भाजपा की टॉप लीडरशिप ने मामले को कलक्टर को संभालने के लिए कहा

चूरू. जिले की सभी छह विधानसभाओं में व्याप्त बिजली पानी की विकराल समस्या के समाधान के लिए जिला भाजपा की टॉप लीडरशिप ने अपने नेता और विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड और सांसद राहुल कस्वा के नेतृत्व में कलक्टर को ज्ञापन सौंपा।

By: manish mishra

Published: 05 Jun 2020, 10:13 PM IST

चूरू. जिले की सभी छह विधानसभाओं में व्याप्त बिजली पानी की विकराल समस्या के समाधान के लिए जिला भाजपा की टॉप लीडरशिप ने अपने नेता और विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड और सांसद राहुल कस्वा के नेतृत्व में कलक्टर को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन देने के दौरान बिजली-पानी की समस्या का विधानसभा क्रमवार जिक्र करते हुए कलक्टर से हस्तक्षेप की मांग की गई। इस दौरान उपनेता राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि घोर आश्चर्य का विषय है कि जिले में न तो बिजली का कोई कंट्रोल रूम है और न ही पानी का, जहां पर कि उपभोक्ता अपनी शिकायत दर्ज करा सके।सांसद राहुल कस्वा ने कहा कि यहां तक कि जनप्रतिनिधियों की शिकायत भी कूड़ेदान के हवाले होती है, क्योंकि कोई रजिस्टर ही मेंटेन नहीं होता। उन्होंने सवाल किया कि ऐसे में इन समस्याओं के लिए किसी से बात भी की जाए तो किससे और कहां करें। इस दौरान जिले की सभी छह विधानसभा सीटों से आए प्रत्याशियों और भाजपा के मौजूदा विधायकों ने लगभग एक ही तरह की शिकायत की कि पानी और बिजली, दोनों ही जगह अधिकारी समस्या को मानने को ही तैयार नहीं हैं, तो फिर उसका हल खोजें भी तो कैसे। उन्होंनेेे कहा कि अफसरों को समस्या दिखती नहीं, उधर जनता है कि घड़े फोडऩे के लिए तैयार बैठी है। भाजपा नेतृत्व ने चेतावनी दी कि अगर हालात में 15 दिन के भीतर सुधार नहीं हुआ, तो भाजपा को मजबूरन धरना-प्रदर्शन करना होगा।यह लोग थे ज्ञापन देने वालों में शामिलउपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़, जिलाध्यक्ष पंकज गुप्ता, सांसद राहुल कस्वां, रतनगढ़ विधायक अभिनेष महर्षि, पूर्व विधायक अशोक पींचा, खेमाराम मेघवाल तथा जिला प्रमुख हरलाल सहारण के नेतृत्व में जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में बिजली पानी के गंभीर संकट से जुझ रहे पुरे जिले में इस संकट के समाधान करने की अपील की गई।राठौड़ ने कहा कि ट्यूबवेल खोद कर छोड़ दिए गए हैं अगर कनेक्शन नहीं तो वे किस काम के। सुजानगढ़ से आए भाजपा नेता ने कहा कि आपणी योजना फेल होने के कगार पर है। ऐसे में अगर पहले से मौजूद ट्यूबवेल की मरम्मत ही करा दी गई होती, तो पुरानी व्यवस्था और आपणी योजना दोनों के साथलोगों की जरूरतें पूरी की जा सकती थीं। नेताओं ने कहा कि जलदाय विभाग में जैसे कोई नेतृत्व है ही नहीं। कहीं पानी की ट्यूबवेल खुली रहती है, तो खुली ही रहती है। नालियों में पानी बहता रहता है और कहीं लोग बूंद-बूंद पानी को तरहस रहे होते हैं।सांसद राहुल कस्वां ने कहा कि इस पूरे जिले की आबादी को पानी और बिजली की समस्या से रूबरू होना पड़ रहा है। जिले में खराब कुएं, पाईप लाईन में लिकेज, बिजली के बिल जमा नही होने से बंद पड़े टयुबवैेल आदी की समस्या बढ़ रही है। उन्होंने कहा बहुत सारे गांव में कुछ अवैध कनेक्शनों के कारण पूरे गांव व बस्ती के कनेक्शन काटे जाना पूरे क्षेत्र के लोगों के साथ अन्याय है तथा इसका समाधान शीध्रता से होना चाहिए।जिले में बिजली की अघोषित कटौती, लोहे के जर्जर पोल की समस्या इनका निस्तारण शीध्रता से किया जाना चाहिए। इस अवसर पर चूरू जिले की सारी विधानसभावार समस्याओं को विस्तारपूर्वक लिखकर जिला कलेक्टर को प्रेषित किया गया। जिसमें रतनगढ़ विधानसभा की समस्याओं को लेकर विधायक अभिनेष महर्षि ने कहा कि उनकी विधानसभा क्षेत्र रतनगढ़ में बिजली पानी की मूल समस्या के अलावा क्षेत्र में झूलते बिजली के तार भी बड़ी समस्या हैं।अधिकारी टैंकर आपूर्ति चाहते हैं, ताकि भ्रष्टाचार हो सकेनेताओं ने कहा कि अधिकारी चाहते हैं कि लोग पानी की समस्या से त्राहि-त्राहि करें, ताकि लोग टैंकर मंगाने पर मजबूर हों और वे जम कर भ्रष्टाचार कर सकें।यह भी रहे मौजूदपूर्व जिलाध्यक्ष बसंत शर्मा, डॉ. वासुदेव चावला, जिलाउपाध्यक्ष भास्कर शर्मा, जिला महामंत्री नरेन्द्र काछवाल, धर्मेन्द्र श्योराण, जिला परिषद् सदस्य कुलदीप पूनियां, सरदारषहर प्रधान सत्यनारायण सहारण, जिला मिडिया संयोजक रवि दाधीच, आई टी सहसंयोजक सुरेष मिश्रा, बजरंग गुर्जर, स्वरूपसिंह राठौड़, आदि कार्यकर्ता मौजूद थे।

manish mishra Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned