अधिकांश दुकानें बंद, भीड़ से कतरा रहे लोग

अधिकांश दुकानें बंद, भीड़ से कतरा रहे लोग

By: Rahul sharma

Published: 24 Mar 2020, 10:39 AM IST

कोयम्बत्तूर. कोरोना से भयभीत जनता ने मान लिया है कि बचाव ही उपचार है। इसी वजह से रविवार को कफ्र्यू के बाद सोमवार को अंचल में अधिकांश दुकानदारों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे। सड़कों पर आम दिनों के बजाय लोग कम थे। बसें भी खाली नजर आई। सक्षम लोगों ने करीब १० दिन का रसद जमा कर लिया। सोमवार को अंचल के माहौल से साफ नजर आया कि जनता ने मानसिक रूप से खुद को लॉक डाउन के लिए तैयार कर लिया है। हालांकि जिला कलक्टर के राजमणि ने कहा कि कोयम्बत्तूर जिले को लॉक डाउन करना पड़े ऐसे हालात नहीं है। कोरोना के प्रसार को रोकने के सभी उपाय किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि सिनेमा हॉल व माल पहले से ही बंद हैं। अब जिला होटलियर्स एसोसिएशन ने 31 मार्च तक जिलेभर के होटल और रेस्तरां बंद रखने का फैसला किया है। प्लाई व हाडऱ्वेयर व्यापारियों ने स्वत: ही दुकानें नहीं खोली। कलक्टर ने लोगों से आग्रह किया कि किसी भी तरह की बैठक बाजी से बचें। उन्होंने बताया कि कोयम्बत्तूर जिले में अभी तक कोरोना पॉजिटिव का एक ही मामला सामने आया है। स्पेन से लौटी पीडि़ता को ईएसआई अस्पताल में रखा गया है। चिकि त्सा विभाग पूरी सतर्कता बरत रहा है। पीडि़ता के माता -पिता व बहन की जांच की जा रही है। उसे घर से अस्पताल ले कर आए टैक्सी चालक के रक्त व थूक के नमूने लिए हैं। इसके अलावा वह जिस विमान से बेंगलुरु पहुंची, उसके यात्रियों का पता लगाया जा रहा है। पीडि़ता बेंगुलुरी से ट्रेन से कोयम्बत्तूर आई व जिस कूपे में थी। साथ के यात्रियों का पता लगाया जा रहा है।

माता-पिता व बहन की जांच रिपोर्ट नेगेटिव

कोयम्बत्तूर में रविवार को मिली कोरोना संक्रमित मिली युवती को माता-पिता व बहन की जांच रिपोर्टनेगेटिव मिलने पर प्रशासन ने राहत की सांस ली है।हांलाकि स्पेन से लौटी युवती कोयम्बत्तूर में जिन रिश्तेदारों से मिली , उनकी जांच रिपोर्ट अभी तक नहीं मिली है।युवती का यहां के ईएसआई अस्पताल में उपचार किया जा रहा है।

Rahul sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned