आचार संहिता लागू , नहीं हुई कलक्ट्रेट में जनसुनवाई

जिला मुख्यालय पर हर सोमवार को आयोजित होने वाली जनसुनवाई के लिए आए लोगों को इस बार निराश लौटना पड़ा।समस्या समाधान के लिए जिले भर से कोयम्बत्तूर पहुंचे लोगों को बताया गया कि ग्राम पंचायत के चुनावों का कार्यक्रम घोषित होने के साथ ही आचार संहिता लागू हो गई है।

By: Dilip

Published: 03 Dec 2019, 02:24 PM IST

कोयम्बत्तूर. जिला मुख्यालय पर हर सोमवार को आयोजित होने वाली जनसुनवाई के लिए आए लोगों को इस बार निराश लौटना पड़ा।समस्या समाधान के लिए जिले भर से कोयम्बत्तूर पहुंचे लोगों को बताया गया कि ग्राम पंचायत के चुनावों का कार्यक्रम घोषित होने के साथ ही आचार संहिता लागू हो गई है। इसलिए अब अगले आदेश तक जनसुनवाई रद्द रहेगी।
कोयम्बत्तूर कलक्ट्रेट में हर सोमवार को जनसुनवाई में कलक्टर के साथ ही सभी विभागों के अधिकारी मौजूद रहते हैं।जिले के दूरस्थ इलाकों तक से लोग गांव-देहात की समस्या के साथ , सरकारी विभागों की लेटलतीफी के कारण अटके कामों के बारे में अपनी बात अधिकारियों के सामने रखते हैं। कई लोग पुलिस, दबंग, सूदखोरों से त्रस्त हो कर आते हैं। यहां तक कि अपने परिजनों की उपेक्षा के शिकार बुजुर्ग दम्पती तक कलक्ट्रेट में गुहार लगाने पहुंचते हैं।यहां उनकी बात सुनी जाती है और कार्रवाई का भरोसा दिया जाता है।इस सोमवार को भी बड़ी संख्या में लोग आए, लेकिन निराश लौट गए। गांवों से पहुंचे लोगों ने बताया कि वे सुबह ही रवाना हुए थे। तीन घंटे का सफर भी तय किया। आने -जाने का किराया लगा और यहां पता लगा कि जनसुनवाई रद्द हो गईहै। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को पता है कि हर सोमवार को पूरे प्रदेश में जिला मुख्यालय ों पर जनसुनवाईहोती है। बड़ी संख्या में लोग आते हैं। इनमें महिलाएं होती है। समूह में लोग आते है। कई दिहाड़ी मजदूर काम छोड़ कर आते हैं। सरकार को चुनाव कार्यक्रम की घोषणा ही करनी थी तो शाम को कर सकती थी। सोमवार के अलावा अन्य दिन की जा सकती थी। इस तरह सरकार को कोसते हुए लोग लौट गए।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned