ग्लव्स विवाद पर धोनी को मिला BCCI का साथ, राजीव शुक्ला बोले- बलिदान बैज हटाने की जरूरत नहीं

ग्लव्स विवाद पर धोनी को मिला BCCI का साथ, राजीव शुक्ला बोले- बलिदान बैज हटाने की जरूरत नहीं

Kapil Tiwari | Publish: Jun, 07 2019 01:06:14 PM (IST) | Updated: Jun, 07 2019 02:52:35 PM (IST) क्रिकेट

  • दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 'बलिदान बैज' वाले ग्लव्स पहनकर उतरे थे धोनी
  • ICC ने की थी BCCI से शिकायत
  • BCCI ने धोनी का दिया साथ, शिकायत को किया खारिज

नई दिल्ली। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के विकेटकीपिंग ग्लव्स को लेकर हो रहे विवाद पर BCCI ने अपना पक्ष जारी कर दिया है। शुक्रवार को मुंबई में हुई COA की मीटिंग में इस विवाद पर चर्चा हुई, जिसके बाद ये फैसला लिया गया कि माही ने ICC का कोई नियम नहीं तोड़ा है। इस मामले में BCCI ने ICC को एक चिट्ठी लिखी है, जिसमें ये इजाजत मांगी है कि धोनी इस इस Logo को अपने ग्लव्स से ना हटाएं।

ICC ने बीसीसीआई से की थी 'बलिदान बैज' की शिकायत

आपको बता दें कि ICC ने धोनी के ग्लव्स पर सवाल उठाए थे। दरअसल भारत और साउथ अफ्रीका के बीच खेले गए विश्वकप के मुकाबले में धोनी ने अपने दस्तानों पर 'बलिदान बैज' का logo लगाया हुआ था। इसपर आईसीसी ने बीसीसीआई से अपील की कि वह धोनी को इसे हटाने के लिए कहे। ICC की इसी शिकायत पर बीसीसीआई की प्रशासनिक समिति की एक मीटिंग हुई, जिसमें समिति के मुखिया विनोद राय ने कहा, 'हम अपने खिलाड़ियों के साथ खड़े हैं,राय ने कहा कि उनके दस्ताने पर जो निशान है, वह किसी धर्म का प्रतीक नहीं है और न ही यह कोई व्यापारिक चिन्ह है।

धोनी ने नहीं तोड़ा कोई नियम- राजीव शुक्ला

विनोद राय ने कहा कि जहां तक पहले से परमिशन लेने की बात है तो हम इसके लिए आईसीसी से धोनी को दस्तानों के इस्तेमाल को लेकर अपील करेंगे। बीसीसीआई के पूर्व उपाध्यक्ष और IPL चेयरमैन राजीव शुक्ला ने कहा है कि हम धोनी के साथ खड़े हैं, उन्होंने ICC का कोई नियम नहीं तोड़ा है। राजीव शुक्ला ने कहा है कि ICC के नियमों के मुताबिक, धोनी किसी राजनीतिक पार्टी, कोई व्यापारिक प्रचार नहीं कर रहे हैं।

विवाद पर सेना ने भी दिया बयान

धोनी के ग्लव्स को लेकर हुए इस विवाद पर सेना का भी बयान आ गया है। सेना का कहना है कि इसपर कोई टिप्पणी नहीं कर सकते क्योंकि पैरा एसएफ बैज मैरून रंग पर होता है और जिसपर 'बलिदान' लिखा होता है। इसलिए ये कहना कि धोनी ने 'बलिदान' बैज लगा रखा था, गलत है।

धोनी को दी गई थी ले. कर्नल की मानद उपाधि

इस चिह्न का संबंध 'बलिदान ब्रिगेड' से है, जिसे केवल पैरामिलिट्री कमांडो ही धारण कर सकते हैं। आप को बता दें कि पूर्व भारतीय कप्तान एम.एस. धोनी को 2011 में पैराशूट रेजिमेंट में लेफ्टिनेंट कर्नल के मानद उपाधि दी गई थी। उसके बाद 2015 में उन्होंने पैरा ब्रिगेड की ट्रेनिंग भी ली थी।

आईसीसी के नियम नहीं देते अनुमति

अब आईसीसी ने 'बलिदान ब्रिगेड' के इसी चिह्न को धोनी के दस्तानों से हटाने की अपील बीसीसीआई से की है। आईसीसी के नियमों के अनुसार अंतर्राष्ट्रीय मैचों के दौरान ऐसे चिह्नों को धारण नहीं किया जा सकता।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned