कृषि बिलों के पीछे सरकार की नीयत साफ नहीं: जयंत

पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरणसिंह के पौत्र एवं राष्ट्रीय लोकदल के नेता जयंत चौधरी ने रतनपुरा गांव में आयोजित महापंचायत में कहा कि चौधरी चरणसिंह, कुंभाराम आर्य एवं दौलतराम सहारण जैसे नेताओं के संस्कारों को जीवित करना वर्तमान समय की मांग है।

By: Madhusudan Sharma

Published: 02 Mar 2021, 04:30 PM IST

सादुलपुर. पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरणसिंह के पौत्र एवं राष्ट्रीय लोकदल के नेता जयंत चौधरी ने रतनपुरा गांव में आयोजित महापंचायत में कहा कि चौधरी चरणसिंह, कुंभाराम आर्य एवं दौलतराम सहारण जैसे नेताओं के संस्कारों को जीवित करना वर्तमान समय की मांग है। जब तक किसान दु:खी है, धरती पर तूफान आते रहेंगे। चौधरी गांव डोकवा से ट्रैक्टर चलाकर सभास्थल तक पहुंचे। उन्होंने शहीद शमशेर सुंडा को श्रद्धासुमन अर्पित किए। चौधरी ने कहा कि केंद्र सरकार की राष्ट्र के प्रति भावना पवित्र होती, तो निश्चित रूप से किसान विरोधी बिलों को किसान संगठनों के साथ वार्ता करने के बाद लाते। पीएम मोदी की फकीरी लोगों को समझ नहीं आ रही है। मोदी की सभाओं के लिए करोड़ों रुपए मंच पर खर्च होते हैं। अंबानी, अडानी जैसे लोगों के फायदे के लिए भाजपा सरकार बनी है। चौधरी ने कहा कि कृषि बिलों के पीछे सरकार की नीयत साफ नहीं है। सभा को यूपी बागपत के विधायक राजेन्द्र शर्मा ने भी संबोधित किया। संचालन रामनिवास खीचड़ ने किया। वहीं शहीद शमषेरसिंह के पुत्र भरतसिंह सुंडा ने साफा पहनाकर एवं राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेशाध्यक्ष कृष्ण सहारण ने अभिनंदन किया।
इन्होंने भी किया संबोधित
राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेशाध्यक्ष कृष्ण कुमार सहारण ने किसान हित में संघर्ष की आवश्यकता जताई। उन्होंने कहा कि चौधरी चरणसिंह ने नारा दिया था कि खेत-खलिहान से होकर देश के विकास का रास्ता गुजरता है। जिसे साकार करना है। इसके अलावा भल्लेराम पूनिया, आशाराम सैनी चूरू, उमाशंकर शर्मा तारानगर, रामनिवास खीचड़, शेरसिंह पूनिया, जयसिंह राठौड़, भोजराज सिंह, राजेन्द्रसिंह धेतरवाल, भूपसिंह खुड्डी, आनंद रुलानिया, श्योलालसिंह राठौड़, वेदपाल मलिक, कमला पूनिया, बनवारीलाल, राजेन्द्र कालरी, प्रतापसिंह बैनीवाल भादरा, शेरसिंह बैनीवाल भादरा, सुनील पूनिया, इलियास खान, बीरबल सिद्ध सरदारषहर आदि ने भी सभा को संबोधित किया।
जाजम पर बैठे चौधरी जयंत
सभास्थल पर मंच नहीं बनाया गया था, बल्कि एक ट्रैक्टर ट्रॉली पर माइक सेट रखकर मंच का रूप दिया गया था। आयोजकों ने बताया कि जयंत चौधरी ने मंच के लिए मना कर कहा कि किसान महापंचायत के लिए जाजम पर बैठकर बात करेंगे। ट्रैक्टर ट्रॉली पर चढ़कर संबोधित किया। सीकर से पहुंची महिलाओं ने चौधरी का स्वागत किया। सीकर के सुलतानसिंह सुंडा ने कविता प्रस्तुत की।
जगह-जगह हुआ स्वागत
जयंत चौधरी झुंझुनूं से सीधे रतनपुरा पहुंचे। रास्ते में सांखू, बैरासर, लंबोर, सादुलपुर एवं डोकवा गांव में ग्रामीणों एवं युवाओं ने माल्यार्पण कर अभिनंदन किया। डोकवा गांव से जयंत चौधरी ट्रैक्टर चलाना शुरू किया। इनका काफिला ट्रैक्टर, पिकअप, जीप, बाइक आदि वाहनों के साथ रतनपुरा पहुंचा।

Show More
Madhusudan Sharma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned