चूरू जिले में छह सौ हैक्टयेर में खराबा

जिले में अनेक स्थानों पर हुई ओलावृष्टि ने किसानों की कमर तोड़ दी है। गुरुवार व शुक्रवार दो दिनों में ही किसानों की मेहनत पर पानी फिर गया है। इसके कारण जिले में करीब साढ़े छह सौ हैक्टेयर में जीरे व ईसबगोल की खेती को नुकसान हुआ है।

By: Madhusudan Sharma

Published: 07 Mar 2020, 11:33 AM IST

चूरू. जिले में अनेक स्थानों पर हुई ओलावृष्टि ने किसानों की कमर तोड़ दी है। गुरुवार व शुक्रवार दो दिनों में ही किसानों की मेहनत पर पानी फिर गया है। इसके कारण जिले में करीब साढ़े छह सौ हैक्टेयर में जीरे व ईसबगोल की खेती को नुकसान हुआ है। कृषि विभाग के अधिकारियों का मानना है सरसों, चना, गेहूं आदि की फसलों में आंशिक नुकसान है। सांसद राहुल कस्वा ने शुक्रवार को केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी से मुलाकात कर चूरू लोकसभा क्षेत्र में दो दिनों से बारिश व ओलावृष्टि से हुए नुकसान को लेकर समस्या से अवगत कराया। सांसद ने मंत्री को बताया की ओलावृष्टि से नोहर तहसील, रतनगढ़, राजगढ़, सरदारशहर में फसलों को नुकसान हुआ है। सुजानगढ व रतनगढ में पकी फसल नष्ट हो चुकी है। सांसद ने गिरदावरी करवाकर उन्हें मुआवजा दिलाने की मांग की है। इधर भाजपा जिलाध्यक्ष पंकज गुप्ता व जिला प्रमुख हरलाल सहारण के नेतृत्व में जिले में हुई ओलावृष्टि को लेकर किसानों को मुआवजा दिलाने की मांग की है।
घांघू. क्षेत्र में अन्धड़ व बारिश से खेतों में पकी फसल बर्बाद हो गई। अंधड़ के साथ गिरे ओले गिरे। जिससे किसानों की फसल नष्ट हो गई। गेहूं, जौ, सरसों और चने की फसलों में नुकसान हुआ। गांव दांदू के किसान जगदीश सिहाग,सिहागों की ढाणी के ओंकारमल सिहाग ने बताया कि ओले से फसल चौपट हो गई। घांघू, दांदू, बास जसवंतपुरा, ढाणी तवंरान में खेतों में ओले गिरे।
रतनगढ. क्षेत्रीय विधायक अभिनेष महर्षि ने सीएम अशोक गहलोत व आपदा राहत एवं सहकारिता मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल से मिलकर ज्ञापन देकर रतनगढ़ विधानसभा क्षेत्र के दर्जनों गांवों में हुई ओलावृष्टि से फसल खराबे का मुआवजा दिलाने की मांग की। रतनगढ़ के राजकीय सामान्य चिकित्सालय, राजलदेसर, छापर, पडि़हारा, सीएचसी,पीएचसी व उप केन्द्रों के चिकित्साकर्मी एवं नर्सिंग कार्मिकों के रिक्त पदों को भरने की मांग का ज्ञापन भी दिया।
चूरू. जिला मुख्यालय पर शुक्रवार सुबह करीब आठ बजे जोरदार बारिश हुई। हवा के साथ हुई तेज बारिश से शहर के मुख्य मार्गों पर पानी भर गया। इधर बारिश के कारण सर्दी का असर भी तेज हो गया। जिला मुख्यालय पर दिनभर ठंडी हवाएं चलने के कारण लोग गर्म कपड़ों में लिपटे नजर आए। इधर जिले भर में ओलावृष्टि से हुए नुकसान को लेकर नेताओं ने ग्रामीण क्षेत्रों का दौरा किया और फसल की गिरदावरी करवाकर मुआवजा दिलाने की मांग प्रशासन से की। इधर मौसम विभाग के मुताबिक अधिकतम 18.0 और न्यूनतम तापमान 13.0 डिग्री सैल्सियस रिकॉर्ड किया गया है। इसके अलावा सुबह साढ़े आठ बजे बाद तक 13 एमएम बारिश रिकॉर्डकी गईहै।
सुजानगढ़ में 18 एमएम बारिश
सुजानगढ़. क्षेत्र में हुई बरसात से जीरा व ईसबगोल की फसल को नुकसान हुआ है। बरसात से जीरा की अधिकांश फसल खराब हो चुकी है, जबकि ईसबगोल में 20-25 प्रतिशत फसल खराब हुई। भाजपा बूथ अध्यक्ष धन्नाराम सिद्ध ने जिला कलक्टर से मुआवजा दिलाने की मांग की है।
सरदारशहर. क्षेत्र में गुरुवार रात रुक-रुक कर हुई बारिश से मुख्य बाजार, शिव मार्केट, सब्जी मण्डी आदि इलाकों में पानी भर गया। कई गांवों में ओलों से फसलें चौपट हो गई। किसान सभा के प्रदेश महामंत्री छगनलाल चौधरी ने गिरदावरी करवाकर मुआवजा देने की मांग की है।
सांखूफोर्ट. क्षेत्र में सुबह तेज बारिश हुई। तेज बारिश से मुख्य बाजार में स्थित देवीसिंह तंवर के घर में पानी घुस गया। वहीं मुख्य सड़क पर पानी एकत्रित होने से लोगों को परेशानी हुई।
बीदासर. कस्बे में गुरुवार रात से रूक रूक कर कभी तेज तो कभी हल्की बरसात का दौर शुक्रवार की दोपहर तक जारी रहा। सर्दी हवाओं के कारण बक्सों में बंद गर्म कपड़ों को लोगोंं ने निकाला।बरसात के कारण मुख्य मार्गों पर पानी भरने से आमजन को परेशानी हुई।
जसवंतगढ़. कस्बे मे बरसात से सर्दी का असर बढ़ा, शुक्रवार को सुबह से ही बादलों की गर्जना के साथ बारिश का दौर शुरू हुआ।दोपहर में फिर तेज हवाओं के साथ बरसात शुरू हुई जिसमे चने के आकार के ओले भी गिरे। कई मार्गों मे पानी का भराव हो गया।
सादुलपुर. अचानक बदले मौसम के कारण तीसरे दिन सुबह से ही ग्रामीण क्षेत्रों में बारिष के साथ ओले गिरने के भी समाचार प्राप्त हुए हैं। अल सुबह ही बादल छाए रहे तथा बारिष का दौर दिनभर जारी रहा। गांव नवां, नीमा, हमीरवास, चांदगोठी, भाकरा आदि गांवों में ओले गिरे। गांव भाकरा, गागड़वास, राघाबड़ी, राघाछोटी, खेरू बड़ी एवं खेरू छोटी में भी बारिश होने के समाचार मिले है। खेतों में फसलों को नुकसान होने की आशंका से किसान चिंतित दिखाई दिए।
लाडनूं. कस्बे में सुबह बारिश के दौरान हुई ओलावृष्टि से किसानों के चेहरे मुरझा गए। बारिश के साथ ओले गिरने से किसानों की फसलें बर्बाद हो गई। ग्राम पंचायत असोटा के गांव पदमपुरा व आसोटा आदि जगह किसानों की फसलें चौपट हो गई। सरपंच हरदयाल रूलानिया ने फसलों के नुकसान का जायजा लिया। उन्होंने किसानों को मुआवजा देने की मांग की।

Show More
Madhusudan Sharma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned