के प्रकोप का सामना कर रहा है। इस आपदा के कारण हर परिवार का बजट गड़बड़ा गया है। आक्या ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 3 महिने के बिजली बिलों के स्थगन का आदेश जनहित में निकाला था इसके विपरीत बिजली कंपनियां उच्चतम दर से बिल बनाकर वसूली कर रही है। ज्ञापन में मांग की गई कि कोरोना आपदा के कारण हुए आर्थिक नुकसान को दृष्टिगत रखते हुए राज्य सरकार अप्रैल,मई और जून माह के बिजली के बिल माफ करने की घोषणा करे। बिजली कंपनियों को निर्देशित किया जाए कि भारी भरकम राशि का बिल बनाकर जनता पर भुगतान का अनावश्यक दबाव ना बनाऐं। ज्ञापन में आरोप लगाया गया कि विद्युत कम्पनियों के द्वारा 3 माह का बिल एक साथ भेज कर अवांछनीय गणना कर आर्थिक रूप से पुरी तरह टूट चुके लोगों को भारी भरकम राशि एक साथ चुकाने के लिए मजबुर किया जा रहा है। बिजली कम्पनियों की अकर्मण्यता व विफलता का परिणाम जनता को भुगतना पड़ रहा है। ज्ञापन में बताया गया कि बिजली कंपनियों के द्वारा मार्च 2020 के बिल की तुलना में अप्रैल 2020 के बिल में 40 पैसे से लेकर 95 पैसे तक प्रति यूनिट की दर से वृद्धि कर दी गई है। हर माह के बिजली के बिल में स्थाई शुल्क लगाया जा रहा है। आपसी मिलीभगत से ही बिजली की अवैध रूप से चोरी करवा कर कंपनियों का घाटा बढाया जा रहा है और उस घाटे की भरपाई के लिए फिर इन कंपनियों के द्वारा जनता पर भार डाला जा रहा है। भाजपा सह जिला मीडिया प्रभारी मनोज पाारीक के अनुसार ज्ञापन देने वालों में भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष रतन गाडरी, पूर्व नगर विकास न्यास अध्यक्ष सुरेश झंवर, भाजपा जिला महामंत्री कमलेश पुरोहित, पूर्व प्रधान प्रवीण सिंह राठौड़,भाजपा नगर अध्य्क्ष सागर सोनी, जिला उपाध्यक्ष करनल सिंह राठौड, बस्सी मण्डल अध्यक्ष भंवर सिंह खरड़ीबावड़ी,घोसुण्डा मण्डल अध्यक्ष दिनेश शर्मा, चन्देरिया मण्डल अध्यक्ष रोहिताश जाट, पूर्व मण्डल अध्यक्ष नरेन्द्र पोखरना, नगर महामंत्री अनिल ईनाणी, पूर्व पालिकाध्यक्ष गोविन्द काबरा,पूर्व उपप्रधान सी पी नामधराणी आदि शामिल थे।
ज्ञापन के जोश में भूल गए सोशल डिस्टेसिंग
केन्द्र व राज्य सरकार के जागरूकत अभियानों के प्रति उन्हीं के राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता बेपरवाही दिखा रहे है। बिजली बिल माफ करने की मांंग को लेकर कलक्ट्रेट ५० से अधिक भाजपा कार्यकर्ता पहुंच गए। इनमें से कुछ चेहरे पर मास्क भी नहीं लगा लापरवाह बन घूम स्वयं के साथ दूसरों के लिए संक्रमण फैलाने का खतरा बनते नजर आए। कार्र्यकर्ता फोटो खींचवाने के मोह में सोशल डिस्टेंस भी भूल गए। छह फीट तो दूर उनमें दो फीट की दूरी भी नजर नहीं आई।

Nilesh Kumar Kathed
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned