चित्तौडग़ढ़ के युवाओं को सीए के लिए अब क्यों नहीं जाना पड़ता अब नहीं मुम्बई, इन्दौर

- चित्तौड़ में पढ़ाई कर तैयार हो रहे सीए
-आईसीएआई चित्तौडग़ढ़ चौप्टर उपलब्ध करा रहा प्रशिक्षण व सुविधा
- सीए कोर्स से जुड़ी सुविधाओं का विस्तार

By: Nilesh Kumar Kathed

Published: 01 Jul 2019, 08:00 PM IST



चित्तौडग़ढ़. कभी चार्टर्ड अकाउन्टेन्ट (सीए) बनने का सपना रखने वाले युवाओं के सामने कक्षा १२ के बाद सीपीटी/फाउण्डेशन करते ही मुम्बई,इन्दौर, अहमदाबाद जैसे शहरों में जाने की मजबूरी थी। अब समय बदला है और सीए फाइनल तक करने तक जो पढ़ाई/ प्रशिक्षण भी आवश्यकता है वे चित्तौडग़ढ़ में ही उपलब्ध हो रहा है। युवाओं के सामने बड़े शहरों में जाने की बजाय चित्तौडग़ढ़ में ही सीए बनने का विकल्प मिल गया है। चित्तौडग़ढ़ में ही फाउण्डेशन से फाइनल तक करके युवा सीए बनने का सपना पूरा करने लगे है। सीए कोर्स से जुड़ी सुविधाएं बढ़ी है तो उसके प्रति युवाओं का क्रेज भी बढ़ा है। चित्तौैडग़ढ़ सीए छात्रों की संख्या बढऩे के साथ वर्ष 2014 से सीए परीक्षा केन्द्र भी बन गया है। यहां इंडीयन इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउन्टेन्ट।(आईसीएआई) के चित्तौडग़ढ़ चौप्टर की ओर से सीए छात्रों के लिए प्रशिक्षण, ऑरियन्टेशन कार्यक्रम, आईटी ट्रेनिग आदि सुविधा दी गई है। सीए फाइनल में ऑर्टिकलशिप भी अब चित्तौडग़ढ़ में ही करने का विकल्प भी युवा चुन रहे है।
23 वर्ष में सीए की संख्या 20 से बढ़कर 250 तक
चित्तौडग़ढ़ जिले में सीए के प्रति क्रेज निरन्तर बढ़ा है। आईसीएआई की ओर से १९९६ में स्टडी सर्किल शुरू किया गया, उस समय बीस सदस्य थे। वर्ष 2000 में 50 सदस्य होने पर सीपीई चौप्टर के रूप में कार्यरत रहा। वर्ष 2013 में सीए सदस्यों की संख्या 200 तक पहुंची तो चित्तौडग़ढ़ को सीए चौप्टर का दर्जा मिल गया। वर्तमान में चौप्टर के करीब 260 सदस्य है। इनके अलावा चित्तौैडग़ढ़ निवासी कई सीए है जो देश-प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में सेवाएं दे रहे है और यहां चौप्टर सदस्य नहीं होने से उनका आंकड़ा भी उपलब्ध नहीं है।
आधी दुनिया में भी बढ़ा सीए का आकर्षण
कभी सीए को पुरूष प्रधान पेशा माना जाता था। अब हालात बदल गए है और आधी दुनिया यानि महिला वर्ग में भी सीए प्रोफेशन के रूप में अपनाने का आकर्षण बढ़ा है। वर्तमान में चित्तौडग़ढ़ में करीब ५०महिला सीए चौप्टर सदस्य है। इनके अलावा चित्तौडग़ढ़ ब्रांच में सीए शिक्षा पाने के लिए पंजीकृत करीब एक हजार विद्यार्थियों में भी बड़ी संख्या छात्राओं की भी है।
सामाजिक सरोकार के क्षेत्र में भी सक्रिय
आईसीएआई चित्तौडग़ढ़ चौप्टर पेशेवर कार्य के साथ सामाजिक सरोकार के क्षेत्र में भी सक्रिय है। पार्टनर ऑफ नेशनल बिल्डिंग स्लोगन के साथ चौप्टर की ओर से रक्तदान शिविर, निवेश जागरूकता, पर्यावरण जागरूकता आदि पर भी कार्यक्रम किए गए। केन्द्र सरकार ने आईसीएआई को स्वच्छ भारत मिशन का ब्रांड एम्बेसेडर भी नियुक्त किया है।
इन्होंने संभाली अब तक सीए चौप्टर की कमान
चित्तौडग़ढ़ सीए चौप्टर के प्रथम अध्यक्ष गोपाल मूंदड़ा रहे। इसके बाद आरके न्याति, जेसी राठी, आईएम सेठिया, अर्जून मूंदड़ा, अशोक सोमानी भी अध्यक्ष रहे। वर्तमान में नीरव दोशी चौप्टर अध्यक्ष का दायित्व संभाल रहे है।
सीए बनने के इच्छुक छात्रों के लिए अब हर सुविधा
सीए बनने के इच्छुक छात्रों के लिए अब हर सुविधा चित्तौडग़ढ़ में ही उपलब्ध है। यहां रहकर पढ़ाई करने वाले छात्र भी अच्छे परिणाम दे रहे है। चित्तौडग़ढ़ निवासी सीए देश के अलग-अलग क्षेत्रों में भी सेवा दे रहे है। आने वाले समय में सीए के लिए अच्छे अवसर उपलब्ध है।
नीरव दोशी, अध्यक्ष, सीए चौप्टर, चित्तौैडग़ढ़

Nilesh Kumar Kathed
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned