अन्तर्राज्यीय साईबर ठग गिरोह का पर्दाफाश, 10 सदस्य गिरफ्तार

पुलिस ने बुधवार को कस्बे में अन्तर्राज्यीय साईबर ठग गिरोह का पर्दाफाश कर गिरोह के 10 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। गिरोह के सदस्य फर्जी कॉल सेंटर चलाकर फर्जी बैंक अधिकारी बनकर लोगों को ठगी का शिकार बनाते थे।

By: Madhusudan Sharma

Published: 20 Jan 2021, 07:05 PM IST

तारानगर. पुलिस ने बुधवार को कस्बे में अन्तर्राज्यीय साईबर ठग गिरोह का पर्दाफाश कर गिरोह के 10 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। गिरोह के सदस्य फर्जी कॉल सेंटर चलाकर फर्जी बैंक अधिकारी बनकर लोगों को ठगी का शिकार बनाते थे। पुलिस के मुताबिक पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली की कस्बे में पंचायत समिति के पास स्थित निर्माणाधीन राजकीय महिला महाविद्यालय में एक ठग गिरोह ठहरा हुआ है जो लोगों से ठगी करने के फिराक में है। जानकारी मिलने पर तारानगर पुलिस ने चूरू पुलिस अधीक्षक नारायण टोगस से सम्पर्क कर ठग गिरोह को पकडऩे के लिए उनके दिशा-निर्देश पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक चूरू योगेन्द्र फौजदार व राजगढ वृताधिकारी बृजमोहन असवाल के निर्देशन में एक पुलिस टीम गठित की गई। टीम ने गिरोह को पकडऩे के लिए योजना बनाई व मौके पर पहुंचकर ठग गिरोह को चारों ओर से घेर कर उन्हें धर दबोचा। पुलिस ने ठग गिरोह में शामिल नई दिल्ली के तिलक नगर निवासी विनय अग्रवाल, निखिल पंजाबी, मोहित अग्रवाल, रमनदीप खिक्ख, तरणदीपसिंह सिक्ख, नई दिल्ली के मोतीनगर निवासी मिकाइल लोयल, नई दिल्ली के रनहोला निवासी कौशल मौर्य, नई दिल्ली के राजौरी गार्डन निवासी मयंक रहेजा पंजाबी, नई दिल्ली के शास्त्रीनगर निवासी रोहन गुप्ता को गिरफ्तार कर उनसे 27 मोबाईल, 40 सिम कार्ड, 19 डेबिट कार्ड, 4 चैक बुक, 4 लाख 3 हजार रूपए नकद व दो गाड़ी जब्त की है। पुलिस ने जब ठग गिरोह के सदस्यों को तारानगर थाने लाकर उनसे पूछताछ की तो उन्होंने लोगों से साईबर ठगी करने के अपराध को कबूल किया। पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार किए गए ठग गिरोह के सदस्य फर्जी सिम व मोबाईल के माध्यम से कॉल सेंटर चलाकर लोगों से रूपए ठगी करने का कार्य करते थे। ठग गिरोह के सदस्य स्वयं व विभिन्न एजेंटों के माध्यम से लोगों को फोन कर अपने आप को बैंक अधिकारी बताकर उनसे क्रेडिट कार्ड का डेटा व गोपनीय जानकारी ले लेते। क्रेडिट कार्ड का डेटा व गोपनीय जानकारी हासिल करने के बाद ठग गिरोह के सदस्य गेटवे के माध्यम से क्रेडिटधारकों के रूपए ट्रांसफर कर उन्हें नकदी में प्राप्त कर लेते। रूपए ठगी करने के बाद गिरोह के सदस्य अपने सिम के नम्बर बंद कर देते और अपने कॉल सेंटर का स्थान भी बदल देते। पुलिस से बचने के लिए ठग गिरोह एक स्थान पर कॉल सेंटर न चलाकर बार-बार स्थान बदलते व चलते हुए ठगी करते थे ताकि पुलिस की पकड़ में न आए।
ठग गिरोह को पकडऩे वाली पुलिस टीम में तारानगर थानाधिकारी गोविंदराम, सदर पुलिस थाना चूरू एसएचओ अमित कुमार, साईबर सेल चूरू के कांस्टेबल रमाकांत, तारानगर थाने के हैड कांस्टेबल सुरेन्द्रसिंह, कांस्टेबल संदीप कुमार, ओमप्रकाष, नंदलाल, ओमप्रकाष, रामनिवास, चालक बलजिन्द्र आदि पुलिसकर्मी शामिल थे। पुलिस ठग गिरोह के सदस्यों से अन्य वारदातों के बारे में पूछताछ कर रही है।

Show More
Madhusudan Sharma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned