बढ़ रहे मरीज, पर बिना दवा ठीक भी हो रहे

कोरोना वायरस का संक्रमण इस समय उफान पर है। गत आठ मई के पहले के 14 संक्रमितों के आंकड़े की आड़ लेकर देखें, तो भरोसा ही नहीं होगा कि गत डेढ़ महीने की अवधि में संक्रमितों की तादाद 14 की तुलना में 314 तक जा पहुंची है।

By: Madhusudan Sharma

Published: 02 Jul 2020, 10:26 AM IST

बृजेश सिंह
चूरू. कोरोना वायरस का संक्रमण इस समय उफान पर है। गत आठ मई के पहले के 14 संक्रमितों के आंकड़े की आड़ लेकर देखें, तो भरोसा ही नहीं होगा कि गत डेढ़ महीने की अवधि में संक्रमितों की तादाद 14 की तुलना में 314 तक जा पहुंची है। हालांकि, राहत और हौसला देने वाला तथ्य यह है कि भले ही चूरू में संक्रमितों की तादाद सैकड़ों का आंकड़ा पार कर रही हो, लेकिन यहां गंभीर किस्म के मरीजों की तादाद लगभग न के बराबर है। आईसीएमआर की गाईडलाइन और परिभाषा के परिप्रेक्ष्य में देखें, तो लगभग ढाई फीसदी या उससे भी कम मरीज मॉडरेट श्रेणी में आते हैं, जिन्हें वस्तुत: 'इंजेक्टिबलÓ दवाओं की जरूरत पड़ रही है।
80 फीसदी को नहीं पड़ी दवाओं की जरूरत
29 जून की शाम तक के आंकड़ों के हवाले से देखें, तो 314 संक्रमितों में से चूरू अस्पताल और एएनएमटीसी सेंटर स्थित डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर में 236 मरीजों का गत 30 मार्च से लेकर अब तक इलाज हो चुका है। अब भी चूरू में कुल मिला कर 22 एक्टिव केस हैं, जिनका यहां अस्पताल अथवा निजी सुविधा में इलाज चल रहा है। मरीजों के इलाज के लिए तीन मेडिसिन यूनिटों में से एक के प्रभारी सहायक आचार्य डॉ. दीपक चौधरी इस तथ्य की पुष्टि करते हैं। डॉ. चौधरी के मुताबिक इलाज के दौरान यह तथ्य सामने आया है कि अधिकतर मरीज न सिर्फ असिम्टोमैटिक यानी कि अलाक्षणिक हैं, बल्कि उनमें से कइयों को तो डिस्चार्ज होने तक न तो बुखार-खांसी जैसी सामान्य परेशानियां हुईं और न ही छींक जैसा भी कुछ आया। नतीजे में उन्हें आईसीएमआर की गाइडलाइन के अनुसार ही अनुमन्य इलाज दिया गया। वे ठीक होकर घर जा चुके हैं।
11 रोगी, जिनमें दिखे गंभीर लक्षण
डॉ. चौधरी के मुताबिक, चूरू से कुल मिला कर 10 मरीजों को बीकानेर अथवा जयपुर इलाज के लिए रैफर किया गया। ऐसे एक मरीज का यहीं चूरू में इलाज हुआ। क्योंकि इन मरीजों को मॉडरेट श्रेणी का माना गया। इनमें श्वसन संबंधी दिक्कतों के अलावा चेस्ट एक्सरे में पैचे•ा, ऑक्सीजन लेवल का स्तर नीचे होना, उम्र में 55-6 0 या उससे अधिक होना, बीपी-शुगर का मरीज होने जैसे कॉम्लीकेशंस थे। डॉ. चौधरी के मुताबिक, इन्हें छोड़ दिया जाए, तो कम से कम चूरू में इलाज के लिए आए रोगियों में से अधिकांश ऐसे ही थे, जिन्हें सामान्य उपचार या कईयों को तो उसकी भी जरूरत नहीं पड़ी।
करीब 15 फीसदी को देनी पड़ी सामान्य दवाएं
एक अन्य मेडिसिन यूनिट के प्रभारी डॉ. एफएच गौरी ने भी तकरीबन इसी तथ्य की ओर इशारा किया। उनका कहना था कि चूरू में आए मरीजों में से तकरीबन 8 0 फीसदी में लक्षण बिलकुल ही नहीं थे। हालांकि, उन्हें आईसीएमआर की गाइडलाइन के अनुरूप इलाज दिया गया। तकरीबन 15 फीसदी मरीज ऐसे थे, जिन्हें बुखार-खांसी आने पर पैरासिटामोल अथवा खांसी की सामान्य दवाएं देने की जरूरत पड़ी।
चूरू में आए मरीज
चूरू में संक्रमित मरीजों का इलाज कर रहे चिकित्सकों की मानें, तो यहां तकरीबन 95 फीसदी मरीज माइल्ड श्रेणी के थे, जिन्हें या तो कोई लक्षण नहीं थे अथवा भर्ती के दौरान कभी हल्का बुखार या खांसी आ गई। बाकी के पांच फीसदी में से करीब ढाई फीसदी मरीज (तकरीबन एक दर्जन) ऐसे थे, जिन्हें इंटेक्टेबल दवाओं की जरूरत पड़ी। कुछ को ऑक्सीजन सपोर्ट भी देना पड़ा, क्योंकि उनका सैचुरेशन स्तर 92 फीसदी से नीचे था।
सिर्फ एक मामला ऐसा, जो रहा चुनौतीपूर्ण
चिकित्सकों से मिली जानकारी के मुताबिक, इनमें से भी सिर्फ एक मरीज ऐसा रहा, जिसे वस्तुत: हम गंभीर मरीज की श्रेणी में डाल सकते हैं। उस मरीज में श्वसन की गति 24 से अधिक थी। आक्सीजन का सैचुरेशन लेवल भी 92 फीसदी से कम था। उसे 2 से 4 लीटर ऑक्सीजन की जरूरत पड़ी। खून पतला करने की दवाइयां देनी पड़ीं। हिपैटिन इंजेक्शन की भी आवश्यकता इस मामले में पड़ती रही।
कौन हैं मॉडरेट श्रेणी के मरीज
हल्का निमोनिया के लक्षणों वाला, सांस लेने में दिक्कत, सांस लेने की गति 24 से 28 के बीच हो और शरीर के अंदर ऑक्सीजन लेवल 90 फीसदी से कम हो (नई गाइडलाइन में 92 फीसदी से कम), बीपी शुगर का मरीज हो, श्वसन संबंधी दिक्कतें पहले से हों, किसी अन्य गंभीर रोग से ग्रस्त हो, 6 0 से ज्यादा उम्र वाला हो, चेन स्मोकर, अस्थमा मरीज, गर्भवती महिला मॉडरेट श्रेणी में आती है। यही केस बिगड़ जाने पर गंभीर मामलों में तबदील हो जाते हैं।
हेल्दी डाइट ने भी की मदद
मरीजों के इलाज में हाई प्रोटीन और एंटी ऑक्सीडेंट युक्त भोजन ने भी मदद की। इसके अलावा आयुर्वेद विभाग की ओर से मरीजों को काढ़ा वितरण भी किया गया। चिकित्सकों की मानें, तो हेल्दी डाइट ने मरीजों के उपचार में काफी हद तक मदद की।

विदेशों में धंधा ठप, अब गांव में खेती से ही जीवन सवारेंगे
विदेश में कमाते थे, अब अपनी माटी में रहे काम
मेरी गांव, मेरा अभिमान
सीएच02सी12,13,14
घांघू. कोरोना महामारी ने देश और विदेश में अपना स्वयं का काम धंधा और नौकरी करने वाले लोगों के जीवन को काफी प्रभावित किया। उन्होंने काम धंधा ठप होने के बाद जन्मभूमि की तरफ रुख किया। क्वारंटीन में रहने के बाद अपने गांवों में ही काम धंधा तलाशा और जीवन को ठहरने नहीं दिया। घांघू गांव के राजेश कुमार जांगिड़ ने बताया की वह मस्कत में फर्नीचर का काम करते थे, कोरोना महामारी के चलते वहां काम ठप हो गया। वह 21 मई को भारत आ गया। जांगिड़ ने बताया की अपनी जन्मभूमि में ही खेत में जैविक खाद से खेती करेंगे और लोगों को बिना रासायनिक खाद का खाद्यान्न उप्लब्ध करवाएंगे। खेत में बाजरा, मूंग, चवला और ग्वार की बिजाई करवा दी अनाज अच्छा है और खेत में निनाण निकालने का काम कर रहे हैं। ट्यूववैल शुरू होते ही खेत में फलदार पौधे भी लगाएंगे। यदि हम बढिया तरीके से खेती बाड़ी और पशुपालन पर ध्यान देंगे तो किसान खुशहाल होगा। सरकार किसानों को समय पर बिजली कनेक्शन और 15 घण्टे बिजली उप्लब्ध कराए तो किसान को राहत मिल सकेगी।
मस्कत से आया: अब कर रहा भवन निर्माण का काम
सादुलपुर. शहर के वार्ड नंबर 25 निवासी गंगाधर गत 15 वर्षों से मस्कत में मजदूरी करते हैं तथ अपने बच्चों का भरण-पोषण करते थे। लॉकडाउन से पहले मस्कत से छुट्टी लेकर घर आ गए थे तथा लॉकडाउन लग जाने के कारण वापस मस्कत नहीं जा सके। जिसके कारण आर्थिक संकट खड़ा हो गया। लेकिन मिस्त्री का हुनर फिर काम आया तथा शहर में भवन निर्माण का काम करने लगे एवं मजदूरी कमाने लगे। उनका कहना है कि घर में सुकून मिल रहा है।

काम नहीं मिला तो नरेगा में की मजदूरी
गांव नीमा निवासी मुकेश कुमार गत छह साल से सउदी-अरब में मेहनत-मजदूरी कर अपने परिवार का पालन-पोषण करता था। लेकिन लॉकडाउन से पहले छुट्टी आया था तथा वापस नहीं जा पाया। तीन महिनों से घर बैठने के कारण आर्थिक संकट खड़ा हो गया। लेकिन मेहनत के बल पर मजदूरी शुरू की। काम नहीं मिला तो नरेगा में भी मजदूरी की। वर्तमान में निकटवर्ती शहर पिलानी और गांव में ही काम कैसा भी मिले। मेहनत कर अपने परिवार का पालन-पोषण कर रहा है।

Madhusudan Sharma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned