प्रशासन सतर्क, परखेंगे वायु व ध्वनि प्रदूषण का स्तर

प्रशासन सतर्क, परखेंगे वायु व ध्वनि प्रदूषण का स्तर
प्रशासन सतर्क, परखेंगे वायु व ध्वनि प्रदूषण का स्तर

Dilip Sharma | Updated: 11 Oct 2019, 01:24:35 PM (IST) Coimbatore, Coimbatore, Tamil Nadu, India

शहर से सटे तड़ागम इलाके में अवैध ईंट भट्टों और रेत खनन का मामला जोर पकड़ता जा रहा है। बुधवार को तमिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की चल प्रयोगशाला और अधिकारी यहां पहुंचे। उन्होंने कस्बे में प्रदूषण का स्तर जांचने के लिए उपकरण लगाए हैं।

कोयम्बत्तूर. शहर से सटे तड़ागम इलाके में अवैध ईंट भट्टों और रेत खनन का मामला जोर पकड़ता जा रहा है। बुधवार को तमिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की चल प्रयोगशाला और अधिकारी यहां पहुंचे। उन्होंने कस्बे में प्रदूषण का स्तर जांचने के लिए उपकरण लगाए हैं।
चेन्नई से टीम आने की खबर सुनकर प्रकृति प्रेमी और गैर सरकारी संगठनों के कार्यकर्ता भी वहां पहुंच गए। उन्होंने टीम को बताया कि तड़ागम घाटी को अवैध खनन और ईंट भट्टों ने बर्बाद कर दिया है। यह इलाका एक दशक पहले तक वन्य जीवों का बसेरा था। वे प्राण बचाकर भाग लिए। भूले भटके आने वाले हाथियों को खदेड़ दिया जाता है। लेकिन अब खतरा आम लोगों के जीवन पर है। उन्होंने बताया कि नियमानुसार पट्टा भूमि पर अधिकतम 2 मीटर या 6 .8 फीट गहराई तक रेत नहीं खोदी जा सकती, लेकिन तड़ागम घाटी में 8 0 से 120 फीट गहराई तक से मिट्टी निकाली जा चुकी है। उन्होंने कहा कि यहां सख्त कार्रवाई की जरूरत है, मगर प्रशासन लीपा पोती में लगा है। माफिया आवाज उठाने वालों के साथ मारपीट तक कर देते हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned