राजस्थानियों को बंधी उम्मीद, बिहार के कामगारों का भी एक जत्था रवाना

ट्रेन रविवार को सहरसा पहुंचेगी। ट्रेन में सभी प्रवासियों को भोजन और पानी उपलब्ध कराया गया था। उन्हें टोकन जारी किए गए और नल्लायन मैरिज हॉल में ले जाया गया, जहां उनकी गिनती की गई। इसके बाद वे रेलवे स्टेशन पहुंचे।यहां परीक्षण के बाद उन्हें ट्रेन में चढऩे की अनुमति दी गई। जिला कलक्टर राजमणि, जिला राजस्व अधिकारी रेलवे स्टेशन पर मौजूद थे।

By: Dilip

Published: 10 May 2020, 12:09 PM IST

कोयम्बत्तूर. कोयम्बत्तूर से एक ट्रेन उत्तरप्रदेश के प्रवासियों को लेकर गोरखपुर रवाना हुई। सुबह करीब १० बजे जब उत्तरप्रदेश के कामगारों को मोबाइल पर संदेश मिला तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

ट्रेन रविवार को सहरसा पहुंचेगी। ट्रेन में सभी प्रवासियों को भोजन और पानी उपलब्ध कराया गया था। उन्हें टोकन जारी किए गए और नल्लायन मैरिज हॉल में ले जाया गया, जहां उनकी गिनती की गई। इसके बाद वे रेलवे स्टेशन पहुंचे।यहां परीक्षण के बाद उन्हें ट्रेन में चढऩे की अनुमति दी गई। जिला कलक्टर राजमणि, जिला राजस्व अधिकारी रेलवे स्टेशन पर मौजूद थे।इस दौरान कलक्ट्रेट और लंका कॉर्नर के बीच यातायात रोक दिया गया। उल्लेखनीय है कि प्रवासियों को भेजने की शुरुआत गुरुवार से हुई थी। पहली श्रमिक स्पशेल ट्रेन ओडिसा जानी थी। 1140 उडिय़ा प्रवासी स्टेशन पहुंच गए।वे आवश्यक जांच आदि के इंतजार में थे। तभी उन्हें बताया गया कि ट्रेन नहीं जाएगी। इसका कारण ओडिसा उच्च न्यायालय का निर्देश था, उसके अनुसार पहले सभी को कोरोना टेस्ट कराना होगा। इस बीच राजस्थान के कामगारों को उम्मीद है कि एक-दो दिन में हमारे लिए भी विशेष ट्रेन संचालित हो सकती है। इंटीरियरर के काम से जुड़े मारवाड़ के प्रवासियों ने बताया कि उन्होंने बैग-सूटकेस तैयार कर रखा है। मोबाइल पर मैसेज का इंतजार है।कभी भी घंटी बज सकती है।

Dilip Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned