सोश्यल साइट पर वायरल हुए बयान से घबराए मंडेलिया

कांगे्रस जिलाध्यक्ष के खिलाफ वायरल हुए बयान के बाद कांग्रेस नेता रफीक मंडेलिया ने बयान को विरोधियों की ओर से तोड़ मरोड़ कर पेश करना बताया।

By: Madhusudan Sharma

Published: 25 Apr 2018, 04:05 PM IST

चूरू. सोशल साइट पर कांगे्रस जिलाध्यक्ष भंवरलाल पुजारी के खिलाफ वायरल हुए बयान के बाद कांग्रेस नेता रफीक मंडेलिया ने बयान को विरोधियों की ओर से तोड़ मरोड़ कर पेश करना बताया। इस संबंध में उन्होंने ब्लॉक कांग्रेस कार्यालय में पत्रकार वार्ता आयोजित कर अपना पक्ष रख स्थिति को साफ करने का प्रयास किया। मंडेलिया ने कहा कि मैने किसी जाति विशेष पर कोई टिप्पणी नहीं की है। यदि किसी जाति धर्म को ठेस पहुंची तो इसके लिए वे माफी मांगते हैं। मेरे बयान का अर्थ ये था कि कांग्रेस के जिलाध्यक्ष निष्क्रिय हैं। वे सक्रिय नहीं है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी के जिलाध्यक्ष से उनके पारिवारिक संबंध हैं। उनका आदर व स्वागत करता हूं। विपक्षी पार्टी के लोग बयान को जातिवाद का रूप देकर जहर घोलने का कार्य कर रहे हैं। गौरतलब है कि ब्लॉक कांग्रेस कार्यालय में हुई चूरू शहर व देहात कांग्रेस की बैठक में रफीक मंडेलिया ने बयान दिया था कि कांग्रेस जिलाध्यक्ष मरा हुआ है। वह केवल नाम के ही हैं। कांग्रेस के लिए कार्य नहीं करने वाले भाजपा में चले जाएं।

 

डरते हैं राठौड़ से
मंडेलिया ने बैठक में कहा था कि प्रदेश कांगे्रस कमेटी में १७ सदस्य हैं। जिसमें नौ चूरू के हैं, लेकिन चूरू ब्लॉक कांग्रेस की बैठक में केवल एक ही आए हैं। बाकी आठ पीसीसी सदस्य बैठक में नहीं आते, क्योंकि राजेंद्र राठौड़ नाराज हो जाएंगे। वे लोग राठौड़ से डरते हैं। मंडेलिया ने बैठक में ये भी दोहराया था कि यह मेरा घर नहीं यह चूरू के कांग्रेस कार्यकर्ताओं का बनाया हुआ है। मेरा निजी घर रतनगढ़ में है। जिस दिन किसी बड़े नेता की बैठक कांग्रेस कार्यालय में होती है तो वह लोग पहुंच जाते हैं। उन्होंने कहा था कि पार्टी उपाध्यक्ष हाजी मकबूल मंडेलिया, हमीदा बेगम, रेहाना रियाज, रियाजत खान, रणजीत सातड़ा किसी को भी टिकट दे। वे नोट, वोट व सोट तीनों तरीकों से साथ देंगे। इसमें वे पीछे नहीं हटेंगे।

Madhusudan Sharma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned