दस माह बाद स्कूलों में हुई पढ़ाई

कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन लगाए जाने के बाद स्कूलों में छाई वीरानी ठीक दस माह बाद खुशियों में तब्दील हो गई। अवसर था विद्यालय खुलने का।

By: Madhusudan Sharma

Published: 19 Jan 2021, 09:52 AM IST

चूरू. कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन लगाए जाने के बाद स्कूलों में छाई वीरानी ठीक दस माह बाद खुशियों में तब्दील हो गई। अवसर था विद्यालय खुलने का। 9वीं से 12वीं तक के स्कूल सोमवार को खुले। ऐसे में स्कूलों का माहौल कुछ बदला हुआ नजर आया। मुंह पर मास्क, स्कूल गेट पर पहुंचते ही सैनेटाईज किया। फिर कक्षाओं में उन्हें दूरी बनाकर भेजा और वहां भी दोस्तों की एक फीट की दूरी रही। पहले दिन कुछ स्कूल सुबह 9 बजे तो ज्यादातर 9:30 बजे खुले। अब ये कक्षाएं नियमित संचालित की जाएगी। स्कूलों के एंट्री गेट पर हैंड सैनिटाइजेशन की व्यवस्था भी नजर आई। स्कूलों में ऑनलाइन कक्षाएं भी ऑफलाइन के साथ चलेगी। यानी जो स्टूडेंट्स स्कूल आने के इच्छुक नहीं हैं, वे घर बैठकर ऑनलाइन क्लास ज्वाइन कर सकेंगे। सुबह साढ़े नौ बजे जैसे ही स्कूल खुला तो पारख बालिका माध्यमिक विद्यालय की बालिकाओं ने स्कूल की सीढ़ीयों के धोक लगाई। मत्था टेका और मंगल कामना के साथ कक्षा में प्रवेश किया।
सरदारशहर. तहसील के कुल 93 स्कूल हंै। जिसमें कुल 16 हजार 646 विद्यार्थी अध्ययनरत हंै। जिसमें पहले दिन सोमवार को 11 हजार 232 विद्यार्थी उपस्थित हुए। विकास अधिकारी दुर्गाराम पारीक ने राउमावि फोगा का निरीक्षण किया। कक्षा 9, 10, 11 व 12 में कुल नामांकित बच्चे 422में से 316 विद्यार्थी उपस्थित मिले। इस अवसर पर सिया हरी परिवार फोगा की ओर से 500 मास्क विद्यालय को भेंट किए। हरि परिवार के शिवप्रसाद, बजरंगलाल कठोतिया का विद्यालय के प्रधानाध्यापक जुगलकिशोर पारीक, बीडीओ दुर्गाराम पारीक, ग्राम विकास अधिकारी लूणाराम सैनी ने आभार जताया।
सादुलपुर. राउमावि में सुबह दस बजे विद्यार्थी मास्क लगाकर स्कूल पहुंचे। मोहता कन्या बालिका विद्यालय में एंट्री प्वांइट पर सोशल डिस्टेसिंग बनाई । संस्था प्रधान डा.सुमन जाखड़ ने बताया कि जो छात्राएं किसी कारणवश स्कूल नहीं आ सकीं, उनको स्माइल प्रोग्राम के तहत ऑनलाइन अध्ययन करवाने की भी व्यवस्था की गई है।
सुजानगढ़. लंबे अर्से के बाद प्रथम दिन स्कूल पहुंचने वाले बच्चों के चेहरो पर मुस्कान व जिज्ञासा की सोमवार को नजर आई। नयाबास के एवरग्रीन पब्लिक सैकेण्डरी स्कूल में सुबह पहुंचे तब स्कूल स्टाफ सदस्य पूरी तैयारी के साथ खड़े होकर विद्यार्थियों का इंतजार कर रहे थे।
शिक्षक कनक स्वामी एक हाथ में तापमापी यंत्र व एक हाथ में सैनेटाइजर से हर विद्यार्थी का तापमान मापा। व्यवस्थापक रतन सेन ने कोरोना गाइड लाइन दोहराई। कक्षा 9 के विद्यार्थी नरेन्द्र के साथ उसके दादा बाबूलाल गुर्जर भी पहुंचे जबकि कक्षा 10 के यश शर्मा के साथ उसके पिता सुनील शर्मा आए। कक्षा 9 व 10 में कुल 40 विद्यार्थी है जिनमें से आज 50 प्रतिशत बच्चों की उपस्थिति रही।
तारानगर. कोरोना महामारी के बाद कई महीनों से सुनसान पड़े स्कूलों में सोमवार को फिर से घंटी बजने से रौनक लौट आई। मॉडर्न स्कूल के निदेशक पोकरराम पूनिया ने बताया कि गाईडलाईन के मुताबिक स्कूल में 40 प्रतिशत बच्चों को बुलाया गया। बच्चों व शिक्षकों को अनिवार्य मास्क पहने रखने की हिदायत दी गई है।
राजलदेसर. राजकीय बालिका उमावि की प्रधानाचार्या सबिता ने बताया कि सोमवार को 10वीं व 12वीं की कक्षाएं लगाई गई । जिनमें 10वीं की कुल 206 छात्राओं में से 151 व 12वीं कला वर्ग की कुल 120 छात्राओं मे से 76 तथा विज्ञान वर्ग की कुल 13 में से 12 छात्राएं उपस्थित रही। मंगलवार को 9वीं व 11वीं की कक्षा लगाई जाएगी। राउमावि के प्रधानाचार्य जेपी प्रजापत ने बताया कि सोमवार को 9 वीें व 11 वीं की कक्षाएं लगाई गई । नौ वीं में कुल 144 में से 41 छात्र व 11वीं में कुल 193 मे से 79 छात्र उपस्थित रहे ।
साहवा. सुभाषचन्द्र बोस शिक्षण समूह के निदेशक डा. रणधीरसिंह ढाका ने बताया कि कोविड-19 के वायरस से बचाव के लिए समूह के सभी प्रभागों में सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने, मास्क व हैण्ड सेनेटराईज की व्यवस्था की गई है। विद्यार्थी मास्क लगाए नजर आए। कक्षा में भी सोशल डिस्टेंस का ध्यान रखा गया।

Madhusudan Sharma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned