राम जन्म पर भक्तों ने मनाई खुशी

राजस्थानी ब्राह्मण संघ की ओर से एडियार स्ट्रीट में चल रही रामकथा महोत्सव के दौरान मंगलवार को रामजन्म का प्रसंग सुनाया गया।

कोयम्बत्तूर.राजस्थानी ब्राह्मण संघ की ओर से एडियार स्ट्रीट में चल रही रामकथा महोत्सव के दौरान मंगलवार को रामजन्म का प्रसंग सुनाया गया। कथा के दौरान राम जन्म की झांकी व कलाकारों की ओर से सुंदर झांकी की प्रस्तुति दी गई। रामकथा गुजरात के कथा वाचक दीपक भाई शास्त्री की ओर से सुनाई जा रही है। कथा का समापन १८ जनवरी को किया जाएगा। इस मौके पर कथा वाचक ने भजनों की प्रस्तुति देकर श्रद्धालू भाव विभोर हो गए। .मुनि संयमप्रभु विजय ने कहा है कि वचन सिद्ध पुरुष बनने के लिए मित:, पथ्य और सत्य बोलना चाहिए, जो वाणी प्राणी मात्र के लिए हितवादी, दोषरहित, सीमित परिमित हो ऐसी वाणी बोलना चाहिए। मुनि मंगलवार को आरजी स्ट्रीट स्थित सुपाश्र्वनाथ मंदिर के आराधना भवन में प्रवचन कर रहे थे। उन्होंने कहा कि संसार में बड़े-बड़े विग्रहों के कारण ढंूढेंगे तो पता चलेगा कि बोलना नहीं आया और युद्ध छिड़ गया।उन्होंने कहा कि भाषा में दो प्रकार की शक्ति है। एक सृजन की और दूसरी संहार की।मन, वचन और काया में वचन दोनों का सेतु है।मुनि ने कहा कि नहीं बोलने से जितना बिगड़ता है। उससे कहीं अधिक बोलने से बिगड़ जाता है।वाणी आग भी लगा सकती है और बाग भी लगा सकती है। सभा में आचार्य कीतिप्रभु सूरिश्वर ने कहा कि जिन शासन में दीक्षा अनमोल मार्ग है।आध्यात्मिक उन्नति पाने के लिए दीक्षा का मार्गउत्तम है।दीक्षा से ही मुक्ति संभव है। उन्होंने कोयम्बत्तूर -आहोर के बागरेचा परिवार के पांचों दीक्षार्थियों के सम्बन्ध में कहा कि ये आत्मिक उत्थान के मार्ग पर अग्रसर हैं।

पंचान्हिका महोत्सव आज से
आचार्य के सानिध्य में बुधवार से पंचान्हिका महोत्सव का आयोजन होगा। सुबह साढ़े आठ बजे सिद्धचक्र महापूजन व शाम साढ़े सात बजे भक्ति संगीत होगा।

Rahul sharma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned