गरीब सवर्णों के लिए 28 फीसदी कट ऑफ माक्र्स का विरोध

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की लिपिक संवर्ग की नियुक्ति में आर्थिक रुप से पिछड़ों सवर्णों के लिए 28 फीसदी कट ऑफ माक्र्स का थंथाई पेरियार द्रविड़ कषगम(टीपीडीके)ने विरोध किया है।

कोयम्बत्तूर. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की लिपिक संवर्ग की नियुक्ति में आर्थिक रुप से पिछड़ों सवर्णों के लिए 28 फीसदी कट ऑफ माक्र्स का थंथाई पेरियार द्रविड़ कषगम(टीपीडीके)ने विरोध किया है। इस सम्बन्ध में गुरुवार को संगठन के महासचिव रामाकृष्णन ने कहा कि इसका असर पिछड़े वर्ग के अभ्यर्थियों पर पड़ेगा।उन्होंनआरोप लगाया कि चूंकि बैंकों में 50 प्रतिशत कर्मचारी उच्च जाति के है। उन्होंने मनमाने ढंग से कट ऑफ माक्र्स तय कराएं हैं। महासचिव ने कहा कि इसका व्यापक विरोध किया जाएगा। इसके लिए समान विचार वाले संगठनों को एकजुट करेंगे। उल्लेखनीय है कि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने ८६०० लिपिक पदों के लिए भर्ती निकाली है।

सूने मकान से आभूषण और नकदी चोरी

कोयम्बत्तूर. शहर के बाहरी इलाके चिन्नातड़ागम में अज्ञात ने एक सूने घर से नकदी और आभूषण चुरा लिए। पुलिस के मुताबिक मुत्तुलक्ष्मी (60 ) घर के पास ही दुकान करती है। घटना के समय मुत्तुलक्ष्मी घर के दरवाजे पर ताला लगाकर चाबी को खिड़की के पास रखकर दुकान चली गई थी। दोपहर में जब वह खाना खाने लौटी तो घर के अंदर जाने पर अलमारी को खुला पाया। अलमारी में रखे छह सवरन के स्वर्णाभूषण और एक लाख रुपए नकद गायब थे। मुत्तुलक्ष्मी की शिकायत पर पुलिस मामला दर्ज कर जांच कर रही है।

कुमार जीवेन्द्र झा Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned