scriptThe result of Churu was 96.69 percent in the arts category | कला वर्ग में 96.69 प्रतिशत रहा चूरू का परिणाम | Patrika News

कला वर्ग में 96.69 प्रतिशत रहा चूरू का परिणाम

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से सोमवार को परिणाम जारी कर दिया है। इसमें चूरू जिले की बेटियां, बेटों से इस बार भी आगे रही। परिणाम में उनका 1.88 प्रतिशत परिणाम ज्यादा रहा है।

चुरू

Published: June 07, 2022 10:02:49 am

चूरू. राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से सोमवार को परिणाम जारी कर दिया है। इसमें चूरू जिले की बेटियां, बेटों से इस बार भी आगे रही। परिणाम में उनका 1.88 प्रतिशत परिणाम ज्यादा रहा है। जैसे ही परिणाम आया। सभी के चेहरे खुशी से खिल उठे। विद्यार्थियों में उत्साह रहा। बेहतर परिणाम पर मिठाई खिलाकर खुशी का इजहार किया। चूरू जिले के कला वर्ग के परिणाम की बात करें तो ओवर आल परिणाम 96.69 प्रतिशत रहा है। जानकारी के अनुसार 12वीं कला वर्ग में कुल 25 हजार 102 विद्यार्थी पंजीकृत हुए थे। इनमें से 12 हजार 552 लड़के और 12 हजार 195 लड़कियों सहित कुल 24 हजार 747 विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए। इनमें लड़के 6726 प्रथम व 4791 द्वितीय रहे, जबकि 504 लड़के तृतीय श्रेणी से पास हुए। कुल 12 हजार 21 लड़के पास हुए। जिनका परिणाम प्रतिशत 95.77 रहा। इसी प्रकार लड़कियों में प्रथम8977 और द्वितीय 2733 और तृतीय 198 रहीं। कुल 11 हजार 908 लड़कियां उत्तीर्ण हुई। जिनका परिणाम प्रतिशत 97.65 रहा। लड़कियों का 1.88 प्रतिशत लड़कों से अधिक रहा है। वर्ष 2020 से तुलना की जाए तो इस बार कला वर्ग के परिणाम में बेहतर सुधार सामने आया है। इस बार शिक्षक और विद्यार्थियों की कडी मेहनत के कारण परिणाम में 5.24 प्रतिशत वृद्धि के साथ सुधार हुआ है।
आईएएस बनकर करना चाहती है सेवा
चूरू. राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की सीनियर सैकंडरी कला वर्ग का परीक्षा परिणाम सोमवार को जारी हो गया। जिला मुख्यालय में इंडियन पब्लिक सीनियर सैकंडरी स्कूल की छात्रा कामिनी बलारा ने सर्वाधिक 97.60 प्रतिशत अंक प्राप्त कर परचम लहराया है। निदेशक राजवीरङ्क्षसह धायल ने बताया कि गांव बीनासर के किसान मूलचंद बलारा की पुत्री कामिनी बहुत की मेहनती व होनहार विद्यार्थी रही है। इस मौके पर कामिनी ने बताया कि सफलता के लिए लक्ष्य निर्धारित किया जाना चाहिए। फील्ड कोई भी हो यदि उद्ेश्य निर्धारित नहीं हो तो सफलता नहीं मिलती। इसके लिए कड़ी मेहनत की जरूरत होती है। शुरू से ही होनहार रही कामिनी ने कहा कि जीवन में किसी भी काम को करने के लिए निरंतरता और एकाग्रता का होना बेहद जरूरी है। यदि ये दोनों चीजे किसी विद्यार्थी के पास है तो सफलता कदम चूमती है। उन्होंने कहा कि वह भविष्य में आईएएस बनकर देश सेवा करना चाहती है। जरूरतमंदों की मदद कर उन्हे न्याय दिलाने की कोशिश करेंगी। कामिनी की माता चंद्र बाला गृहिणी है। उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय इंडियन पब्लिक स्कूल के निदेशक राजवीर ङ्क्षसह धायल व मेहनती स्टाफ को दिया। कामिनी के गांव बीनासर में उत्साह का माहौल है।
जिले में श्रेणी वार उत्तीर्ण विद्यार्थी
प्रथम 15703
द्वितीय 7524
तृतीय 702
कुल 23929
वर्ष वार परिणाम
वर्ष प्रतिशत राजस्थान में स्थान
2015 86.09 7वां
2016 89.71 चतुर्थ
2017 91.13 चतुर्थ
2018 91.04 छठा
2019 87.67 18वां
2020 91.45 15वां

कला वर्ग में 96.69 प्रतिशत रहा चूरू का परिणाम
कला वर्ग में 96.69 प्रतिशत रहा चूरू का परिणाम

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या का मास्टरमाइंड नागपुर से गिरफ्तार, अब तक 7 आरोपी दबोचे गए, NIA ने भी दर्ज किया केसमोहम्‍मद जुबैर की जमानत याचिका हुई खारिज,दिल्ली की अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजाSharad Pawar Controversial Post: अभिनेत्री केतकी चितले ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हिरासत के दौरान मेरे सीने पर मारा गया, छेड़खानी की गईIndian of the World: देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस को यूके पार्लियामेंट में मिला यह पुरस्कार, पीएम मोदी को सराहाGujarat Covid: गुजरात में 24 घंटे में मिले कोरोना के 580 नए मरीजयूपी के स्कूलों में हर 3 महीने में होगी परीक्षा, देखे क्या है तैयारीराज्यसभा में 31 फीसदी सांसद दागी, 87 फीसदी करोड़पतिकांग्रेस पार्टी ने जेपी नड्डा को BJP नेता द्वारा राहुल गांधी से जुड़ी वीडियो शेयर करने पर लिखी चिट्ठी, कहा - 'मांगे माफी, वरना करेंगे कानूनी कार्रवाई'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.