आहार का असर तन के साथ मन पर भी

आहार का असर तन के साथ मन पर भी
आहार का असर तन के साथ मन पर भी

Dilip Sharma | Updated: 23 Sep 2019, 11:45:43 AM (IST) Coimbatore, Coimbatore, Tamil Nadu, India

मानव अन्य प्राणियों की अपेक्षा विकसित व श्रेष्ठ है। सोचने व समझने के लिए मन व बुद्धि है। बुद्धि के बल से भविष्य के हित व अहित पर विचार कर सकता है। किसी भी कार्य को शुरू करने व उसके परिणाम की गहराई तक सोचने की शक्ति मनुष्य में होती है।

कोयम्बत्तूर. मानव अन्य प्राणियों की अपेक्षा विकसित व श्रेष्ठ है। सोचने व समझने के लिए मन व बुद्धि है। बुद्धि के बल से भविष्य के हित व अहित पर विचार कर सकता है। किसी भी कार्य को शुरू करने व उसके परिणाम की गहराई तक सोचने की शक्ति मनुष्य में होती है। आहार के अनुसार भी वह सोच- समझ सकता है। यह बात जैन आचार्य विजय रत्नसेन सूरीश्वर ने कही। वे रविवार को बहुफणा पाश्र्वनाथ जैन ट्रस्ट की ओर से चल रहे चातुर्मास कार्यक्रम के तहत कोजी टावर में आहार क्यों और कैसे - विषय पर संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मनुष्य के पास विवेक की शक्ति होती है जिसके आधार पर वह आचरण भी कर सकता है। पशु पक्षियों का जीवन वर्तमान जीवी होता है ।वे आगे पीछे की नहीं सोच सकते। उन्हें तो कौनसा भोजन खाने योग्य नहीं है इसका भी अनुमान नहीं होता। विवेक नहीं होने से उनके सामने कुछ भी वस्तु डालेंगे वह मुंह मार देेंगे। मानव आहार के क्षेत्र में विवेक के चक्षु का इस्तेमाल कर सकता है। उसके सामने कुछ भी रखने पर वह विवेक के आधार पर निर्णय करता है। उन्होंने कहा कि जो भी हम खाते हैं ।उसके गुण धर्मों का असर मन, चित्त विचारों पर हुए बिना नहीं रह सकता।

उन्होंने कहा कि कुछ लोग कहते हैं भोजन का संबंध शरीर से है आत्मा से नहीं। भोजन का शरीर पर प्रभाव पड़ता है इसका उदाहरण मदिरा है। किसी को मदिरा पिलाने पर उसका शरीर वश में नहीं रहता। विवेकशील प्रवृत्ति नष्ट हो जाती है। वह कुछ भी बोलने लगता है। दूसरी ओर बुद्धिवर्धक वस्तु का उपयोग करने का परिणाम भी स्पष्ट नजर आता है। कहावत भी है जैसा खाए अन्न वैसा हो मन। किशोर भाई ने तमिल भक्तों के लिए प्रवचन को तमिल भाषा में भी समझाया। इससे पहले चंद्रप्रकाश, कमलेश मेहता, रेणु देवी श्रीश्रीमाल ने आचार्य की अगवानी की। २४ सितम्बर से वर्धमान तप प्रारंभ होगा।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned