नेता क्यों कहने लगे घर पर मत आना, काम हो तो मोबाइल पर बताना

कोरोना वायरस संक्रमण के बाद लंंबे लॉकडाउन जैसी स्थिति बनने से यूं तो कोई खुश नहीं है लेकिन कुछ परिवार इस नकारात्मकता में भी ये सकारात्मक मान रहे है कि उनके घर के मुखिया के पास अब उनके लिए वक्त हो गया है। राजनीतिक व्यस्तताओं के चलते जो जनप्रतिनिधि व नेता परिवार के लिए वक्त ही नहीं निकाल पाते थे वे अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आह्वान के बाद स्वयं घरों में सीमित हो गए है।



चित्तौडग़ढ़. कोरोना वायरस संक्रमण के बाद लंंबे लॉकडाउन जैसी स्थिति बनने से यूं तो कोई खुश नहीं है लेकिन कुछ परिवार इस नकारात्मकता में भी ये सकारात्मक मान रहे है कि उनके घर के मुखिया के पास अब उनके लिए वक्त हो गया है। राजनीतिक व्यस्तताओं के चलते जो जनप्रतिनिधि व नेता परिवार के लिए वक्त ही नहीं निकाल पाते थे वे अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आह्वान के बाद स्वयं घरों में सीमित हो गए है। वायरस संक्रमण से बचाव के लिए लोगों को भी संदेश दे रहे है कि उनके पास मत आना, कोई काम हो तो मोबाइल पर बात कर लेना। लोगों को भी इस बात के लिए प्रेरित कर रहे है कि कोई भी बहुत जरूरी कार्य के बिना घर से बाहर नहीं निकलेगा। पत्रिका टीम ने इनके घरों पर पहुंच जाना कि ये कैसे समय बीता रहे है।
मधुवन स्थित चित्तौडग़ढ़ विधायक चन्द्रभानसिंह आक्या के निवास पर पहुंचे तो वहां विधायक घर में पत्नी सुशीला कंवर व दोनों बच्चों के संग कैरम खेलने में व्यस्त दिखे। उन्होंने कहा कि गत तीन दिन से वे घर में है तथा सभी को यही समझा रहे है कि इस स्थिति में बचाव के लिए घर पर ही रहना कितना जरूरी है। बच्चें भी विधायक पिता के पास इतना समय देख खुश दिखे। नगरपालिका कॉलोनी स्थित कांग्रेस जिलाध्यक्ष मांगीलाल धाकड़़ के निवास पर पहुंचे तो धाकड़ पत्नी मथराबार्ई के साथ बैठे हुए थे। धाकड़ टीवी देख रहे थे तो पत्नी घर का कार्य कर रही थी। धाकड़ ने कहा कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए घर में ही रहना होगा जो बिना जरूरत घर से बाहर निकल रहे वो गलती कर रहे है। उन्हें समझा रहे है कि ऐसा नहीं करे ताकि हमारे समाज व देश को इस खतरे से बचा सके।

घर पर ही निपटा रहे काम
कोरोना वायरस के चलते भाजपा जिलाध्यक्ष गौतम दक भी तीन दिन से अपने घर में ही रहकर अपने कार्य निपटा रहे है। भाजपा जिलाध्यक्ष दक से पत्रिका को बताया कि राजनीति में आने के बाद पहली बार लगातार तीन दिन घर पर रहना अच्छा रहना लग रहा है एवं दिनभर परिवार के साथ रहकर घर से ही सारे कार्य निपटा रहे है। साथ ही फोन पर कार्यकर्ताओं के काम करते हुए उन्हें भी घर में रहने के निर्देश दे रहे है। दिन में टीवी पर समाचार देखकर एवं ताश खेल कर समय व्यतीत कर रहे है। लम्बे अंतराल के बाद परिवार वालों को समय देने से वे खुश है।

Nilesh Kumar Kathed Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned