scriptNegligence - people are craving for water drop by drop, while the wate | Negligence - बूंद-बूंद पानी को तरस रहे लोग, वहीं पाइप लाइन लीकेज से व्यर्थ बह रहा पानी | Patrika News

Negligence - बूंद-बूंद पानी को तरस रहे लोग, वहीं पाइप लाइन लीकेज से व्यर्थ बह रहा पानी

चूरू (बीदासर). भीषण गर्मी में एक तरफ लोग बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं। वहीं लापरवाही के चलते पाइप लाइन लीकेज होने के कारण हजारों की लीटर पानी व्यर्थ बह रहा है। पानी को लेकर कस्बे में हाहाकार मचा हुआ है। दूसरी तरफ जलदाय विभाग के अधिकारियों की लापरवाही के चलते पाइप लाइनों में लीकज के चलते हजारों लीटर पानी व्यर्थ बह रहा है। जलदाय विभाग कार्यालय के नाक नीचे ही तीन माह से लीकेज के चलते पानी सड़कों पर बह रहा है। यही हाल दड़ीबा बस स्टेण्ड के पास है।

चुरू

Published: May 07, 2022 12:29:03 pm

चूरू (बीदासर). भीषण गर्मी में एक तरफ लोग बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं। वहीं लापरवाही के चलते पाइप लाइन लीकेज होने के कारण हजारों की लीटर पानी व्यर्थ बह रहा है। पानी को लेकर कस्बे में हाहाकार मचा हुआ है। दूसरी तरफ जलदाय विभाग के अधिकारियों की लापरवाही के चलते पाइप लाइनों में लीकज के चलते हजारों लीटर पानी व्यर्थ बह रहा है। जलदाय विभाग कार्यालय के नाक नीचे ही तीन माह से लीकेज के चलते पानी सड़कों पर बह रहा है। यही हाल दड़ीबा बस स्टेण्ड के पास है। विभागीय अधिकारियों को ध्यान दिलाने के बावजूद भी लीकेज को सही नहीं किए जा रहे हैं। एक तरफ जहां पेयजल की बर्बादी हो रही है।
दूसरी तरफ आमजन एक-एक बूंद जमा करने के लिए मशक्कत कर रहे हैं। लोग पीने के पानी की तलाश में हाथों में मटके लिए भटकते फिर रहे है। कस्बे की बिगड़ी पेयजल व्यवस्था से कस्बेवासियों में जलदाय विभाग के अधिकारियों के प्रति रोष बढ़ता जा रहा है। हालात यह है कि कस्बे में पांच से सात दिनों में पेयजल की सप्लाई हो रही है। वहीं पशु पालको के हालात और भी खराब है। पशु पालक पशुओं को पानी पिलाने के लिए ऊंचे दामो पर पानी के टैकंर खरीद कर आपूर्ति पूरी कर रहे हैं। सुजानगढ़. एक तरफ नहर बंदी के कारण शहरवासी पीने के पानी के लिए त्राही-त्राही कर दर-दर भटक रहे है वहीं दूसरी ओर जलदाय विभाग की लापरवाही का नमूना गुरुवार को देखने को मिला। हनुमान धोरा स्थित बड़ी टंकी के पास लगे वॉल की खराबी से तीन घंटे तक इतना पेयजल बहकर 500 मीटर दूर लुहारागाड़ा में एकत्रित होता रहा। विभागीय अधिकारियो ने बाद में टीम भेजकर लीकेज को ठीक कराया।
पाइप लाइन की मरम्मत के लिए अभियान शुरू
लाडनूं. शहर में पेयजल आपूर्ति सुधारने के लिए जलदाय विभाग की ओर से चॉक पाइप लाइन की मरम्मत की अभियान शुरू किया गया। शुक्रवार को आधी पट्टी, नाईयों का बास, पुराना पारीकों का बास आदि क्षेत्रों में अवरूद्ध पाइपों को निकालकर नए पाइप लगाए गए। क्षेत्र के घरों में लम्बे समय बाद पेयजल आपूर्ति शुरू हुई। लाइनमैन जितेन्द्र माली ने बताया कि क्षेत्र में फ्लोराईड की अधिकता के कारण इनमें 80 प्रतिशत फ्लोराईड जम गया और लाइन चॉक हो गई थी। जिसे अब ठीक कर दिया गया है। गौरतलब है कि लाडनूं में पेयजल की समस्या के निराकरण को लेकर विधायक मुकेश भाकर एवं पीएचईडी के अधिशाषी अभियंता जेके चारण निरंतर प्रयासरत है। चारण ने बताया कि शहरी क्षेत्र में सप्लाई के लिए काम आने वाले बंद पड़े 10 ट््यूब वैल को शुरू करवाने के लिए वित्तीय स्वीकृति प्रदान के लिए कहा है , जिससे नहरबंदी के समय में पेयजल आपूर्ति में 24 से 36 घंटे का सुधार हो पाएगा।

Negligence - बूंद-बूंद पानी को तरस रहे लोग, वहीं पाइप लाइन लीकेज से व्यर्थ बह रहा पानी
Negligence - बूंद-बूंद पानी को तरस रहे लोग, वहीं पाइप लाइन लीकेज से व्यर्थ बह रहा पानी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

PM Modi In Telangana: 6 महीने में तीसरी बार तेलंगाना के CM केसीआर ने एयरपोर्ट पर PM मोदी को नहीं किया रिसीवMaharashtra Politics: संजय राउत का बड़ा दावा, कहा-मुझे भी गुवाहाटी जाने का प्रस्ताव मिला था; बताया क्यों नहीं गएक्या कैप्टन अमरिंदर सिंह बीजेपी में होने वाले हैं शामिल?कानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशानाउदयपुर हत्याकांड के दरिदों को लेकर आई चौंकाने वाली खबरSingle Use Plastic: तिरुपति मंदिर में भुट्टे से बनी थैली में बंट रहा प्रसाद, बाजार में मिलेंगे प्लास्टिक के विकल्पपाकिस्तान में चुनावी पोस्टर में दिख रहीं सिद्धू मूसेवाला की तस्वीरें, जानिए क्या है पूरा मामला500 रुपए के नोट पर RBI ने बैंकों को दिए ये अहम निर्देश, जानिए क्या होता है फिट और अनफिट नोट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.