स्टालिन त्रासदी पर नहीं करें राजनीति

मुख्यमंत्री पलनीस्वामी ने मंगलवार को नाड्डूर पहुंच कर
१७ मृतकों के परिजनों को ढांढ़स बंधाया। उन्होंने कहा कि दु:ख की इस घड़ी में सरकार आपके साथ हैं। मुख्यमंत्री ने आर्थिक सहायता चार लाख से बढ़ा कर १० लाख करने की घोषणा की।

कोयम्बत्तूर. मुख्यमंत्री पलनीस्वामी ने मंगलवार को नाड्डूर पहुंच कर
१७ मृतकों के परिजनों को ढांढ़स बंधाया। उन्होंने कहा कि दु:ख की इस घड़ी में सरकार आपके साथ हैं। मुख्यमंत्री ने आर्थिक सहायता चार लाख से बढ़ा कर 10 लाख करने की घोषणा की।
उन्होंने कहा कि आश्रितों को सरकारी नौैकरी दी जाएगी। जिनके मकान ढहे हैं, उन्हें नए मकान दिए जाएंगे।
साथ ही घटना स्थल के आसपास के जर्जर मकानों की जगह पक्के मकान बनाए जाएंगे। मुख्यमंत्री के साथ उप मुख्यमंत्री पन्नीरसेल्वम, नगर निकाय मंत्री एसपी वेलुमणि, सांसद व विधायक भी थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे प्रदेश में निचले इलाकों, नदी किनारे और असुरक्षित परिस्थितियों में रहने वाले लोगों के लिए सरकार पक्के मकान बना कर देगी।
इस बारे में सरकार नीतिगत निर्णय कर चुकी है। पलनीस्वामी ने हादसे को दर्दनाक बताते हुए कहा कि सरकार पीडि़तों का दु:ख कम करने की कोशिश कर रही है। उन्होंने बताया कि हादसे की वजह बनी दीवार के मकान के मालिक शिवसुब्रमण्यम को गिरफ्तार कर लिया गया हैं। जांच और रिपोर्ट के आधार पर कानून के अनुसार कार्रवाई की जाएगी।
पत्रकारों ने डीएमके प्रमुख स्टालिन के हादसे के लिए प्रशासन को जिम्मेदार बताने के बयान पर मुख्यमंत्री ने कहा कि वे हमेशा सरकार को कोसते रहते हैं। आम जनता व मीडिया भी जानती है कि वे हर मुद्दे का राजनीतिकरण करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि भारी बारिश के कारण दीवार गिरने से हादसा हुआ। इसमें सरकार कहां शामिल हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned