तंजावुर इलाके में प्रवासियों की एक दर्जन दुकानों पर जड़े ताले

पुलिस व तमिल व्यवसायियों ने दिया सुरक्षा का भरोसा - तंजावुर और पुदुकोट्टई इलाके में तमिल देसिया कच्ची के कार्यकर्ताओं(टीडीके) ने उत्तर भारतीयों के यहां के व्यवसाय व सरकारी नौकरी पर काबिज होने का आरोप लगाते हुई प्रवासियों की एक दर्जन दुकानों पर ताले जड़ दिए। उन्होंने दुकानों पर पम्पलेट भी चस्पां किए हंै, उनमें प्रवासियों को लौट जाने की चेतावनी दी है।

By: Dilip

Published: 06 Jan 2020, 12:26 PM IST

कोयम्बत्तूर. तंजावुर और पुदुकोट्टई इलाके में तमिल देसिया कच्ची के कार्यकर्ताओं(टीडीके) ने उत्तर भारतीयों के यहां के व्यवसाय व सरकारी नौकरी पर काबिज होने का आरोप लगाते हुई प्रवासियों की एक दर्जन दुकानों पर ताले जड़ दिए। उन्होंने दुकानों पर पम्पलेट भी चस्पां किए हंै, उनमें प्रवासियों को लौट जाने की चेतावनी दी है। टीडीके की सीधी कार्रवाई से प्रवासियों में सुरक्षा को लेकर चिन्ता व्याप्त है। हालांकि पुलिस प्रशासन ने ताले तुड़वा दिए व दुकानदारों से निर्भीक होकर व्यवसाय करने को कहा है। सूत्रों ने बताया कि टीडीके करीब एक पखवाड़े से ही इस तरह की पम्पलेट बाजी कर रही थी। शनिवार सुबह तो तंजावुर, पुदुकोट्टई व आसपास के गांवों में प्रवासियों की करीब एक दर्जन दुकानों पर ताले लगे मिले थे। साथ में यहां पम्पलेट चिपके हुए थे। टीडीके कार्यकर्ताओं का आरोप है कि उत्तर भारतीयों ने इलाके के सभी प्रमुख व्यवसाय कपड़े से लेकर इलेक्ट्रॉनिक्स, ज्वैलरी आदि पर कब्जा कर लिया है। यहां तक कि फुटपाथ तक नहीं छोड़े हैं। फुटकर व्यवसाय पर भी इनका आधिपत्य बढ़ता जा रहा है। उनका कहना है कि केन्द्र सरकार के रेलवे व अन्य उपक्रमों में उत्तर भारतीयों को नौकरियां मिल रही हैं। इनमें आरक्षण कोटे के पदों पर अधिकांश उत्तर भारतीय हैं, जबकि स्थानीय युवा बेरोजगार घूम रहे हैं। इनकी वजह से यहां का व्यवसाय प्रभावित हो रहा है। तिरीचि के एक प्रवासी व्यवसायी ने बताया कि टीडीके कार्यकर्ताओं की कार्रवाई का स्थानीय तमिल व्यवसायियों ने भी विरोध किया। वे उत्तर भारतीयों के साथ मजबूती से खड़े हैं और पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराने भी तमिल व्यापारी साथ गए थे। प्रवासी व्यवसायी ने बताया कि कुछ युवा है। ये करीब एक पखवाड़े से ऐसा माहौल बना रहे हैं, पर स्थानीय लोग पूरी तरह इनके खिलाफ हैं। पुलिस प्रशासन ने उत्तर भारतीयों को आश्वस्त किया है कि डरें नहीं। ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned