कोरोना वारियर्स ; हर समय दांव पर लगी रहती है जान

लोगों की जान बचाना हमेशा से हमारा काम रहा है। जैसे देश को सुरक्षित रखने के लिए हमारे जवानों की जान दाव पर लगी रहती है, फिर भी वह खुद की फिक्र किए बिना देश को बचाने में लगे रहते हैं। यह बात परिवार वालों को समझाना इतना आसान नहीं था। यह कहना है शहर के डॉक्टर अरुल का जो कोरोना पॉजिटिव मरीजों की देखभाल और इलाज के लिए रात दिन एक कर रहे हैं।

By: Dilip

Published: 18 Apr 2020, 01:54 PM IST

कोयम्बत्तूर. लोगों की जान बचाना हमेशा से हमारा काम रहा है। जैसे देश को सुरक्षित रखने के लिए हमारे जवानों की जान दाव पर लगी रहती है, फिर भी वह खुद की फिक्र किए बिना देश को बचाने में लगे रहते हैं। यह बात परिवार वालों को समझाना इतना आसान नहीं था। यह कहना है शहर के डॉक्टर अरुल का जो कोरोना पॉजिटिव मरीजों की देखभाल और इलाज के लिए रात दिन एक कर रहे हैं। उनका कहना है कि संक्रमण से प्रभावित लोगों के बीच रहने से पत्नी को थोड़ी सी फिक्र रहती है फिर भी उन्हें समझा देते हैं कि एक डॉक्टर का काम ही लोगों की जान बचाना है। बात चाहे कोरोना की हो या अन्य गंभीर बीमारी। कोरोना से लोग काफी भयभीत थे, लेकिन उसे भी हम लोग नियंत्रण में लाए। तो इससे भी लड़कर रहेंगे और जीतेंगे भी। मेरी बेटी भी एक डॉक्टर है तो उसकी मदद से में अपनी पत्नी को समझा पाता हूँ। लेकिन इन सबके बीच सावधानी भी बहुत रखनी होती। मरीजों का इलाज करते वक्त अपनी और टीम की सुरक्षा पर भी ध्यान दिया जाता है, क्योंकि टीम की सुरक्षा भी हमारी जिम्मेदारी है। कोरोना पॉजिटिव होने वाले मरीजों में शारीरिक कमजोरी से ज्यादा जान खोने का डर रहता है, लेकिन उन्हें हम समझाते रहते हैं कि इसे भी मात देकर हम वापस जी सकते हैं। जब मरीज ठीक होने लगता है तो हर दिन उसकी हिम्मत बढऩे लगती है। उन्हें देखकर हमें भी हिम्मत मिलती है।

Dilip Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned