कांस्टेबल भर्ती परीक्षा : नकल की अफवाह फैलाने के आरोप में तीन गिरफ्तार

Rakesh gotam

Publish: Jul, 13 2018 11:10:19 PM (IST)

Churu, Rajasthan, India
कांस्टेबल भर्ती परीक्षा : नकल की अफवाह फैलाने के आरोप में तीन गिरफ्तार

पुलिस ने शुक्रवार शाम पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में नकल करवाने की अफवाह फैलाने के आरोप में तीन युवकों को गिरफ्तार किया है

तारानगर.

पुलिस ने शुक्रवार शाम पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में नकल करवाने की अफवाह फैलाने के आरोप में तीन युवकों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली की गांव कोहिणा के कैलाश गोस्वामी व लक्ष्मण गोस्वामी पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में नकल करवाने की झूठी अफवाह फैलाने के लिए बाइक से कोहिणा, साहवा की ओर आ रहे है।

 

पुलिस ने साहवा-रैयाटुंडा मार्ग पर नाकाबंदी की तो कोहिणा की ओर से एक बाइक आती दिखाई दी। पुलिस ने बाइक को रोकने का संकेत किया तो बाइक सवार दोनों युवकों ने भगाने का प्रयास किया। पुलिस ने बाइक का पीछा कर कैलाश व लक्ष्मण को पकड़ लिया। दोनों ने पूछताछ में पुलिस को कांस्टेबल भर्ती परीक्षा का अभ्यर्थी बताया तो कभी कुछ अन्य जवाब दिया। उन्होंने पुलिस को कोई संतोषजनक जवाब नही दिया। तभी वहां एक अन्य युवक गांव धीरवास बड़ा का आदित्य जाट आया। आदित्य ने दोनों युवकों को अपना परिचित बताया व उन्हें छोडऩे की बात कही। पुलिस ने जब तीनों युवकों से सख्ती से पूछताछ की तो वे तीनों पुलिस से उलझने लगे इस पर पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया।

 

नौकरी दिलवाने के नाम पर युवक से ठगे 20 हजार रुपए


तारानगर. एक युवक ने कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में नौकरी दिलवाने के नाम पर उससे रुपए एठने का मामला दर्ज करवाया है। पुलिस के मुताबिक नोहर तहसील के गांव चैनपुरा के अनिल कुमार जाट नोहर में साहवा रोड पर मकान किराए पर लेकर कांस्टेबल भर्ती परीक्षा की तैयारी करता था।

 

तीन माह पहले अनिल के मकान पर रावतसर के गंधेली गांव निवासी बजलाल उर्फ विजय जाट आया। उसने अनिल से कहा कि वह 5 लाख रुपए देने पर उसे परीक्षा में पास करवाकर नौकरी दिलवा देगा। 10 जुलाई को बजलाल उर्फ विजय जाट ने अनिल कुमार को फोन कर रुपए मांगे। 12 जुलाई को वह अनिल के मकान पर आया और 13 जुलाई को प्रवेश पत्र व रुपए लेकर साहवा बस स्टैंड पर मिलने के लिए कहा।

 

13 जुलाई को सुबह अनिल व उसका पिता बलवीर दोनों साहवा बस स्टैंड पर गए तो वहां उन्हें बजलाल उर्फ विजय जाट मिला। वह उन्हें एक बंद होटल में ले गया और अनिल से 25 हजार रुपए व प्रवेश पत्र की दो फोटो कॉपी मांगी। अनिल ने बजलाल को 20 हजार रुपए व प्रवेश पत्र की दो फोटो कॉपी दे दी। इसके बाद विजय जाट वहां से चला गया। अनिल व उसके पिता बलवीर ने जब पता किया तो उन्हें मालूम पड़ा कि बजलाल जालसाज आदमी है। पुलिस ने अनिल की रिपोर्ट पर आरोपित बजलाल उर्फ विजय जाट के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

 

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned