scriptCorona epidemic snatched employment abroad | employment abroad churu: कोरोना महामारी ने विदेश में छीना रोजगार | Patrika News

employment abroad churu: कोरोना महामारी ने विदेश में छीना रोजगार

employment abroad churu: स्थिति सामान्य होने के बावजूद भी कंपनियों ने उन्हें बुलाने से इंकार कर दिया।

चुरू

Published: May 27, 2022 11:44:07 am

चूरू. कोरोना महामारी फैलने के बाद देश ही नहीं विदेशों में कमाने गए कामगारों से रोजगार छीन गया। लॉकडाउन के चलते अधिकांश काम धंधे बंद होने के कारण लोग सड़कों पर आ गए। लोगों के सामने परिवार पालन-पोषण का संकट खड़ा हो गया। रोजगार से छंटनी होने के साथ ही रोजगार भी ठप हो गए। चूरू में भी सैकड़ों लोग प्रतिवर्ष खाड़ी देशों में जाते हैं। लेकिन कोरोना की प्रथम लहर के कारण वहां की सरकार ने देश छोडऩे के आदेश दे दिए। स्थिति सामान्य होने के बावजूद भी कंपनियों ने उन्हें बुलाने से इंकार कर दिया।
employment abroad churu: कोरोना महामारी ने विदेश में छीना रोजगार
employment abroad churu: कोरोना महामारी ने विदेश में छीना रोजगार
श्रमेव जयते के मंत्र को अपनाकर श्रम और सम्मान भरी आजीविका का नया रास्ता चुन लिया। वतन आकर वापस से नई शुरुआत की, हालांकि पहले उन्हें कुछ मुश्किलों का सामना करना पड़ा, लेकिन धीरे-धीरे अब काम चलने लगा है। जानकारों की माने तो कुछ लोग ऐसे है जो कि अब विदेश नहीं जाना चाहता। लेकिन अधिकांश अभी भी खाड़ी जाना चाहते हैं। सरकार की ओर से खाड़ी देशों से लौटे कामगारों के लिए रोजगार की व्यवस्था के प्रयास किए गए, लेकिन सफल नहीं हो पाए।
जाने चाहते है लेकिन काम नहीं

जानकारों की माने तो खाड़ी देशों में काम के बदले वेतन अधिक होने के कारण युवाओं जाने चाहते हैं। लेकिन कोरोना के बाद में स्थितियां अब पूरी तरह से बदल चुकी है। खाड़ी देशों से लौटे युवाओं की माने तो वहां पर अधिकांश कंपनियां बंद हो चुकी है। छंटनी के कारण कंपनियां अब युवाओं को वापस बुलाने में दिलचस्पी नहीं दिखा रही है। कोरोना के पहले अधिकांश लोग छुट्टी लेकर घर लौटे थे, उनकी वीजा अवधी भी पूरी हो चुकी है। जमा पूंजी कोरोना के दौरान परिवार का पालन-पोषण में खत्म हो गई। ब्याज पर लेकर वापस लौटना कामगारों के लिए भारी साबित हो रहा है। दूसरी तरफ जिस कंपनी में जिले के युवा काम करते थे, उन्होंने अभी तक पिछला बकाया भुगतान नहीं किया है। कंपनियां कोरोना के बाद आर्थिक संकट के चलते बंद हो गई है, ऐसे में अब रोजगार के साधन नहीं है। ऐसे में विदेश लौटने के रास्ते बहुत कम हो गए हैं।
शुरू किया रोजगारकामगारों की माने तो खाड़ी देश में रोजगार नहीं मिलने पर जिले में ही स्वयं का रोजगार शुरू किया। कोरोना के दौरान अधिकांश युवाओं की पसंद खेती रही, ऐसे में खेती में आधुनिक तकनीक अपनाकर अच्छा मुनाफा कमाया। इसके अलावा किसी ने सब्जी व किराणा आदि की दुकाने लगाकर व्यवसाय शुरू किया, ऐसे में अच्छी आमदनी होने के कारण अब कई युवाओं का खाड़ी देशों के प्रति मोहभंग हो चुका है।
पहली लहर में लौटे

खाड़ी से लौट अहसान ने बताया कि जेदा से कोरोना की पहली लहर में चूरू लौटे थे। लॉकडाउन के कारण वापस लौटना मुश्किल हो गया। कंपनी ने भी छंटनी शुरू कर दी, बकाया रुपए भी नहीं लौटाए। उन्होंने बताया कि स्थिति को देखते हुए वापस विदेश लौटने के बजाए शहर में रहकर काम करने का विचार किया। ऐसे में शास्त्री बाजार में अपनी पिता की दुकान पर काम करना शुरू कर दिया। उन्होंने बताया कि विदेश जितने तो नहीं कमा पाते, लेकिन अभी इतना कमा लेते है कि परिवार का पालन-पोषण अच्छी तरह से कर सके।
कंपनी ने कर दी छटनी

काजियो का मोहल्ला, चमन बास निवासी मोहम्मद जुबैर ने बताया कि दोहा-कतर स्थित एक कंपनी में इलेक्ट्रीशियन के पद पर कार्यरत थे। कोरोना की पहली लहर शुरू होने से कुछ दिन पहले चार माह की छुट्टी लेकर लौटे थे। लेकिन कोरोना के बाद अचानक स्थितियां बदल गई। उन्होंने बताया कि वापस जाने की कोशिश की, लेकिन कंपनी ने वापस नहीं बुलाया। अधिकांश कर्मचारियों की छटनी कर दी गई। उन्होंने बताया की सारी परिस्थितियां देखकर शहर में काम शुरू किया। जुबैर ने बताया कि अब धीरे-धीरे काम आने लगा है। उन्होंने बताया कि विदेश जाना चाहते है, लेकिन आर्थिक तंगी होने के साथ ही अब कंपनी में भी काम नहीं है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: खतरे में MVA सरकार! समर्थन वापस लेने की तैयारी में शिंदे खेमा, राज्यपाल से जल्द करेंगे संपर्क?Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे की याचिका पर SC ने डिप्टी स्पीकर, महाराष्ट्र पुलिस और केंद्र को भेजा नोटिस, 5 दिन के भीतर जवाब मांगाMaharashtra Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट से शिंदे खेमे को मिली राहत, अब 12 जुलाई तक दे सकते है डिप्टी स्पीकर के अयोग्यता नोटिस का जवाब"BJP से डर रही", तीस्ता की गिरफ़्तारी पर पिनाराई विजयन ने कांग्रेस की चुप्पी पर साधा निशानाअंबानी परिवार की सुरक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट कल करेगा सुनवाई, जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर एकनाथ शिंदे ने कहा- यह बालासाहेब के हिंदुत्व और आनंद दिघे के विचारों की जीत हैMaharashtra Political Crisis: शिंदे खेमा काफी ताकतवर, उद्धव ठाकरे के लिए मुश्किल होगा दोबारा शिवसेना को खड़ा करनासचिन पायलट बोले-गहलोत मेरे पितातुल्य, उनकी बातों को अदरवाइज नहीं लेता
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.