अवैध हथियार बनाने का कारखाना पकड़ा

सांडवा थाना इलाके के गांव सारोठिया में पुलिस ने एक मकान में दबिश देकर अवैध हथियार बनाने का कारखाना पकड़ा है, जिसे देखकर पुलिसकर्मी भी चौंक गए। मौके पर बंदूक, कारतूस सहित हथियार बनाने के भारी मात्रा में औजार जब्त किए हैं।

By: Madhusudan Sharma

Published: 19 Apr 2021, 09:43 AM IST

सांडवा. सांडवा थाना इलाके के गांव सारोठिया में पुलिस ने एक मकान में दबिश देकर अवैध हथियार बनाने का कारखाना पकड़ा है, जिसे देखकर पुलिसकर्मी भी चौंक गए। मौके पर बंदूक, कारतूस सहित हथियार बनाने के भारी मात्रा में औजार जब्त किए हैं। साथ ही पुलिस को हिरण व अन्य पक्षियों की खाल व मांस भी मौके पर मिला है, इस संबंध में वन विभाग को सूचना दी है। मामले में तीन जनों को गिरफ्तार किया गया है। सांडवा थानाधिकारी सुरेन्द्र कुमार ने बताया कि एसपी नारायण टोगस के आदेशानुसार लोकल व स्पेशल एक्ट में कार्रवाई के लिए विशेष अभियान चलाया हुआ है। इसके तहत अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुजानगढ सीताराम माहिच, उप पुलिस अधीक्षक सुजानगढ रामप्रताप विश्नोई के दिशा निर्देश में कार्रवाई करते हुए अवैध हथियार बनाने का बड़ा कारखाना मिला। यह कारखाना सारोठिया में कल्याण सिंह के घर पर चल रहा था। पुलिस ने दबिश देकर आरोपित कल्याणसिंह राजपूत 70 वर्ष निवासी सारोठिया , रघुवीरसिंह राजपूत 37 वर्ष , गजेन्द्र सिंह राजपूत 35 वर्ष को गिरफ्तार किया है। मुल्जिमानों के कब्जे सें 12 बोर दुनाली बन्दूक , 2 टोपीदार बन्दूक , एक 0.22 राइफल , 3 धारदार तलवार, 130 जिंदा कारतूस 0.22 , 5 खाली खोखे 0.22 कारतूस , 26 जिंदा कारतूस 12 बोर बन्दूक , 2 खाली खोखे 12 बोर बन्दूक , 3.200 ग्राम बारूद के छर्रे , 480 ग्राम बारूद , 10 लकड़ी के बट , 5 बैरल लोहे , एक हाथ से चलाने की लोहे की ड्रिल मशीन , एक लोहे की आरी, जब्त कर आ र्स एक्ट सहित विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। कार्रवाई टीम में हेड कॉन्स्टेबल महिपाल सिंह, कॉन्स्टेबल प्रतापसिंह, जयवीर आदि शामिल रहे।
लकड़ी तस्करों का हरियाणा कनेक्शन, लकड़ी बेचकर लाते डीजल
चूरू. हरियाणा से प्रदेश का अवैध शराब के कारोबार के कनेक्शन के लिए तो कई बार सुन रखा है। लेकिन अब लकड़ी की तस्करी करने वालों का भी हरियाणा से जुड़ाव होता जा रहा है। हालांकि इन दिनों वन विभाग की कार्रवाई के चलते अवैध कारोबार से जुड़े लोगों में हड़क प मचा हुआ है। वन विभाग की कार्रवाई पर गौर करें तो हाल में दूधवाखारा रेलवे स्टेशन के पास एनएच 52 पर विभाग की ओर से लकडिय़ों से भरी हुई पिकअप को जब्त किया गया था। जिसमें आरोपी राज्य वृक्ष खेजड़ी की लकड़ी की तस्करी कर हरियाणा ले जा रहे थे। तलाशी लेने पर गाड़ी में बड़े-बड़े खाली ड्रम भी पाए गए। इस संबंध में आरोपियों ने बताया था कि हरियाणा में सड़क किनारे लगने वाले ढाबों पर लकडिय़ों को बहुत अधिक मांग है। ढाबा संचालकों की ओर से इसके लिए अच्छी कीमत भी दी जाती है।सूत्रों के मुताबिक लकड़ी की तस्करी से जुड़े आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि हरियाणा में लकड़ी बेचकर वहां से ड्रमों में डीजल भरकर लाते हैं। वैट के कारण राजस्थान के बजाए हरियाणा में पेट्रोल-डीजल सस्ता है। डीजल को लेकर आस-पास में बेच दिया जाता है। इस काम में उन्हें काफी मुनाफा हो रहा है। कच्चे-पक्के रास्तों के जानकार होने के कारण पुलिस भी आसानी से उन्हें पकड़ नहीं पाती है। वैसे भी पुलिस का ध्यान लकड़ी के बजाए शराब व डोडा-पोस्त की तस्करी से जुड़े लोगों पर होता है। दूसरी तरफ लकड़ी तस्करी करते हुए पकड़े जाने पर जुर्माना भी काफी कम होता है।

Show More
Madhusudan Sharma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned