स्प्रिट से खेत में नकली शराब बनाकर करता था बिक्री

Rakesh gotam

Publish: Jun, 14 2018 02:38:48 PM (IST)

Churu, Rajasthan, India
स्प्रिट से खेत में नकली शराब बनाकर करता था बिक्री


आबकारी पुलिस को नहीं लगी भनक

सादुलपुर.

 

गांव मानपुरा स्थित खेत में बनाई गई नकली शराब पीने से दो सगे भाईयों सहित एक अन्य की मौत मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। आरोपी मानपुरा निवासी महेन्द्र जाट पिछले कुछ माह से स्प्रिट से नकली शराब बनाकर कर क्षेत्र में बिक्री कर रहा था। गांव में शराब की दुकान भी खोल रखा था। शराब बनाने में सहयोग करने पर आरोपित महेन्द्र मृतक सतवीर को कुछ पव्वे बेचने के लिए मुफ्त में देता था। मौत बांटने का यह काला खेल कई महीनों से चल रहा था लेकिन इस बात की भनक न तो आबकारी पुलिस को लगी और न ही राजस्थान पुलिस को। जबकि क्षेत्र में आबकारी विभाग का थाना भी है जिसमें एक थानाधिकारी, एक जमादार व १० सिपाही कार्यरत हैं। नकली शराब ने जब तीन लोगों की जान ले ली तब पुलिस व आबकारी विभाग की नींद खुली। मामले की रातोरात जांच की तो सारा काला खेल सामने आ गया।

 

पुलिस ने नकली शराब बनाने के मुख्य आरोपी मानपुरा निवासी महेंद्र को बुधवार को गिरफ्तार कर लिया। वहीं आबकारी विभाग के अतिरिक्त संभागीय आयुक्त बीकानेर प्रेमसिंह मावर ने मामले को गंभीरता से लेते हुए सादुलपुर आबकारी थाने के प्रहराधिकारी भगवती प्रसाद व कांस्टेबल छोटूराम को निलंबित कर दिया। इससे पहले मंगलवार देर रात जिला कलक्टर मुक्तानंद अग्रवाल ने भी गांव मानपुरा पहुंचकर स्थिति की जायजा लिया। वहीं लापरवाही बरतने पर एसपी राहुल बारहट ने ददरेवा चौकी प्रभारी मो. शमशाद व बीट कांस्टेबल पारस कुमार को निलंबित कर दिया। दोनों को चूरू पुलिस लाइन लगाया गया है।

 

ददरेवा पुलिस चौकी से छह किमी दूर बनती थी अवैध शराब:

गौरतलब है कि ददरेवा पुलिस चौकी से छह किमी दूर खेतों में कई महीनों से स्प्रिट से अवैध शराब बन रही थी और आस-पास गांवों में बेची भी जा रही थी। गांव में शराब ठेके की आड़ में खुद की बनाई नकली शराब की बिक्री करता था। बुधवार को डीएसपी सुरेन्द्रचंद्र जांगिड़ व थानाधिकारी भगवानसहाय मीणा ने आरोपी महेंद्र को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि कुछ माह से अपने खेत में स्प्रिट मिलाकर नकली शराब बनाता था। जिसमें उसका भाई सतवीर भी पूरा सहयोग करता था। घटना के दिन भी महेंद्र ने ने खुद खेत में शराब बनाई थी। लेकिन चौकी स्टाफ को इसकी भनक तक नहीं लगी। यह एक बड़ा सवाल है।

 

नई बोतलों में डालता था नकली शराब:

थानाधिकारी ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी महेन्द्र नकली रैपर, नकली ढक्कन व बोतलों में खुद की बनाई गई नकली शराब को उनमें भर देता और असली बनाकर बेच देता था। आरोपी को न्यायालय में पेश कर रिमांड पर लिया जाएगा। इसके बाद ही सामने आएगा की आरोपी स्प्रिट, बोतल व रैपर कहां से लाता था और कितने में लाता था।
इधर, प्रशासन ने मृतकों के परिजनों को मुख्यमंत्री सहायता कोष से ५०-५० हजार रुपए देने, परिजनों को पालनहार योजना में एक-एक हजार रुपए, विधवा पेंशन व खाद्य सुरक्षा योजना का लाभ देने की भी घोषणा की है।

 

नकली शराब रखने वालों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश

अतिरिक्त आबकारी आयुक्त मावर ने आबकारी विभाग के अधिकारियों की बैठक ली। जिसमें उन्होंने अवैध शराब पकड़ो अभियान चलाने, आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज करने, शहर की कच्ची बस्तियों में हरियाणा निर्मित शराब की बिक्री करने वालों के खिलाफ कठोर कार्रवाई के निर्देश दिए। उन्होंने इसके लिए चार टीमों का गठन भी किया है। आबकारी निरीक्षक सुजानगढ़, रतनगढ़, सादुलपुर व चूरू के नेतृत्व में टीम बनाई गई है।

 

इनका कहना
मामले में आरोपी महेंद्र को गिरफ्तार कर मामला दर्ज कर लिया गया है। आरोपित ने प्रारंभिक पूछताछ में नकली शराब बनाना स्वीकार किया है। कोर्ट में पेश कर पुलिस रिमांड पर लेंगे।
सुरेशचंद्र जांगिड़, पुलिस उप अधीक्षक, सादुलपुर

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned