महापुरुषों की शिक्षाएं महामारी रोकने में कारगर

मौजूदा समय में संगठित होने की आवश्यकता है। गरीब अमीर के फासले को हटाकर सिर्फ मानवता को मन में जाग्रत करने का समय आ गया है। हमने अब तक स्वयं को ईष्र्यालु झगड़ालु व अभिमानी बनाया है, लेकिन अब वक्त आ गया है हमें परमात्मा महावीर व अन्य महापुरुषों के आदर्शों का पालन करना होगा।

By: brajesh tiwari

Published: 10 May 2020, 01:26 PM IST

सेलम. मौजूदा समय में संगठित होने की आवश्यकता है। गरीब अमीर के फासले को हटाकर सिर्फ मानवता को मन में जाग्रत करने का समय आ गया है। हमने अब तक स्वयं को ईष्र्यालु झगड़ालु व अभिमानी बनाया है, लेकिन अब वक्त आ गया है हमें परमात्मा महावीर व अन्य महापुरुषों के आदर्शों का पालन करना होगा। आज वैज्ञानिक भी उन्हीं बातों को दोहरा रहे हैं। यह बात जैन मुनि हितेशचंद्र विजय ने कही। वह यहां प्रभु जिन मंदिर में ध्वजारोहण समारोह के मौके पर धर्मसभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आज समाज भगवान महावीर, बुद्ध, राम व कृष्ण की करुणा वाली राह पर चलता तो कोरोना जैसा रोग आता ही नहीं। उन्होंने कहा कि जिन शासन में ध्वजा का बहुत महत्व है। ध्वजा का शिखर पर लहराना ही शासन की प्रगति का मार्ग प्रशस्त करता है। उन्होंने कहा कि आज हम सभी को प्रार्थना करनी है कि संसार में कोरोना जैसी बीमारी का अंत हो और राष्ट्र में खुशहाली प्रसन्नता का माहौल और राष्ट्र पुन: समृद्ध बने। धर्मसभा के बाद मांगलिक कराई गई। कार्यक्रम के बाद अमर ध्वजा के लाभार्थी संघवी प्रकाशराज राजमल गोल परिवार का अभिनंदन किया गया। आदिनाथ नया जैन मंदिर ट्रस्ट के मनोहर कुमार, सोहनलाल व बाबूलाल ने लाभार्थी परिवार का बहुमान किया। पूजा का विधान प्रकाश गुरू ने करवाया। सकल संघ ने जैन मुनियों से आगामी चातुर्मास सेलम में करने का आग्रह भी किया गया।

brajesh tiwari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned