सीएए से नहीं छिनेगी नागरिकता: राधाकृष्णन

आरएसपुरम पोस्ट ऑफिस सर्किल पर श्रद्धांजलि सभा - नागरिकता संशोधन कानून (सीएए ) के समर्थन व कोयम्बत्तूर में 1998 में हुए बम ब्लास्ट में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि देने के लिए भारतीय जनता पार्टी व अन्य हिंदू संगठनों द्वारा शुक्रवार को रैली निकाली गई।

कोयम्बत्तूर. नागरिकता संशोधन कानून (सीएए ) के समर्थन व कोयम्बत्तूर में 1998 में हुए बम ब्लास्ट में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि देने के लिए भारतीय जनता पार्टी व अन्य हिंदू संगठनों द्वारा शुक्रवार को रैली निकाली गई। रैली अविनाशी विश्वविद्यालय के बाहर से शाम चार बजे रवाना हुई। जो मेट्टूपालयम रोड से टीवी स्वामी रोड आरएसपुरम पोस्ट आफिस सर्किल पर संपन्न हुई। यहां एक श्रद्धांजलि सभा आयोजित की गई। सभा के बाद पुलवामा में गत वर्ष आज ही के दिन हुए हमले में मारे गए सीआरपी सैनिकों के लिए दो मिनट का मौन रखा गया।

श्रद्धांजलि सभा को संबोधित करते हुए पूर्व केन्द्रीय मंत्री पी. राधाकृष्णन ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून समस्त चर्चा के बाद पारित किया गया है। इसे सभी को मानना होगा। इससे किसी भी भारतीय को अपनी नागरिकता संबंधी कोई परेशानी नहीं होगी। कानून की मंशा किसी की नागरिकता छीनना नहीं है। जो लोग अवैध रूप से भारत में रह रहे हैं उनकी स्थिति स्पष्ट हो जाएगी। सभा को शहर जिला भाजपा अध्यक्ष नंद कुमार, विहिप के प्रांतीय सचिव एडवोकेट केटी. राघवन तथा तमिलनाडू व कैरल के प्रदेश संयोजक पीएम. नागराजन ने संबोधित किया। इस मौके पर महासचिव वनपति श्रीनिवास, कोषाध्यक्ष एसआर शेखर, हिंदु मुन्नई प्रदेश अध्यक्ष कदेसवाड़ा सुब्रमण्यम ने भी विचार व्यक्त किए।
साढ़े तीन हजार सुरक्षाकर्मी तैनात
जिला कमिश्नर सुमित शरण के निर्देशन पर रैली के मद्देनजर शहर में सुबह से ही विशेष सुरक्षा उपाय किए गए। स्थानीय पुलिस, महिला पुलिस, आरएएफ सहित अन्य सुरक्षा ऐजेंसी व मोबाइल वैन ३५०० सुरक्षाकर्मी रैली मार्ग पर तैनात किए गए।
रैली मार्ग को खाली कराया
मेट्टूपालयम रोड से शुरू हुई रैली के लिए एक ओर के मार्ग को सील कर दिया गया था। दोनों ओर सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए। पुलिस की पैट्रोलिंग भी पूरे इलाके में की गई थी। खोजी श्वान, आरएएफ की टुकडिय़ां तैनात की गईं। सादी वर्दी में भी सुरक्षाकर्मी चप्पे-चप्पे पर तैनात रहे।

कई जगह लोगों को करना पड़ा इंतजार
मेट्टूपालयम रोड के दोनों ओर खुलने वाले रास्तों को बंद कर देने से लोगों को इंतजार करना पड़ा। बेरिकेडिंग व रिबन बांध कर रैली के गुजरने तक आवागमन पर रोक रही। इससे पहले राधाकृष्णनन ने रैली को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया।
हर बार इजाजत नहीं
पत्रकारों से बातचीत में राधाकृष्णनन ने कहा कि पहले जुलूस की अनुमति नहीं मिलने के कारण गिरफ्तारियां होती थी। इस बार शांतिपूर्ण ढंग से जुलूस निकाले जाने की अनुमति दी गई। गौरतलब है कि आडवाणी की आमसभा से पूर्व यहां हुए सीरीयल बम धमाकों में 58  लोगों की जानें गईं थीं। हमले में मारे गए लोगोंं को सभा के बाद श्रद्धांजलि दी गई।

सीएए से नहीं छिनेगी नागरिकता: राधाकृष्णन
Dilip Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned