तीन साल बाद हटा आरसीए का प्रतिबंध, अब जयपुर में हो सकते है मैच

आरसीए को बीसीसीआई ने मई 2014 में ललित मोदी के दोबारा इसका अध्यक्ष चुने जाने के बाद निलम्बित कर दिया था। नि

By: Kuldeep

Published: 12 Dec 2017, 11:06 AM IST

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम टेस्ट बिरादरी में शामिल सबसे नए सदस्य अफगानिस्तान की उसके पहले टेस्ट मैच की मेजबानी करेगी। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने सोमवार को इसकी घोषणा की। बीसीसीआई के कार्यकारी सचिव अमिताभ चौधरी ने यहां आयोजित विशेष आम बैठक के बाद कहा कि इस ऐतिहासिक टेस्ट की तारीख की घोषणा बाद में की जाएगी।

भारत को घर में इंग्लैंड, आस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेलना है।
चौधरी ने कहा कि नए फ्यूचर टूर्स प्रोग्राम (एफटीपी) के मुताबिक 2019 से 2023 के बीच भारत तीन फारमेट में 81 मैचों की मेजबानी करेगा। चौधरी ने यहां संवाददाताओं से कहा, "अफगान टीम को अपना पहला टेस्ट मैच 2019 में आस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलना है लेकिन अफगानिस्तान के साथ ऐतिहासिक सम्बंधों को देखते हुए हमने अफगान टीम की पहले टेस्ट में मेजबानी करने का फैसला किया है। नए एफटीपी के मुताबिक भारत को घर में इंग्लैंड, आस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेलना है।

बीसीसीआई ने इस शर्त पर हटाया प्रतिबंध
एसजीएम में लिए गए अहम फैसलों में बीसीसीआई द्वारा राजस्थान क्रिकेट संघ (आरसीए) पर लगा प्रतिबंध हटाना प्रमुख है। बीसीसीआई ने इस शर्त पर राजस्थान आरसीए पर लगा प्रतिबंध हटा दिया है कि आईपीएल के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी इसके संचालन से दूर रहेंगे। बीसीसीआई के कार्यकारी अध्यक्ष सीके खन्ना ने सोमवार को आयोजित बोर्ड की विशेष आम बैठक के बाद आईएएनएस से कहा, "हां, कुछ शर्तो के साथ आरसीए पर लगा प्रतिबंध हटा दिया गया है।

ललित मोदी के दोबारा अध्यक्ष चुने पर निलम्बित किया गया था
आरसीए को बीसीसीआई ने मई 2014 में ललित मोदी के दोबारा इसका अध्यक्ष चुने जाने के बाद निलम्बित कर दिया था। निलम्बन के बाद से आरसीए का कामकाज बीसीसीआई देख रहा है। आरसीए ने इस निलम्बन के खिलाफ अपील की थी, जिसमें बोर्ड ने कहा था कि वह सभी लम्बित मामलों को वापस ले और बीसीसीआई को किसी अन्य नए मामले में शामिल न करे।

प्रतिबंध हटाने का रास्ता साफ हुआ
सर्वोच्च न्यायलय द्वारा नियुक्त प्रशासकों की समिति (सीओए) ने राजस्थान क्रिकेट का संचालन करने के लिए गठित तदर्थ समिति को पहले ही भंग कर दिया है। इससे आरसीए पर से प्रतिबंध हटाने का रास्ता साफ हुआ। बीसीसीआई ने यह भी फैसला किया कि वह नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी (नाडा) के दायरे में नहीं आएगा। बोर्ड ने कहा कि वह पहले से ही वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी (वाडा) के नियमों का पालन करता आ रहा है।

 

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned