कर्मों का बंधन मोक्ष में बाधक

कर्मों का बंधन मोक्ष में बाधक

Kumar Jeevendra | Publish: Jul, 20 2019 12:00:35 PM (IST) Coimbatore, Coimbatore, Tamil Nadu, India

जो वस्तु हल्की होती है उसका स्वभाव उध्र्वगामी होता है। जैसे हाईड्रोजन गैस से भरा गुब्बारा ऊपर की ओर ही उड़ता है।

कोयम्बत्तूर. जो वस्तु हल्की होती है उसका स्वभाव उध्र्वगामी होता है। जैसे हाईड्रोजन गैस से भरा गुब्बारा ऊपर की ओर ही उड़ता है। भगवान महावीर से प्रश्न किया गया था कि आत्म तत्व जब हल्का है तो यह उध्र्वगमन करने के बजाए अधोगमन क्यों कर रहा है, इस पर उन्होंने कहा - कर्मों के भार के कारण आत्म तत्व बोझिल हो जाता है तो यह अधोगामी बन जाता है।
यह बात विचार पकंज मुनि ने कही। वे शुक्रवार को ओपनकारा स्ट्रीट opencara street स्थित जैन स्थानक Jain sthanak में चातुर्मास धर्मसभा में प्रवचन कर रहे थे। ऋग्वेद का प्रसंग सुनाते हुए उन्होंने कहा कि वृक्ष पर दो पक्षी बैठे हैं ।एक फल खा रहा था दूसरा केवल देख रहा था। जो पक्षी आहार करेगा वह निहार भी करेगा पर जो केवल देख रहा है वह इस प्रक्रिया से मुक्त रहेगा।
उन्होंने कहा कि संसार एक वृक्ष है। जो पक्षी आहार, निहार की प्रक्रिया में लिप्त है ।वह संसार आत्मा का प्रतीक है। जो पक्षी केवल देख रहा है वह ज्ञाता द्रष्टा रूप सिद्ध आत्मा का रूप है। मुनि ने कहा कि एक सूखे तुम्बे को पानी में छोड़ा जाए तो वह तैरता है। लेकिन उस पर मिट्टी का लेप व रस्सी का बंधन बांध दिया जाए तो वह पानी मेंं डूब जाता हैं। ऐसे ही आत्म तत्व का स्वभाव संसार रूपी सरोवर में तैरना है , लेकिन आठ कर्मों के लेप व बंधन के कारण यह भारी होकर मंझधार में जन्म -मरण रूपी गोते खा रहा है।
Coimbatore धर्मसभा में डा. वरुण मुनि ने कहा कि आज यू ट्यूब, व्हाट्स एप, फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्वीटर व इंटरनेट जैसे संसाधनों से व्यक्ति के पास पूरी दुनिया का ज्ञान है लेकिन व्यक्ति खुद से अंजान है। दिन भर वह अनेक लोगों से बात करता है लेकिन खुद से बात करने का समय नहीं निकाल पाता। इंसान का खुद से खुद मुलाकात करना जरुरी है। उन्होंने कहा कि सत्संग, स्वाध्याय, ज्ञान -ध्यान, जप-तप व मौन साधना के द्वारा भीतर की आवाज सुनें। इसी में चातुर्मास की सार्थकता है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned