LOCK-DOWN- 41वें दिन खुले बाजार, सोशल डिस्टेंसिंग भूले लोग

कोरोना वायरस एवं लोकडाउन अन्तर्गत चार मई को दी गई छूट के दौरान बाजारों में भीड़ उमड़ पड़ी। हालांकि सुबह आठ से दोपहर एक बजे तक बाजार खुले। लेकिन दिनभर मुख्य बाजार एवं सड़कों पर वाहन दौड़ते भी नजर आए। प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन के लगातार कोरोना वायरस को लेकर आमजन को समझाइश करने या लोकडाउन की पालना करने की हिदायत के बावजूद जैसे ही छूट मिलते ही एडवाइजरी को भूला दिया।

By: Vijay

Published: 05 May 2020, 07:05 PM IST

सादुलपुर (चूरू). कोरोना वायरस एवं लोकडाउन अन्तर्गत चार मई को दी गई छूट के दौरान बाजारों में भीड़ उमड़ पड़ी। हालांकि सुबह आठ से दोपहर एक बजे तक बाजार खुले। लेकिन दिनभर मुख्य बाजार एवं सड़कों पर वाहन दौड़ते भी नजर आए। प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन के लगातार कोरोना वायरस को लेकर आमजन को समझाइश करने या लोकडाउन की पालना करने की हिदायत के बावजूद जैसे ही छूट मिलते ही एडवाइजरी को भूला दिया। बाजार में आने वाले लोगों ने मास्क भी नहीं लगाए थे। दुकानों में सैनेटाइजर व सोशल डिस्टेंसिंग का अभाव देखा गया। गली-मौहल्लों सहित शीतला बाजार, घंटाघर के पास, बस स्टैण्ड, रेलवे स्टेशन आदि अनेक स्थानों पर लोगों की भीड़ रही। ऐसा लग रहा था, जैसे कोरोना वायरस का खात्मा हो गया हो। हालांकि पुलिस अधिकारी व कर्मचारी की ड्यूटी पहले की तरह ही देखी गई तथा शहर में गश्त भी जारी रही। कृषि उपज मंडी में सीमावर्ती हरियाणा एवं झुंझुनूं जिले के लोग भी मंडी में सब्जी खरीदने के लिए पहुंच गए थे। ऐसे हालात में जनता को मिली छूट किसी बड़े संकट को आमंत्रित कर रही है।
सोशल डिस्टेंसिंग का नहीं रखा ध्यान
सुजानगढ़. प्रशासन, पुलिस व व्यापारिक संगठनों के मध्य 30 अप्रेल को बाजार में दुकाने खुलने को लेकर बनी सहमति की लगातार दो दिनों से धज्जियां उड़ती दिखाई दीं। स्टेशन रोड, दिखनादा बाजार, गांधी चौक, अगुना बाजार, आथूणा बाजार, बस स्टैंड सहित अन्य स्थानों पर पिछले चार दिनों से दोनों तरफ की दुकानें खुलने से लोगों की भीड़ जुट गई। इस दौरान सोशल डिस्टेसिंग की पालना नहीं हुई। पुलिस के वाहन निरन्तर घूमते यह नजारा देखते रहे लेकिन टोकाटाकी नहीं की गई। सोमवार को सुबह ज्यादातर दुकाने ंखुलीं। ऐसी चर्चा है कि राजनैतिक रस्साकशी के चलते दोनों तरफ की दुकानें खोली गई। सोमवार को एसडीएम डा. रतनकुमार स्वामी, डीएसपी नरेन्द्रकुमार शर्मा, आयुक्त बसन्तकुमार सैनी, थानाधिकारी मनोज चौधरी, तहसीलदार अमरसिंह, व्यापारिक संगठन प्रतिनिधि दिनेश तंवर, खुशीराम चांदरा, प्रदीप तोदी की बैठक पुराने थाना परिसर में हुई। जिसमें 30 अप्रेल को हुए निर्णय (एक तरफी दुकाने 10 से 2 बजे तक तीन दिन खोलने) को दोहराया। इसके बाद अधिकारी वर्ग का काफिला बाजार में निर्णय की माइक से जानकारी देने निकला। इसके बाद एक तरफ के दुकानदारों को समझाईश कर दुकाने बंद कराई। उधर, कातर व्यापार मंडल के सदस्यों की सोमवार को सांडवा पुलिस कर्मियों के साथ बैठक सम्पन्न हुई। जिसमें बाजार सुबह 8 से 12 बजे तक खोलने का निर्णय किया गया। यह भी निर्णय लिया कि जिस ग्राहक नहीं होगा उसको सामान नहीं दिया जाएगा।
12 बजे ही करवानी पड़ी दुकानें बंद
तारानगर. सरकार की ओर से लॉकडाउन में ग्रीन जोन में आने वाले क्षेत्रों में दुकानें खोलने की छूट देने के बाद सोमवार को सुबह कस्बे में दुकानदारों ने अपनी दुकानें खोली। काफी दिनों के बाद दुकानें खुलने के कारण बाजार में लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। दुकानें खुलने के प्रथम दिन ही लोग सोशल डिस्टेंसिंग की धजियां उड़ाते दिखे। लोग सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखे बिना ही सामान खरीदते नजर आए। दुकानों के आगे हैंडवॉश व सेनेटाईजर रखे नहीं दिखाई दिए। अधिकांश दुकानदारों ने दुकान खोलने की सरकार की ओर से जारी की गई गाईडलाईन की पालना नही की। बाजार खुलने की सूचना पर काफी लोग बेवजह ही घरों से निकल आए। बाजार में लोग पैदल व वाहनों पर घूमने शुरू हो गए। अनेक लोग बिना मास्क के ही बाजार में घूमते नजर आए। बाजार व दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नही होने के कारण पुलिस प्रशासन को आवश्यक वस्तुओं की दुकानों को छोड़कर कस्बे की अन्य सभी दुकानों को दोपहर 12 बजे ही बंद करवाना पड़ा। थानाधिकारी राधेश्याम थालौड़ ने कस्बे में एनाउंसमेंट कर दुकानों को आगामी आदेश तक बंद करने के निर्देश दिए।

Show More
Vijay Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned