विद्यालयों में गुरुजी जांचेंगे अब दूध की गुणवत्ता

विद्यालयों में गुरुजी जांचेंगे अब दूध की गुणवत्ता
churu photo

Rakesh Kumar Goutam | Updated: 25 Jun 2018, 12:52:13 PM (IST) Churu, Rajasthan, India

मिड-डे-मील

सुजानगढ़.

 

आगामी दो जुलाई से सरकारी स्कूलों में बच्चों को मिड-डे-मील में मिलने वाले दूध की गुणवत्ता की जांच गुरुजी करेंगे।
स्कूलों में दूध का वितरण संस्थाप्रधानों व शिक्षकों के लिए एक नई परेशानी खड़ी कर सकता है। शिक्षा विभाग ने आदेश में कहा कि प्रति 100 मिलीलीटर में प्रोटीन की मात्रा 3.2 ग्राम, वसा 3.00 ग्राम, कैलोरी 58 केसीएएल व कार्बोहाइड्रेट 4.6 ग्राम होनी चाहिए। इस दूध की जांच लेक्टोमीटर से की जाएगी। लेक्टोमीटर स्कूल में खरीद कर रखा जाएगा। विद्यार्थियो को दूध पिलाने से पहले प्रतिदिन एक अध्यापक, एक विद्यार्थी के अभिभावक व एसएमसी के सदस्य पोषाहार की तरह चख कर देखेंगे। इस बारे में पूरी तरह से संतुष्ट हों तभी बच्चों को दूध दिया जाएगा। नहीं तो उसे रोक लेंगे ताकि बच्चों के स्वास्थ्य में किसी प्रकार का दुष्प्रभाव न पड़े।

 

इस तरह कर सकते हैं सिंथेटिक दूध की जांच
स्कूल में सिंथेटिक दूध की सप्लाई रोकने के लिए खाद्य सुरक्षा अधिकारी व सहकारी डेयरी के अधिकारियों से समय-समय पर दूध की जांच करवाएंगे। इसके लिए खाद्य निरीक्षक स्कूलों में जाकर भी जांच करेंगे। शिक्षक इन दिनों अपने वाट्सएप ग्रुपों में सिंथेटिक दूध की सप्लाई रोकने के लिए कई उपाय साझा कर रहे हंै। एक शिक्षक ने बताया कि दूध में स्टार्च की जांच के लिए 5 से 10 मिली लीटर दूध में तीन या चार बूंदें टिंचर आयोडीन की डालें। यदि दूध का रंग नीला हो जाए तो उसमें स्टार्च की मिलावट है। यूरिया की जांच के लिए 5 से 10 मिलीलीटर दूध में चुटकी भर सोयाबीन पाउडर व चुटकी भर हल्दी पाउडर डाले। यदि इसमें लाल रंग आए तो यूरिया मिला है। दूध में वनस्पति की जांच के लिए 10 एमएल दूध लेकर इसमें कई बूंदें सांद्र एचसीआई व आधा चम्मच शक्कर मिलाकर हिलाएं। यदि इसमें लाल रंग तो समझें की इसमें वनस्पति है। इसी प्रकार और भी कई उपाय है। जिससे नकली व सिंथेटिक दूध पकड़ा जा सकता है।

 

दूध जांचने के लिए लेक्टोमीटर खरीदने के निर्देश शाला प्रधानों को दिए जा चुके हैं।
कैलाश मेघवाल, एबीईईओ, सुजानगढ़

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned